Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

हद बाहिर

advertise here

Advertise Here

सिंधी बोली

सिंधी बोली मुहिंजी बोली
मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी
अजु उबाणिकी आहे छो ?
जग में हूंदे सभ खां न्यारी।
सिंधी बोली मुहिंजी बोली
मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी।।

रुठिया नाहिन पिरीं तुहिंजा
आहिन शैदायी बेशुमार तुहिजां
सिंधु जो सफर आ गंगा पहुतो
आहे केढे इहा गालिह निराली।
सिंधी बोली मुहिंजी बोली
मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी।।

आहे आज़ाद सचल बि तुहिंजो
वार न विंगो थीन्दो तुहिंजो
कौम आहे ज़िंदह तो सां
सिन्धियिन जी आ पुकार इहा ई।
सिंधी बोली मुहिंजी बोली
मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी।।

लिखियिल मुहिंजो

लिखियिल मुहिंजो कुछ त डेखार, जिते जिक्र तुहिंजो न आहे
तो बिन त मुहिंजो पहिंजो वज़ूद बि वज़ूद न आहे
चवण इहो लिखियो आ मां, हकीकत में वाज़िब बि न आहे
लफ़ज़ जडहिं डिना तो, कलम हथ मुहिंजे वारो हलियो आहे।
लिखियिल मुहिंजो कुछ त डेखार, जिते जिक्र तुहिंजो न आहे।।

सिफतूं सलाहियतूं मुहिंजियूं सभु, डाति तुहिंजी आहे
रखीं गुमनाम या नामवर करीं, मर्ज़ी इहा तुहिंजी आहे
चवे ज़मानों थी सियाणो, हथ अकुल मां कियो आहे
खबर कहिं खे आज़ाद सचल त तुहिंजे दासन जो बि दासु आहे।
लिखियिल मुहिंजो कुछ त डेखार, जिते जिक्र तुहिंजो न आहे।।

थिये हां हाल मुहिंजो, बूटे कहिं कुमायल जहिड़ो
डुखन जी उस खां, महर तुहिंजी रखियो बचाये आहे
न हुजे हां धणी साईं, थियां किथे हां मां थायींको ?
शुमारे दासन में पहिंजन , ज़िन्दगी खे मकसद तो डिनो आहे।
लिखियिल मुहिंजो कुछ त डेखार, जिते जिक्र तुहिंजो न आहे।।

मुहिंजा दुश्मन

मुहिंजा दुश्मन हाणे मूं सां, दोस्ती करिण चाहिन था
करे बर्बाद मुखे, घर मुहिंजे में रहण चाहिन था
न रखियूं मुखे किथे बि, मुहं डेखारिण लायक
नातो निभाइण जो हाणे, कसम रोज़ खायिन था।
मुहिंजा दुश्मन हाणे मूं सां, दोस्ती करिण चाहिन था।।

चवे क्रोध थो, चाड़िह मथे ते मुखे
रीस खे पसंद, आशियानो मूहिंजे दिल जो
थी विया आहिन सभई, शायद त बेघर हाणे
न त छो मूहिंजो घरु, वसायिण चाहिन था ?
मुहिंजा दुश्मन हाणे मूं सां, दोस्ती करिण चाहिन था।।

थियो सियाणो आज़ाद सचल बि आ हाणे
चवे लालच खे , मिल तूं मुंसां सुभाणे
फासन्दो कीअं, दुश्मन जे दोस्ती जे ज़ार में
हलन्दो राह पहिंजी, न मतलब हू छा चाहिन था।
मुहिंजा दुश्मन हाणे मूं सां, दोस्ती करिण चाहिन था।।

खुशबू तुहिंजी

कडहिं हितां अचे थी, कडहिं हुतां अचे थी
खुशबू तुहिंजी, सदा मिलन्दी रहे थी।

कडहिं तूं अचीं थो, कडहिं मां अचां थो
सिक जी पुल, सदा आबाद रहे थो
कडहिं खिवण खजे थी, कडहिं कोयल गाये थी
बदिलजन्दी मुंद, सदा रहे थी।
कडहिं हितां अचे थी, कडहिं हुतां अचे थी
खुशबू तुहिंजी, सदा मिलन्दी रहे थी।।

कडहिं रुअन अखियूं तुहींजियूँ, कडहिं जल मुहिंजे नेणिन
ख़ुशी हद पार, हरदम कन्दी रहे थी।
कडहिं तूं रुसीं थो, कडहिं मां परिचायां थो
मिठास कायम रिश्तन में, सदा रहे थी।
कडहिं हितां अचे थी, कडहिं हुतां अचे थी
खुशबू तुहिंजी, सदा मिलन्दी रहे थी।।

कडहिं तूं याद करीं, कडहिं मां विसारियां
छपियल दिल में, तस्वीर सदा रहे थी
कडहिं तूं हारायीं, कडहिं मां खटां
वारी आज़ाद सचल जी, सदा बाकी रहे थी।
कडहिं हितां अचे थी, कडहिं हुतां अचे थी
खुशबू तुहिंजी, सदा मिलन्दी रहे थी।।

जगह खाली आहे

दिल में जगह खाली आहे, घर मालिक जी गोलिहा चालू आहे
डिसी आरसी डिसां मां पाण खे, डिसन्दो रोज़ आहियां
थियण वाकिफ खामियिन पहिंजनि सां, चाहीन्दो मां आहियां
रहजे न बुधायिण बाकी कुछ, विसारिण जी आदत आहे।
दिल में जगह खाली आहे, घर मालिक जी गोलिहा चालू आहे।।

गोलिहा आहे मुखे, सबुर आथत जे सागर जी चाह आहे
चाहे न चाहे कामियाबी मुहिंजी, नाकामयाबीअ में साथ आहे
रखे न याद लफ़ज़ मुहिंजा, कियिल इकरार वायदा
हुजे मुहिंजो, अश्कन मुहिंजन सां जहिं खे प्यार आहे।
दिल में जगह खाली आहे, घर मालिक जी गोलिहा चालू आहे।।

पुछन्दा न भुलन्दा राह, हर कहिं खे ज़मानो चवन्दो आहे
करण तज़वीज़ वास्ते, हर पराये पहिंजे खे डिनो सडु आहे
राहूं डुखियूं वडवकड मोड़न वारियूं, माणुहू बि न ज़ुदा आहिन
ज़रूरत साथी जी, तन्हा आज़ाद सचल पियो भटकन्दो आहे।
दिल में जगह खाली आहे, घर मालिक जी गोलिहा चालू आहे।।

नातो निभायिणो

आशियानों ठाहे आसमान में, डींहं घणा रहन्दे
मोटिणो त आखिर तोखे, ज़मीन ते पवंदो
रुसी वेठो आहियीं, फेरे जो मुहं अजु
परिचिणो हिक डिहूं, तोखे पवन्दो।
रखीं थो निहुं, निभायिणो नातो तोखे पवन्दो।।

न चव इहो, मुहिंजो वज़ूद पहिंजो न आहे छा ?
सिक जे संसार में, आ न कुछ मुहिंजो तुहिंजो रहंदो
हलण चाहीं थो राह जहिं ते, उमिर सजी तूं
राहून उन्हन ते, आ न कोयी डयी गणीन्दो।
रखीं थो निहुं, निभायिणो नातो तोखे पवन्दो।।

खुदगर्जीअ जे बादलन खे, मोटिणो बिना वसण पवन्दो
रखी बियायी मन में, न कोयी हिते जियरो रहंदो
न समझु रहन्दी तुहिंजे मन में, खबर न कहिं खे पवन्दी
न चये तोखे ज़मानो आज़ाद सचल खे ज़रूर चवन्दो।
रखीं थो निहुं, निभायिणो नातो तोखे पवन्दो।।

प्यार जी हद

चयीं जहिं खे दुनिया थो, प्यार ऐं नातान जो संसार आहे
विछायिल हिते माया ऐं पांहिजायप जो , बिटो ज़ार आहे
न आहे को कहिंजो या आहिन सभु मुहिंजा, सचु छा आहे ?
पूछी डिसु भले आज़ाद सचल खां, बुधायीन्दो तोखे
वज़ूद रखे जो प्यार दुनिया में, हद हर प्यार जी मुकरर आहे।

करीं यारन दोस्तन ते मानु, कन्दो कुरबान जिंदु ज़ान आहियीं
उंधहि में तुहिंजो पाशो बणजण में, घणन खे न वक़त लगन्दो आहे
रखीं तकबर वड़ो जीवनसाथी ते , डिनो साथु डुखन में आहे
रहंदो न इहो प्रेम, मोकिलायिण अंगण अंदर हुन जो धर्म आहे
वज़ूद रखे जो प्यार दुनिया में, हद हर प्यार जी मुकरर आहे।

कयो तो कूड़ जो व्यापर, किया जमा दौलत जा भंडार
सजिजन्दी अर्थी आ पोय, थीन्दो पहिरियूं विरहांगो आहे
रखियो तो जहिं खे बचाये, बेदर्द दुखन जे सायन खां
चवण ब्राह्मण जे नींगर उन खे, डियणी मुखाग्नि तोखे आहे
वज़ूद रखे जो प्यार दुनिया में, हद हर प्यार जी मुकरर आहे।

रखिजो याद

रखिजो अल्फ़ाज़ याद मुहिंजा, विसारे चाहे मुखे छडिजो
सभु मोहताज़ आहियूं वक़त जा हिते, वक़त सां ई हलबो
हुजे हयाती डींहं चार, नातो त असां जो जन्मन जो
रखिजो साँढे सदा दिल में, न पाण खां विछोड़े छडिजो।
रखिजो अल्फ़ाज़ याद मुहिंजा, विसारे चाहे मुखे छडिजो।।

करामात सजी आ लफ़ज़न जी, मालिक लफ़ज़ सिक जा
रहन विछडी बि साथ सदा, आहिन दिलबर सचा दिल जा
दरमियां असां जी निफाकु फासलो, आहे आंदल लफज़न जो
न अचेव जे याद सूरत मुहिंजी, पाणु आईने में डिसजो।
रखिजो अल्फ़ाज़ याद मुहिंजा, विसारे चाहे मुखे छडिजो।।

संसार में वज़ूद आज़ाद सचल जो, लफ़ज़ हिक जेतिरो
थिये उच्चार वक़त जेतिरे में पूरो, रहे साथ वकतु ओतिरो
मुंद बरसात में नज़ारो इंद्रधनुष जो, ईन्दो हर साल आसमान में
हूंदुम कहिं म कहिं रंग में, हिकु भेरो वरी मुखे डिसी वठिजो।
रखिजो अल्फ़ाज़ याद मुहिंजा, विसारे चाहे मुखे छडिजो।।

बिन डींहंन जो महिमान

आहियां बिन डींहंन जो महिमान, मूं सां निभाये वठु
ब डींहं गुजिरिया थी मुलाकात, मां आयुम तो वटि
पुछ न मुखां छा थियो छा कियो, पोयन बिन डींहंन में
आहिन बचियल ब डींहं, वक़त इहो तूं मुखे संभाले रखु।
आहियां बिन डींहंन जो महिमान, मूं सां निभाये वठु।।

न उमिर इश्क़ इबादत जी, सिलसिलो जन्मन जो
करे मूं ते यकीन, ब डींहं गडु पाण सां रहाये डिसु
तोखे कसम वफ़ा जो, डेखारि न ड्रपु बेवफाई जो
न आहे को बिन तुहिंजे, पहिंजो तूं मुखे बणाये वठु।
आहियां बिन डींहंन जो महिमान, मूं सां निभाये वठु।।

गुजिरिया ब डींहं आज़ाद सचल जा रहबरी जे साये में
कर न खियाल को, लिकाये दामन में विसारे ज़मानो छडि
दास्ताँ तुहिंजी इनायत जी, रहन्दी याद सदियिन तायीं
आहे इहो हथि तुहिंजे , सदियिन खे डींहं बणाये त डिसु।
आहियां बिन डींहंन जो महिमान, मूं सां निभाये वठु।।

आहे न आहे

लाज़मी न आहे त, इंसान में हुजन सिफतूं खुदायी
लाज़िमी आहे त,इंसान हले हलत इंसान जहिड़ी।

लाज़मी न आहे त, करीं तूं बि इकरार इश्क़ जो
लाज़मी आहे त, रहे मिलन्दो मोको दीदार जो।

लाज़मी न आहे त,तरे हर पथर वठी राम जो सहारो
लाज़मी आहे त,विहे न हर पथर बणजी बुत जहिड़ो।

लाज़मी न आहे त,हुजे हरगुल में खुशबु गुलाब जेतिरी
लाज़मी आहे त, हुजे सूंह पैदा कशिश करण जेतिरी।

लाज़मी न आहे त, दोस्ती में जगह निफ़ाक़ जी न हुजे
लाज़मी आहे त, दुशमनी में बि गुंजाईश दोस्ती जी हुजे।

लाज़मी न आहे त,वाहिकारो सूर जो न कडहिं दिल में अचे
लाज़मी आहे त, साणु सदा तबीब दिल जे सूर जो हुजे।

लाज़मी न आहे त,हर रात सजियिल चंड तारन सां मिले
लाज़मी आहे त,राह हमेशा रोशन तुहिंजे हुस्न सां रहे।
आहिन फलसफा सभु आज़ाद सचल, याद रहे न रहे।।

चूंडे खणन्दो आहियां

न अशकन सां न दर्द जुदायी सां, लागापो मां रखन्दो आहियां
खणी लफ़ज़ रहमत जा, गीत नवां रोज़ मां लिखन्दो आहियां
विलोड़े पहाड़ गमन जा, मसु ख़ुशीअ जी ठाहीन्दो आहियां
इंद्रधनुष खुशियिन जो ठाहींदीं ज़िन्दगी, जडहिं बि आहे।
रंग पहिंजी पसंद घुरज जा, खणी चूंडे मां वठन्दो आहियां।।

रंजिशिन निफ़ाक़ आहुन समझायो, मतलब अची ख़ुशीअ जो
रखी दर खुलियिल आज़ाद सचल, खुशियूं विरहायीन्दो आहियां
रोशनी अछी सिज जी, आहे ठहियिल रंगन सतन जी
ज़िन्दगीअ खे बि रोशनी अछी, बणायिण मां चाहीन्दो आहियां।
रंग पहिंजी पसंद घुरज जा, खणी चूंडे मां वठन्दो आहियां।।

आ मरन्दी मौत पहिंजी तन्हाई, महफ़िल मां सजाये विह्न्दो आहियां
खफा विछोड़ो दर्द मूं ते, सामहूं उन्हन ख़ुशी खे बिहारे रखन्दो आहियां
आ आदत पुराणी दर्द घर आयल, दुश्मन जो बि खसे वठन्दो आहियां
खणी मसु खुशहालीअ जी, गीत लिखण में मशगूल रहन्दो आहियां।
रंग पहिंजी पसंद घुरज जा, खणी चूंडे मां वठन्दो आहियां।।