Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

बाबा गेलाराम

advertise here

Advertise Here

जीवनी – संत बाबा गेलाराम

जलगांव - गोदड़ीवाला धाम - फेमस सिंधी संत

gelaramइहा हकीकत में अज़ब जी गालिह आहे त जहिं जी हज़ारे लखें हिक संत जे रूप में पूजा कन्दा हुजन सो संत थियण स्वीकार न करे।  संत बाबा गेलाराम जे व्यवहार जी इहा लासानी खूबी हुयी त हू चाहीन्दा हुआ त माणुहू संदन संत जे रूप में पूजा करण जी जगह ते खेन हिक समाज सुधारक अं इंसानियित जे नीमाणे सेवक जे रूप में याद रखन।

१२ मार्च १९३० ते सिंधु में जन्म वरतल बाबा गेलाराम  जन संत बाबा हरदासराम जिनखे गोदड़ी वारो संत बि सडिबो आहे जा सच्चा शिष्य हुआ। गेलाराम  जो विवाह बिंद्रा देवी सां थियो हो अं मुल्क जे विरहांगे वक़्त जोड़े खे हिक धीउ अं हिक पुट जे रूप में ब बार हुआ। भारत में अचण खां पोय गेलाराम पहिंजे माउ पीउ अं कुटुंब सूधो छत्तीसगढ़ जे भाटापारा में थाईंको थियण वास्ते दुकान खोलियो। हालानिकी हू धंधो पियो करे पर ज़िन्दगीअ जी हर गालिह अं हलत में आध्यात्मिक जीवन लाय चाहु अं परमपिता परमात्मा में अटूट विश्वास नज़र अचण डुखियो कोन हो।  गेलाराम तमाम सदी ज़िन्दगी गुजारीइन्दे सभनी सां निवडत भरी हलत हलन्दो हो।  दुनियावी तौर मुकमल गेलाराम जो दिल अं दिमाग बेक़रार हुआ छो जो संदस दिली चाहत हुयी त समाज जे बुजुर्गन जी सेवा अं समाज जे पुठते पियिल तबके जी सेवा वास्ते हू कुछ कमु करे अं समाज में फैलियिल कुरीतियन अं सामाजिक बुरायिन खे दूर करण जे कम में बहरो वठे।

बाबा हरदासराम अं गेलाराम जी पहिरियिं मुलाकात हिक अजीब संजोग हो छो जो गेलाराम जो विचार हो त खेस राह डेखारिण वास्ते सचो गुरु मिलियो आहे त बाबा हरदासराम जी नज़रउन में पहिंजो वारिस अं दरबार संभाले सघन्दड मिलण जी ख़ुशी हुयी।  गेलाराम खे पहिंजो वारिस ज़ाहिर करण खां अगु बाबा हरदासराम संदस मुख़्तलिफ़ हालतुन में परीक्षा वरती अं ख़ुशीअ जी गालिह जो हर भेरे गेलाराम पहिंजी काबलियित साबित करण में कामयाब थियो।  १८ अक्टूबर १९७७ ते जडिहिं संत फानी दुनिया खां चालनो कियो त गेलाराम खे संदन वारिस अं जलगांव दरबार जे संत जी गदी ते विराजमान किया वियो।  गेलाराम साहिब न सिर्फ बाबा हरदासराम जे शुरू कियिल कमन खे अगते वधायो पर पहिंजे गुरु अं रूहानी रहबर जो नालो अमर रखण वास्ते केतरन ई शहरन में गोदड़ीवाला धाम बरपा किया जेके सामाजिक सुधार अं समाज जे पुठते पियिल तबके जे वाधारे जा कम कन पिया था।

बाबा गेलाराम  साहिब जळगाव जी सेवा समिति खे संत कँवर राम ट्रस्ट जे रूप में बदिलायो जियँ न सिर्फ मंदिर जी संभाल थिये पर बाबा हरदासराम जा शुरू कियिल कम लागीतो हलन्दा रहन।  बाबा गेलाराम जे बेशुमार सामाजिक कमन मां के मुख्य आहिन - गरीब कुटुंबन खे नियाणी जे विवाह वक़्त माली मदद , तंदुरस्ती जी संभाल वास्ते हाणो के युग जी डॉक्टरी सहूलियत मयसर करें डियण, बुजुर्गन खे आरामदायक जीवन गुंजारिण में मदद मिले इन लिहाज खां जलगांव अं बियन शहरन जे बुढा आश्रमन में सहूलियतूं वधायीण अं विवाह जे वक़्त समाज जे पैसे जो गैर उपयोग टारिण जे मकसद सां सामुदायिक विवाह जी रीत शुरू करण। 

जलगांव शहर में बाबा गेलाराम जन जी रूहानी शक्तिअ बाबत केतरयुं गालिहियुं बुधण लाय मिलन थियूं।  संत गेलाराम साहिबन जो डींहु सुबह जो नियम सां गुरु ग्रंथ जी बाणी जे पाठ सां शुरू थींदो हो अं सजो डींहु कमु कन्दे बि गुरबाणी जो जाप हलन्दो रहंदो हो।  चवन था शायद इन्ही जो ई असर हो जो संतन जी वाणीअ में परमात्मा जो निवास थी वियो संत जेको बि चवन्दा हुआ सो सचु थी पवंदो हो।  हिकु भेरो सत्संग वक़्त दरबार जे कहिं सेवादारीअ कहिं बिये शहर में रहन्दड हिक श्रद्धालु खे अधरंग थियण बाबत संतन खे बुधायो तहिं ते बाबा गेलाराम साहिब सत्संग जे विच में ई चयो त हू उन श्रद्धालु खे पहिंजियुं प्राथर्नाऊँ मोकिलन था अं प्रभु कृपा सां हू ठीक थी वेंदो। अज़ब जी गालिह आहे जो जहिं खे डॉक्टर बि जवाब डयी चुका हुआ सो न सिर्फ ठीक थी वियो पर बाकी सजी उमर वरी कडिहिं बीमार कोन थियो।

८ दिसंबर २००८ ते बाबा गेलाराम साहिब जो स्वर्गवास थियो। रिवायती अंतिम संस्कार खां पोय संतन जी हाथियिन जा चार हिसा किया विया। हिक हिसो हिक वढे कलश में अजु बि जलगांव दरबार में संतन जी समाधी जे रूप में मौजूद आहे। बाकी टिन मां हिकु हिकु हिसो हरद्वार में गंगा में, नासिक में गोदावरी में अं इलाहाबाद में संगम [गंगा जमुना अं सरस्वती ] जे पवित्र जल में प्रवाह कियो वियो।