Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

भाई प्रताप

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – भाई प्रताप डियलदास नानवानी

फेमस सिंधी फ्रीडम फाइटर - कामियाब बिजनेसमैन - सिंधी बोली अं तहज़ीब जो तारिंदड

bhai_pratapभाई प्रताप सिर्फ हिकु फेमस सिंधी फ्रीडम फाइटर, कामियाब बिजनेसमैन या नामवर सिंधी सियासतदान न हो पर उन सां गडु हू सिंधी बोली अं तहज़ीब जो तारिंदड, सिंधियत जे आलीशान विरसे जी हिफाज़त कन्दड पिण हो।

असां सिंधी तोड़े बिया हिन्दु मकर संक्रांत जो डिण इन सबब मलिहाईंदा आहियूं जो सिज इन डींह ते रास चक्र जो फेरो पूरो करे मकर रास में दाखिल थींदो आहे।  शायद त इहो अकेलो हिन्दु डिण आहे जो लगभग हर साल सागी अंग्रेजी तारीख १४ जनवरी ते मलिहायो वेन्दो आहे।  मुल्क जे विरहांगे सबब बेघर दर बदर थियिल सिंधियिन खे हिक जगह खां बी जगह भटकण जे फेरे खां आज़ाद करे हिक हंद गांधीधाम आदिपुर में थायींको करण जे कम जी शुरुआत जहिं शख्स कयी हुयी उन फेमस सिंधी समाजसेवी भाई प्रताप जी जन्म तारीख बि १४ आहे [१४ अप्रैल १९०८ हैदराबाद सिंध]।

भाई प्रताप जो कुटुंब हैदराबाद जे उन्हन कुटुंबन मां हो जेको पहिंजी अमीरी सां गडु पहिंजी फ़ज़ीलत वास्ते बि मशहूर हो।  भाई प्रताप बि पहिंजे वक़्त में हिकु तहज़ीब वारो कामियाब बिजनेसमैन हो जेको धंधे जे असुलन जो पको हो। भाई प्रताप पंहिंजी किताब पढ़हण जे जुनून लाय बि मशहूर हो संदस घर प्रताप महल जी लाइब्रेरी में बेशुमार किताब हुआ।  पढ़हण जी इन आदत भाई प्रताप में उन रुख जी हलत स्वभाव में शामिल कयी जहिं सबब हू न सिर्फ सिंध मां भारत आयल सिंधियन जो मददगार बणियों प्र सिंधी भाषा अं आलिशान सिंधी विरसे जो तारणहार बि थियो।

इहो  १९४७ जो वक़्त हो, अण चाहे मुल्क जे विरहांगे सबब सिंधी पहिंजा घर छड़े भारत अचण लाय मज़बूर हुआ।  भारत सरकार इन्हन लड़े आयल सिंधियिन खे अझो डियण जो कमु करे पयी। आमु तौर मुल्क जे अलग अलग शहरन में ,हिक बिये खां घणो परे, मिलेट्री जी खाली वीरान बेरिकिन खे सिंधियिन खे रहन जी जाय तौर डिनो पे वियो।  इन्हन हालतुन में भाई प्रताप सिंध मां आयल सिंधियिन वास्ते हिकु सपनो डिठो जहिं मूजिब इन्हन सिंधियिन खे वरी वसायिण सां गडु वरी आबाद करण बि ज़रूरी हो।  हुन हिक विचार साम्हूं आन्दो त इन्हन पाडुन खां पटियिल सिंधियिन वास्ते ज़मीन जो को अहिडो टुकर डिनो वञें जिते इहे सिंधी न सिर्फ रही सघन पर पाण खे पहिंजे अबाणे मुल्क सिंध जे वेझो महसूस करे सघन। 

भाई प्रताप जो इहो विचार गांधीधाम -आदिपुर-कांडला बंदर जे विकास जे रूप में हकीकत बणियों।  हिते सिंधियिन खे न सिर्फ अझो मिलियो पर उहो माहोल बि मिलियो जो हू पहिंजी जुगन जी तहज़ीब, सामाजिक अं सांस्कृतिक विरसे खे महफूज़ रखी सघन।  वायुमण्डल अं जाग्रफी जे लिहाज खां बि इहो इलाको हैदराबाद अं कराची जहिडो आहे अं कांडला जे कुदरती बंदर खे  कराची जहिडे बंदर में बदिलायिण को डुखियो कमु कोन आहे।  भाषा जे लिहाज खां बि कच्छ जो इहो इलाको सिंध जी वेझडायी में आहे। 

पहिंजे विचार खे अमली जामो पहिरायिण वास्ते भाई प्रताप सरदार वल्लभ भाई पटेल, पंडित जवाहरलाल नेहरू अं आचार्य जे बी कृपलानी जहिडन अगुवानन सां पहिंजा सियासी नाता कमु आणे खेन साण वठी महत्मा गांधी सां मिलियो अं हिन जी सलाह ते महात्मा गांधीअ कच्छ जे महाराजा खे सिंधी कौम वास्ते ज़मीन डियण जी अपील कयी जियँ सिंधी न सिर्फ वरी वसजी सघन पर आज़ाद भारत में पहिंजो वजूद बि कायम रखी सघन।

कच्छ जे महाराजा महात्मा गांधी जी अपील जो मानु रखन्दे ज़मीन डिनी अं द सिंधु रिसेटलमेंट कॉपोरेशन लिमिटेड वजूद में आयो जेको अजु बि इन इलाके में अखितियारी वारी हैसियत सां कमु पियो करे।