Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

बाबा हरदेव सिंह

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – बाबा हरदेव सिंह

संत निरंकारी मिशन - निरंकारी पंथ - सतगुरु - धन निरंकार 

hardevsingh2संत निरंकारी मिशन जे चौथे सतगुरु अं बाबा अवतार सिंह जी टियीं पीढ़ी सतगुरु बाबा हरदेव सिंह महाराज जो जन्म २३ फरवरी १९५४ ते बाबा गुरबचन सिंह अं निरंकारी राजमाता कुलवन्त कौर जे पुट्र जे रूप में थियो आहे। बालक हरदेव जे बालपणे जी संभाल डाडे बाबा अवतार सिंह अं डाडी बुधवन्ती जी निगहबानी अं रहबरी में थी। बिन्हीं न सिर्फ दुनियावी प्यार पर आध्यात्मिक ज्ञान अं शक्तिण बालक हरदेव खे मलमल कन्दे नंढी उम्र में ई संदस दिल में इंसानियत वास्ते प्यार ऐन सेवा जी भावना भरे खेस निरंकार सां जोड़े छाडियो हो। शायद इहो ई सबब आहे जो सतगुरु बाबा हरदेव सिंह बियन सभनी निरंकारी सतगुरुन जी भेट में वधिक हरदिल अज़ीज़ अं मशहूर थिया।

शुरुआती स्कूली तैलीम खां पोय हरदेव खे पहिरियुं निरंकारी दिल्ली जे रोजरी पब्लिक स्कूल में अं १९६३ में पटिआला जे रिहायशी यदुवेंद्र पब्लिक स्कूल में मोकिलियो वियो। स्कूली डीहंन में हरदेव होशियार विद्यार्थी त हुअो पर गडु हुन खे फोटोग्राफी, पहाड़न ते चडहण , घुड़सवारी अं हुनरमंदी सां ड्राइविंग करण जो शौक पिण हो। १९६९ में हुन हाय स्कूल जो इम्तिहान पास कियो।

दिल्ली यूनिवर्सिटी में कॉलेज जी पढ़ायी जे वक़त हदेव जो संगत अं सेवा लाय चाहु का लिकियिल गालिह कोन हुयी। १९७१ में हू हिक आम मेंबर तौर सेवा दल सां जुडियो हिन वक़त तायीं हू "भोला जी " नाले सां मशहूर थी चुका हो। १९७५ में जडहिं हुन सच्चाई, सादो जीवन, सेवा, समर्पण अं प्यार जे सन्देश जे फैलाव वास्ते "युथ फोरम " जो बन्दोबत कियो त सदस्य दोस्त, तत्वज्ञानी अं रहबर वारे रूप जो दर्शन थियो।

इन साल दिल्ली में सालाने निरंकारी संत समागम जे दौरान हरदेव सिंह जी शादी फर्रुखाबाद उत्तरप्रदेश निवासी श्रीमती मदन अं श्री गुरुमुख सिंघ जी धीउ सविंदर [जन्म १२-०१-१९५७] सां थी। २४ अप्रैल १९८० ते बाबा गुरबचन सिंह सां थियिल हादसे खां पोय निरंकारी संगत खे सहन शीलता जी समझाणी डयी धीरज धारे निरंकार जे भाणे ते राज़ी रहण जो सन्देश डियण वारो बि बियो केर न पर बाबा हरदेव सिंह हो।

बाबा हरदेव सिंह बदिलो वठण जो खियाल बि कढण वास्ते श्रद्धालुन खे सतगुरुन जो दया, प्यार, सच्चाई अं हर हिक जो भलो चाहिण जो सन्देश फैलाईण जे कमु में लगाये छड़ियों नतीजे तौर निरंकारी शांत अं खून खराबे खां परे रहिया।  बाबा हरदेव सिंह पाण बि शान्ती प्यार जी मूर्त बणी भाईचारे अं निरंकारी विचारधारा जो सन्देश घर घर पंहुचायिण वास्ते देश विदेश जा केतिरा दौरा किया।  बाबा हरदेव सिंह जे दौरन निरंकारीन वास्ते बाबा गुरबचनसिंह जे हादसे सबब थिएल जख्मन ते मलहम जो कमु कियो।

अजु जे बाबा गुरबचनसिंह जे पोखियिल मानव सेवा जे बिजन संत निरंकारी मिशन जहिडे वड़े वण जो रूप अखितयार कियो आहे त उन में बाबा हरदेव सिंह जे निवडत वारे स्वभाव अं मिली जुली कम करण जी आदत जो बि वढो हथु आहे।  मानव एकता दिवस ते निरंकारी भवनन में ब्लड डोनेशन कैम्प्स लगायिण मानवता जी सेवा जे रुख में बाबा हरदेव सिंह जी हिक बि कामियाबी आहे।  आम श्रद्धालुन अं संगत खे निरंकारी विचारधारा सां वधीक गहरायी सां जोड़िण अं उन्हन में पंथ जो हिसो हुअण जी भावना जे वाधारे वास्ते अख्तियारी जी सघ खे विरहायिण जो फैसलो कियो अजु संत निरंकारी मंडल जा दिल्ली में २४ सेक्टर आहिन त मुल्क ३६ ज़ोन्स में विरहायिल आहे। हर हिक सेक्टर अं जोन जी जवाबदारी अलग अलग निरंकारिन ते आहे।  बाबा हरदेव सिंह संत निरंकारी मंडल वास्ते "संतोख सरोवर काम्प्लेक्स " नाले सां नयीं बिल्डिंग बि ठहिरायी आहे जहिं में ५ एकड़ एराजीअ में साफ अं शुद्ध पाणीअ जो सरोवर त २० एकड़ सवाल सां भरपूर खूबसूरत गलन वारा बूटा लगल आहिन। 

जे तकनिकी वाधारे जे उपयोग जे नज़रिये सां विचार कयुं त शायद संत निरंकारी मिशन बियन पंथन खां काफी अगते आहे। मिशन जी पहिंजी वेबसाइट आहे जेक्स श्रद्धालुन न सिर्फ अीन्दड कार्यक्रमन जी जाण डिये थी पर माज़ी जी जाण सां गडु निराकारी साहित्य वेबसाइट ते पढ़ण जी सहूलियत बि डिये थी।

१३ मई २०१६ ते कनाडा में हिक रोड हादसे में बाबा हरदेव सिंह जो स्वर्गवास थियो। शायद इहा निरंकार जी इच्छा हुयी त "मयं तेरा" [अशुद हिंदी में मई महीने खे मय अं तेरहन खे तेरा चयबो आहे ] हमेशा वास्ते बाबा हरदेव सिंह जे नाले सां जुडिजी वञें।