Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

ए जे उत्तम

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – ए जे उत्तम – आसनदास जेठानंद उत्तमचंदानी

सिंधी साहित्य जो जाण ख़ज़ानो [Encyclopedia] - सिंधी लेखक - सिंधी साहित्य जी बुनियाद

ajuttamसिंधी अदब में के विरला अहिडा अदीब थिए आहिन जिनखे सिंधी बोली अं सिंधी साहित्य जी पूजा कन्दडन जी जमात में शामिल करे सघजे। जे वेझे समे जो विचार कजे त जहिं पहिरियें नाले जो तसव्वुर करे सघजे थो सो आहे हैदराबाद सिंध में जन्म वरतल [जन्म तारीख १६ दिसंबर १९२३] आसनदास जेठानंद उत्तमचंदानी जेको ए जे उत्तम जे नाले सां वधीक मशहूर आहे। सिंधी बोली अं सिंधी साहित्य वास्ते संदस बेहद लगाव बाबत हिकु भेरो हिन पाण चयो छो त इन जे पुठियां संदस माउ त आहे ई पर साफु अं सिधो गालिहयिन्दड पिता जो बि वढो हथु आहे। उत्तम जी शयिन खे याद रखण जी बेमिसाल सलाहियत सबब हिनखे सिंधी साहित्य जो जाण ख़ज़ानो [Encyclopedia] जो लकब मिलियो आहे।

१९४१ में पहिंजे स्कूली डींहन जे दौरान हिन कुछ बियिन विद्यार्थियिन जी मदद सां हैदराबाद स्टूडेंट यूनियन ठाही। हिउ उहो समो हो जहिं वक़्त सजे मुल्क में अंग्रेजन जी गुलामी खां आज़ादी हासिल करण जो माहोल हो , मुल्क जी हर कुंड मां महात्मा गांधी जी क्विट इंडिया हलचल जी पुठभरायी थी रही हुयी। आसनदास बि क्विट इंडिया हलचल में बहरो वरतो अं ९ अगस्त १९४२ ते हिन खे गिरफ्तार करे हिक साल वास्ते जेल मोकिलियो वियो।

नवजवान आसनदास सिर्फ १८ सालन जी उमर में कहाणियूं , मज़मून अं वेन्दे सिंधी साहित्य ते खोजनात्मक लेख अं नुकतचीनी जी नज़रसानी लिखण शुरू कयी। हिन जी कॉलेज जी पढ़ायी डी जी नेशनल कॉलेज में शुरू थी जिते हिन १९४६-१९४७ जी कॉलेज मगज़ीन "फुलेली " जे एडिटर जो कमु कियो पर पहिंजी अधूरी अदबी प्यास जी मज़बूरीअ सबब हिन सागे साल १९४६ में हैदराबाद जे कुछ तरकीपसन्द लेखकन अं अदीबन जो ग्रुप ठाहियो अं प्रोफेसर एम यू मलकानी, प्रोफेसर गेहीमल मूलचंदानी, तीर्थ बसंत, कल्याण आडवाणी अं गोबिंद माल्ही जहिडन फेमस सिंधी लेखक, कवी अं कलाकारन सां मेल मुलकात करण लगो।  

हिन जी डेती लेती जे विषय ते लिखियिल "तरकीअ जी राह ते " कहाणीअ संदस जीवन में वढी तबदील आन्दी छो जो नवजवान सुंहणी छोकिरी सुगनी नारवानी हिन जी शैदाई थी पयी।  १४ नवंबर १९४७ ते बिन्ही शादी कयी।  वकतसार इहा सुगनी बि सिंधी अदबी दुनिया में सुंदरी उत्तमचंदानी जे नाले सां मशहूर थी अं सिंधी साहित्य जे नामवर सिंधी नावेल लिखन्दड़न में शामिल थी।  ए जे उत्तम त न पर सुंदरी ज़रूर अकादमी अवार्ड हासिल करण में कामियाब थी। 

मुल्क जे विरहांगे सबब बियिन लखें सिंधियिन वांगुर उत्तमचंदानी कुटुंब बि भारत अचण लाय मज़बूर थियो अं आसनदास १९४९ में पहिंजी अधूरी रहियिल एम ए जी पढ़ायी मुंबई में पूरी कयी।  पढ़ायी पूरी कन्दे ई खेस बॉम्बे सेक्रेटेरिएट में नौकरी मिली पर उन जो सदस्य सिंधी बोली अं सिंधी साहित्य वास्ते लगाव ते को बि असर कोन पियो।  हिन "नई दुनिया " माहवार शुरू कयी सिंधी साहित मंडल जे सेक्रेटरी [अगते हली वाईस प्रेसीडेंट] तौर कमु करण लगो।  सिंधी साहित मंडल खे भारत में सिंधियिन जी पहिरियीं अदबी अं तहजीबी [सांस्कृतिक ] संस्था लेखियो वेन्दो आहे जेका न सिर्फ नवन लेखकन अदीबन खे हिमथाये थी पर सिंधी कौम जे अदबी अं तहज़ीबी वाधारे जो बि खियाल रखे थी।  दर असुल इहो मंडल ही हो जहिं सिंधी बोली खे भारत जे सविधान में मंज़ूर कियिल भाषाउन में शामिल करण वास्ते हलचल हलायी अं इन जी कामियाबी सबब सिंधी भाषा साहित्य अकादमी जे अवार्ड में आल इंडिया रेडियो [हाणे आकाशवाणी ] जे कार्यक्रमन में शामिल थी सघी।

लेखक खां सिवाय हिन बतौर अख़बार नवीस बि सिंधी साहित्य जी सेवा कयी आहे।  १९५९ खां १९६७ तायीं हू हफ्तेवार "सिंधु धारा " जो को-एडिटर, १९७३ खां १९७५ तायीं "सिंधु समाचार " [रोजनो ] जो एडिटर त १९७५-१९७८ "सिंधु संसार " [रोजनो ] जो एडिटर हो। १९५९ में बरपा थियिल अदबी संस्था "अखिल भारत सिंधी बोली अं साहित सभा " जो हू फाउंडर सेक्रेटरी हो।  साल १९७३ में आसनदास वर्ल्ड राइटर कॉन्फ्रेंस वास्ते रशिया वियो जिते हिन खे बियिन भाषाउन जे लेखकन, नारायण सुर्वे [मराठी], भीष्म साहनी [ हिंदी ] अं सुभाष मुखर्जी [बंगाली ] सां मिलण जो मोको मिलियो।  इहो डिसी त हू अज़ब में पयजी वियो त रशियन माणुहुन जी दिलिन में महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू अं इंदिरा गांधी वास्ते न सिर्फ सिक अं प्यार आहे पर उहे भारत जे इन्हन अगुवानन जी बेहद इज़्ज़त बि कन था।

पहिंजे अदबी सफर दौरान ए जे उत्तम १०० खां वधीक कहाणियूं लिखियूं आहिन जिन मां केतिरियूं संदस लिखियिल बिन किताबन "कश्मकश " अं "हू जहान ही मन " में शामिल आहिन।  हिन जो सभ खां वधीक मशहूर किताब आहे "सिंधी कहाणी नाटक अं तनकीदा " इहो सिंधी कहाणीन अं नाटकन जे ऐतिहासिक अं नुकतचीनी निगाह सां मुल्ह जे विषय ते आहे।  हिन जा कुछ किताब त किन यूनिवर्सिटीज में सिंधी जे अध्यासक्रम में बि शामिल आहिन।  ०३ जनवरी २००५ ते हिन जो स्वर्गवास थियो।     

ए जे उत्तम – अदबी योगदान – लिखियिल किताब

१९४७ में लिखियिल पहिरियें किताब "सरहद जो गांधी " अं २००३ जे लिखियिल आखिरी किताब "अदब अं तनक़ीद " जे विच में हिन १९ बिया किताब बि लिखिया आहिन, इन्हन २१ किताबन जा उनवान हेठ डिजन था [in alphabetical order]

अदब अं तनक़ीद
भारत जो दोस्त लेनिन
भारत रूस दोस्ती
फ्रंटियर गांधी
हू जहान ही मन
कशमकश
लेखराज अज़ीज़

महात्मा अं लेनिन
मंघाराम मलकानी
नओं चीन
प्रोफेसर कल्याण आडवाणी
साहित्यिक परख
साहित्य अं साहित्यकार
सरहद जो गांधी

सिंधी कहानी नाटक अं तनक़ीद
सिंधी साहित तनक़ीद
सिंधी साहित्य
सोवियत सुरग
सुजाग सिंध
टैगोर हिक झलक
विजय लक्ष्मी पंडित

ए जे उत्तम – अवार्ड

५६ सालन [१९४७-२००३ ] जे अदबी सफर जे दौरान मुख़्तलिफ़ मोकन ते जिये सिंध सभा,अखिल भारत सिंधी बोली अं साहित सभा अं राम बुक्सानी फाउंडेशन जहिडियिन केतिरिन सिंधी अदबी, तहज़ीबी अं सामाजिक संस्थाउन रोक पंज अं डह हज़ार रूपया डयी हिन जो सत्कार कियो आहे। उत्तम खे जिन अवार्ड सां नवाजियो वियो से आहिन : -

१९९४ डॉ सदारंगानी मैडल
१९९१ अदबी अवार्ड - प्रियदर्शनी अकादमी अं अखिल भारत सिंधी बोली अं साहित सभा पारां [अलग अलग ]
१९७२ अं १९६५ सोवियत लैंड नेहरू पीस अवार्ड