Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

चालीहो

advertise here

Advertise Here

चलिहो – उत्सव जो शुरुआती इतिहास

chaliho1इहो इतिहास त सभनी खे खबर आहे त कीयं थट्टा में मिरक शाह हिन्दू सिंधियन ते ज़ुल्म किया अं कीयं वरुण देवता लाल साईं उडेरेलाल इस्लाम कबूल न करण वारन सिंधियन खे मिरक शाह जे क़हर खां बचायियो। [वधीक विस्तार सां पढिहंण लाय : झुलेलाल : जन्म खां अगु जो इतिहास] जीयं त झूलेलाल साहिब जे  जन्म वठण जी आकाशवाणी ,नदिअ किनारे चालीह डीन्हं जी पूजा खां पोइ थी हुयी ही तहिंकरे वरुण शाह जा थोरा मणिण लाय चालिहे साहिब जी शुरुआत थी। उन अरसे में थठा जी आदमशुमारीअ में सिंधियन जो तादाद काफी वडो हो तहिंकरे वक़्त गुजरण सां चालीहो सिंधी कौम जी समाजी ज़िन्दगीअ जो हिस्सों अं हिकु अहमियत वारो डिणु बणजी पियो।  अजोके मॉडर्न वक़्त में बि सिंधी कौम सागियी श्रद्धा , विश्वास अं जोश सां चालीहो मलिहाइन्डी आहे।  चालीहन डीहन जे व्रत खां पोय झूलेलाल मंदिर में पूजा थिंदी आहे अं वडी धामधूम सां बहिराणे साहिब जो जुलूस निकरंदो आहे।  नदिअ किनारे पल्लव पायिण खां पोय चालिहे जी समापती थिंदी आहे।

शुरुआत में चालिहो साहिब सिर्फ थठा में ही मलिहायो वेंदो हो।  उन समे  में रोहरी सिंधी नयें साल चेटीचंड मलिहायिण लाय मशहूर हूंदी हुई चवन था त साईं वसण शाह रोहिरीअ में चालिहो मलिहायिण जी शुरुआत कयी।  पीरगोठ जो बूलचन्दानी कुटुंब झूलेलाल साईं जो सच्चो भक्त्त हो अं खटूमल हर साल चालिहे लाय पीरगोठ मां रोहरी वेंदो हो। हिक साल साईं वसण शाह खटूमल खे चयो त हाणे तव्हांजी उमर थी वयी आहे अं पीरगोठ मां रोहरी अचण काफी तकलीफ भरियो आहे तहिंकरे तव्हां रोहरी अचण बदरां पीरगोठ में ई चालिहो मलिहायिण शुरू कियो।  शुरुआत में पीरगोठ में फ़क़त चार श्रद्धालुन मिलिकरे चालीहे जी शुरुआत कयी।  अहिड़ी तरह थठा अं रोहरी छड़ें बियन शहरन में पिण चालीहो मलिहायिण जी शुरुआत थी।  मुल्क जे विरहांन्गे खां पोय बूलचन्दानी कुटुंब उल्हासनगर अची रहियो अं अजु कुटुंब जी पंजी पीढी "चालीहो साहिब मन्दिर उल्हासनगर -५ " में श्रद्धालुन खे चालीहे जो व्रत रखण में मदद पयी करे। 

बहिराणे साहिब जी तैयारीअ जो वीडियो

विडिओ जे सुठो न हूअण लाय दिलगीर आहियूं।

चालिहो मलिहायिण

भारत में आमु तौर जुलाई महीने में चालीहे जे व्रत जी शुरुआत थिंदी आहे। व्रत रखण चाहिन्दड श्रद्धालु लाल साईं जे मंदिर में कठा थींदा आहिन। पूजा करण बैद ब्राह्मण देवता हर हिक श्रद्धालुअ जे हथ ते गानो [A Special Red Thread ] बधन्दो आहे। व्रत पुरे थियण खां पोय ४१ डीन्ह ते इहो गानो नदिअ में प्रवाह कबो आहे।
व्रत जी शुरुआत लाय घुरबल पूजा सामग्री
४१ लौंग
४१ फोटा
४१ मिसरीअ [a kind of sugar] जूं तडियुं [pieces]
सवा किलो [1. 25 kg ] चाँवर
५ मेवा
१ नारियलु

चालीहे दौरान श्रद्धालुअ जी जिंदगी
हिन् व्रत जे दौरान श्रद्धालु सादी ज़िन्दगी गुजारे थो "ब्रह्मचर्य " जो पालण हिक अहमियत वारी गालिह आहे। हर रोज़ सुबह जो प्रार्थना करण खां पोय लाल साईं खे "अखो" अर्पित कियो वेंदो आहे। हाणेके वक़्त में केतरा श्रद्धालु चालीहन डीन्हंन बदरां १० या २१ डीन्हंन जो व्रत रखन्दा आहिन। व्रत जे दौरान
- बिस्तरे [पलंग ] ते सुमहण जी मनाही आहे।
- अच्छे रंग जा पदार्थ जहिड़ोकि चाँवर , खीरू या दही खायिण खां पासो करण घुरिजे।
- वार अं दाढ़ी न लाहिरायींण घुरिजे।
- सादा कपडा पायिण घुरिजन [केतरा श्रद्धालु त व्रत जो समूरो अरसो हिक ई ड्रेस पायीन्दा आहिन ]
- चमड़े जो पट्टो [Belt] या जूता पायिण खां पासो करण घुरिजे। [ केतरा श्रद्धालु त व्रत जो समूरो अरसो उघाड़े पैर रहन्दा आहिन ]
- तेल साबण सुरमे जे वापर ते बंधन आहे।

चालीहे जी समापती

४१ डींह ते सभु व्रती श्रद्धालु उपवास रखन्दा आहिन अं मंझन्द खां पोय झूलेलाल मंदिर में कठा थी मिलीकरे पूजा कंदा आहिन। पूजा बैद सेसा खायी उपवास तोडियो वेंदो आहे। सभु श्रद्धालु मथे ते मटकी खणी , बहिराणे साहिब जे जुलूस सां नदीअ किनारे अची प्रार्थना करे झूलेलाल साईं जा थोरा मंयीन्दे व्रत जी समापती कंदा आहिन।