Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

बाबा गोपालदास

advertise here

Advertise Here

जीवनी – बाबा गोपालदास

कोल्हापुर महाराष्ट्र जा मशहूर सिंधी संत

babagopaldas01बाबा गोपालदास जे जीवन बाबत लिखण वक़्त जेका पहिरियीं गालिह मुहिंजे दिमाग में आयी सा हुयी रोटरी वास्ते लिखियिल मुहिंजो लेख जहिं जी शुरुआत हुयी - हिक भेरो बुद्ध खां कहिं संत बुद्ध वांगुर थियिण जो सवलो तरीकों पुच्छियो ऐन बुद्ध जो जवाब हो सिर्फ पहिंजी हलत अहिडी बणायो जो बिया तवहांजी हलत जी नकल कन।  बाबा गोपालदास बि अहिडी ई शख्सियत हुआ जेके न त पीर पैगम्बर हुआ आ ब्राह्मण या धर्म गुरु हुआ अं न ई उन्हन को पंथ बरपा कियो।  इहे सिर्फ ऐन सिर्फ कर्म हुआ जिन सबब बाबा गोपालदास संतन में शामिल थिया अं कोल्हापुर महाराष्ट्र में जिन संतन जी वरसी धाम धूम सां मलिहायी वेन्दी आहे उन्हन में शामिल थिया।

बाबा गोपालदास जो जन्म सिन्ध जे कंबर गोठ में - जेको विरहांगे खां पोय पाकिस्तान जो हिसो बणियो - थियो हो।  नंढी उमर खां ई गोपालदास जी कम्बर दरबार ते श्रद्धा ऐन विश्वास हो अं विशनदास साहिब संदस गुरु हुआ। गोपालदास गुरु भक्ति अं दरबार जी सेवा में ऐतरे कदुर रुधियल हो जो खेस पहिंजी बिन धीउन जी शादी जो बि खियाल न रहियो हो पर गुरु विशनदास जन खे पूरो पूरो ध्यान हो अं उन्हन मुनासिब वक़्त ते बिन्हिन नियाणिन जो विवाह प्रभदास अं परमानन्द [जेके अगते हली कम्बर दरबार जे नियाणन जे रूप में मशहूर थिया ] सां करायो।  कोल्हापुर जो बियो जेको बि गोपालदास जे लागापे में आयो तहिंखे याद आहे त हू सदायीं चवन्दा हुआ "राम तुम्हारा भला करे। "

विरहांगे खां पोय कम्बर दरबार मुंबई जे उपनगर कांदिवली में बरपा थी त गोपालदास जो कुटुंब गांधीनगर कोल्हापुर में रहण लगो। हिते गोपालदास बाबा सन्मुखदास दरबार में कीर्तन बुधण अं करण लगो। हू पहिरियों शख्स हो जहिं गोठ में राम धुनी सां गडु प्रभात फेरी जी शुरुआत कयी। आहिस्ते आहिस्ते गोपालदास जो सत्संग बुधण वारन श्रद्धालुन जो तादाद वधे पियो। हकीकत में इहा संदस प्रभु सां हिक थियण - मैडिटेशन जी सलाहियत हुयी जो हुन जी वाणी में परमात्मा जी तासीर पैदा थी।

गोपालदास मूजिब बियन जो बुरो करण त परे पर सोचिण बि पाप आहे तहिं करे बुरे सोचिण खां पासो करण घुरिजे। असां जी हमेशा कोशिश हुअण घुरिजे त बिया खुश रहन अं असां प्रभु भक्तिअ में लीन रहूँ। जे तव्हां लागीतो दुःख अं तकलीफुन जे दौर मां गुजरियो था त बि निरास न थियो छो जो हिक डींहु इहे सभु खुशियिन में बदलजी वेन्दा। जे प्रभुअ तव्हांजी ज़िन्दगीअ में दुःख जूं घडियूँ आन्दियूँ आहिन त उहो प्रभु ई तव्हां जी ज़िन्दगी खुशयिन सां भरपूर कन्दो।

२९ जनवरी १९७२ ते बाबा गोपालदास जे श्रद्धालुन संदस जिस्मानी हालत ठीक न डिसी सुबह जो ८ बजे जे आसपास डॉक्टर घुरायो - डॉक्टर नब्ज़ न मिलण ते चयो त बाबा जन देह त्याग कियो आहे। हाणे अंतिम संस्कार जूं तयारियुं थियण लगयूँ पर हिकु चमत्कार हिक अणथियणी बाकी हुयी। बाबा गोपालदास मौत जे बिस्तरे तां उथी खड़ा थिया जीयं को निंड़ मां सुजाग थिये।

गोपालदास जमा थियिल श्रद्धालुन खे गउ मूत्र अं छेणे सां लेपो पाये हिक जगह साफ पवित्र करण वास्ते चयो अं पहिंजे गुरु अं बियन देवी देवताउन जे फोटून ध्यान अवस्था में वेठा। कुछ वक़्त ध्यान करण खां पोय संत गोपालदास साहिब लेपो पातल स्थान ते लेटिण जी इच्छा ज़ाहिर कयी अं श्रद्धालुन खे सरीर छडिण बाबत बुधायो।

अजु बाबा गोपालदास मंदिर न सिर्फ गांधीनगर कोल्हापुर पर सजी पसगिरदायी जो मशहूर मंदिर आहे पर संतन जे सरीर त्याग करण खां पोय बरपा कियिल "गोपाल स्वामी ट्रस्ट " अं "दत्त कृपा ट्रस्ट " दीन दुःखीयिन जी सेवा कं पिया। आखिर में बस इहो ई "राम तुम्हारा भला करे। "