Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

मां ऐं सिर्फ मां

advertise here

Advertise Here

मां ऐं सिर्फ मां
एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर 

मां हिकु अहिड़ो अखर आहे जहिं खे इंसानी समाजन में सुठियो न लेखियो वेंदो आहे पर मां इन राय जो आहियां त मां बिना कमु हलण बि नामुमकिन आहे।  दरअसल में इंसानी समाज में मां खे सुठो इन सबब न थो लेखियो वञे छो जो घणा इन्सान अहिड़ा आहिन जेके मां जे हकीकी मतलब खां गैर वाकिफ आहिन।  

जहिं खे मां चयो पियो वञे सा मां असल में बिन जुदा जुदा वज़ूदन जो हिकु थी, हिक बिये जो सहयोग करे कमु करण वारी हिक मां आहे। हिते मां चवण चाहियां थो इहा मां दरअसल असां आहे जेका बिन अलग अलग मां जो संजोग आहे। मज़े जी गालिह आहे त इहे बयी मां अलग अलग वज़ूद में बि रही सघन था पर इन्हन बिनहीं मां जो वज़ूद सिर्फ तडिहिं कारायितो साबित थिये थो जडिहिं इहे हिकु थी मां जो रूप अख्तियार कनि था।  

न सिर्फ ऐतिरो पर इन्हन बिन मां, हिक मां जो वज़ूद असां खे ऐतिरो अणवणन्दड़ आहे जो असां उन खे पहिंजे घर में कुछ किलाक बि रखण पसंद न था कयूं।  बी मां त इंसान में भव पैदा करे थी ऐं हर को इहो चाहे थो इहा बी  मां न त ज़िंदगी जे कहिं मोड़ ते उन सां मिले ऐं न ई इन मां जो संदस ज़िन्दगी में को दखल हुजे। मजो इहो आहे इन्हन बिन अलग अलग मां जे वजूदन खां परे भजण वारो इंसान बिनहीं जे गड़ियल रूप वारी मां जे संतोष लाय हर मुमकिन कोशिश करे थो।

आम तोर इंसान जहिं मां सां वाक़फ़ियत रखे थो ऐं जेका मां इंसान खे पसंद न आहे सा मां जिन बिन अलग अलग मां जो संजोग आहे से आहिन आत्मा ऐं सरीर।  इन्हन में आत्मा रुपी मां जीवन जी निशानी आहे त सरीर रुपी मां कमु करण वारी आहे। इंसान इन्हन बिनहीं जे संजोग मां खे  सिर्फ बेहद घणो प्यार करे थो पर इहो बि चाहे थो, हर मुमकिन कोशिश करे थो त संदस मां सदायीं बियन इन्सानन जी मां खां अगते ऐं उचे स्थान ते रहे।

हाणे डिसो न जडिहिं इहे बयी मां हिक बिये जो साथ छडे पहिंजे शख्सी वज़ूद में अचन थियूं त न सिर्फ इन्हन जा नाला बदलिजी वञन था पर इंसान इन्हन मां खां पाणु बचायिण बि चाहे थो।  बिना आत्मा वारी मां, लाश खे इंसान जेतिरो जल्द मुमकिन हुजे शमशान भूमी पहुचायिण चाहे थो त बिना शरीर वारी मां, प्रेतात्मा सां को बि नातो रखण न थो चाहे।

के विरला ई आहिन जेके समझी सघन था इहे मां , जिनमां हिकु अणवणन्दड़ आहे त बियो भव जो सबब पहिंजे गड़ियल रूप में सन्देश ऐं ज्ञान डियन था इहा मां आहे जेका इंसान खे तरकी लाय हिमथायिण सां गडोगडु समझाये थी त तरकी करण वास्ते बधी ज़रूरी आहे।  सरीर रुपी मां ऐं आत्मा रुपी मां जी बधी ऐतिरी ताक़तवर थी सघे थी जो असां हिंदुन जे विश्वास मूजिब जन्म मरण जे चकर खां मुक्त करे सघे थी।

हाणे इहो सवाल उथण लाज़िमी आहे त जे इहा मां ऐतिरी वधीक कारायिती आहे त पोय इंसानी समाजन में मां खे नापसंद छो पियो कियो वञे ? इहो समझण खां अगु अचो त मां जे किन बियन वजूदन जो विचार कयूं।

जहिं खे असां शादी चवूं पिया सा इन गड़ियल मां जे वज़ूद जो हिकु बियो मिसाल आहे जहिं में ब अलग अलग मां हिकु थियन था। परिवार या कुटुंब बि हिक गड़ियल मां आहे जहिं में केतिरा ई मां जुडियल आहिन।  समाज  बियो कुछ न पर बेशुमार परिवारन जो मेडु आहे।

हिते समझण जी गालिह आहे त हर हिक मिसाल में मां तरकी जी राह ते वधायिण वारी ताक़त  रूप में मौजूद आहे। दरअसल में इहा जेका गड़ियल मां आहे सा हमेशा बिन रूपन में वज़ूद  रही थी।  पहिरियों रूप जहिं में मां जो लाडो आहे त जीयं मुहिंजो आत्मा ऐं सरीर रुपी संजोग तरकी जी राह जो राही बणियो आहे तीयं बिया मां बि तरकी जी राह ते वधन। मां जो  बियो रूप आहे जहिं में मां चाहे थी त तरकी जो हर मुमकिन वझु / राह सिर्फ उनखे ऐं उनखे मिले। हकीकत में मां जे इन बिये रूप खे इंसानी समाजन में नापसंद कियो वेंदो आहे।

जे असां हकिकत में मां सां प्यार कयूं था ऐं चवण चहियूं था "मां ऐं सिर्फ मां" त असांखे न सिर्फ पहिंजे पहिरियें रूप वारे मां  खे सुञाणिणो पवंदो पर उन खे पूरो पूरो मोको डियणो पवंदो त उहो बिये रूप वारे मां  ते पहिंजी हुकूमत कायम करे सघे। सिर्फ इहो ई तरीको आहे कुटुंब परिवार तोड़े समाज में बधी रखी तरकी करण जो त दोस्तों याद रखो मां ऐं सिर्फ मां।