Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

हरीकांत जेठवानी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी: हरीकांत रूपचंद जेठवानी

फेमस सिंधी कवी - कहाणी लेखक - अकादमी अवार्ड - सिंधी ड्रामा -सिंधी भाषा

harikant_jethwani१९९१ वास्ते साहित्य अकादमी जिन अदीबन खे अकादमी अवार्ड ज़ाहिर किया उन्हन में सिंधी भाषा वास्ते फेमस सिंधी कवी ऐं कहाणी लेखक हरीकांत जेठवानी जो नालो शुमारियिल हो। मानवारे अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल हरीकांत रूपचंद जेठवानी "हत्या हिक सपने जी" ऐं "मुखे कुंवार खपे" जहिडा केतिरा मकबूल ऐं कामियाब नाटक लिखी सिंधी ड्रामा लिखण जी पंहिंजी काबिलियत जो इज़िहार कन्दे साबित कियो आहे त साहित्य खेतर में हू घण हुनरी शख्सियत आहे। तनक़ीद ऐं छंडछाण वारी लेखणी लाय बि हुन पहिंजो कलम बाखूबी ऐं असिरायिते नमूने कमि आन्दो हो।

सिंधी साहित्य जी दुनिया में हरीकांत जेठवानी खे सिंधी कविता लिखण जे पुराणे तरीके या रिवायती सिंधी कविता जो पुजारी लेखियो वेन्दो हालांकि संदस अदबी सफर जे दौरान खास करे १९६० वारे डहाके धारे सिंधी साहित्य में नयीं कविता जो काफी गहरो असर नज़र अचे थो। हरीकांत पहिंजी कविताउन तोड़े कहाणीन में सियासी तंज, सियासतदानन जे कम करण जी रीत ऐं आम माणुहू जो चित्र उकेरिण वास्ते नामवर रहियो आहे।

५ सितम्बर १९३५ ते, जेको भारत में टीचर्स डे तौर मलिहायो वेन्दो आहे, नानाणे घर जेकबाबाद सिंध में जन्म वरतल हरीकांत जेठवानी जी हयाती ते नज़र विझण सां ब गालिहियूं चिट्री तरह सामहूं अचन थियूं हिकु संदन तैलीम हासिल करण जो शौक ऐं बियो संदस ज़िन्दगी में खानाबदोशी जो दौरन जो चंगा भेरा दाखिल थियण। जन्म खां वठी संदस दिल्ली में आकाशवाणी में नौकरी करण तायीं, जहिं नौकरी मां हरीकांत १९९३ में रिटायर थियो, संदस हयाती में खानाबदोशी जे दौरन जी हुकूमत रही आहे। हरिकांत जे पिता रूपचंद ऐं ढाडे कीमतराय जे सरकारी नौकरी में हुअण करे कुटुंब खे तबादले सबब हिक खां बी जगह पियो घुमणो पवन्दो हो। हरिकांत जी उमिर बिन साल जो अरसो बि पूरो कोन कियो जो संदस माता जो स्वर्गवास थी वियो ऐं हुन खे पहिंजन चाचान जे घर ऐं नानाणे में कडहिं हिते कडहिं हुते रही बालपणे जो शुरुआती अरसो गुजारिणो पियो।

१९४७ में मुल्क जे विरहांगे सबब कुटुंब भारत लड़े अची राजस्थान जे अजमेर शहर में रहण लगो ऐं हरीकांत जी ज़िन्दगीअ में भटकण जी दौरन ते वकती पाबन्दी आयी। अजमेर में हरीकांत गवर्नमेंट हाय स्कूल जे विद्यार्थी तौर मेट्रिक जो इम्तिहान पास करे सरकारी खाते में तरजुमो करण जो कमु शुरू कियो। संदस कमु हो सिंधी अखबारुन रिसालन में छपियल लेख ऐं एडिटोरिअल्स जो अंग्रेजी में तरजुमो करे ओहदेदारान खे मोकिलिण।  इन दौरान हुन पंजाब यूनिवर्सिटी मां बी. ए. ऐं हिन्दी साहित्य सभा प्रयाग जो साहित्य रतन इम्तिहान पास कियो।  पहिंजी तैलीमी प्यास सबब हुन अजमेर जे गवर्नमेंट कॉलेज में एल एल बी वास्ते दाखिला वरती पर ज़िन्दगी में आयल नयें खानाबदोशी जे दौर सबब हिक साल जे अंदर ई खेस अजमेर छड़े दिल्ली वंञणो पियो। 

दिल्ली में व्यापर खाते में नौकरी कन्दे हरीकांत M.A. वास्ते दिल्ली यूनिवर्सिटी में दाखिला वरती पर सिर्फ बिन सालन में नौकरी तोड़े पढ़ाई बयी छड़े वेठो ऐं काफी अरसो हिक या बि अटकल ८-१० नौकरियूं करे गुजारियायीं। इन दौरान १९६२ में संदस शादी M.A. पास नौकरी कन्दड राधा सां १९६२ में थी।

हरीकांत जेठवानी पहिंजे अदबी सफर जी शुरुआत हिक ई वकत बतौर कवी ऐं कहाणी लेखक तौर कयी। संदस लिखियिल पहिरियीं कविता "भटकन्दड रूह " ऐं कहाणी "पटेवालों" अजमेर जे अख़बार हिन्दु में छपजियूं। काफी अरसे तायीं हिन जूं रचनाऊँ हिंदवासी, ज्वाला, कालाकाकर, कुमारी, ज़िन्दगी ऐं बियन अखबारुन ऐं रिसालन में छापजनदियूं रहियूं। संदस कविताउन जो पहिरियो किताब १९६१ में छपजियो हो।

१९९१ में पहिंजे किताब "सोच जूं सूरतूं" वास्ते अकादमी अवार्ड हासिल कन्दड हरीकांत जेठवानी खे १९८० में तैलीमी खाते बि संदस सिंधी ड्रामा जे किताब "फैलजन्दड रेगिस्तान" वास्ते  अवार्ड डिनो हो।  सिंधी साहित्य जगत तोड़े अदीब इहो बुधी त ८ मई १९९४ में उमिर सजा सठि साल पूरा करण खां बि अगु हरीकांत जेठवानी जो पहिंजे घर दिल्ली में स्वर्गवास थियो। 

हरीकांत जेठवानी – अदबी योगदान

हरीकांत जेठवानी सिंधी कविता, सिंधी कहाणियूं, सिंधी ड्रामा, तनक़ीद वगेरह साहित्यक हिसन में कुल मिलाये 14 किताब लिखिया आहिन। जिन में 5 कविताउन जा, ब कहाणिन जा, हिकु हिंदी कविता, हिकु तरजुमो [हिक सपने जी मौत] ऐं कुछ तनक़ीद ऐं सिंधी ड्रामा जा आहिन। हिन जो लिखियल नाटक मुखे कुंवार खपे संदस मौत खां पोय खटराग उनवान सां किताब जे रूप में छपजियो आहे। हरीकांत जेठवानी जे लिखियल किताबन जी लिस्ट : -

हिकु टुकड़ो इतिहास [हिंदी कविता ]
एकांकी [सिंधी ड्रामा ]
फैलजन्दड रेगिस्तान [कहाणी]
गुजरियल डहाके जी सिंधी कविता [तनक़ीद]
खटराग [सिंधी ड्रामा]
लप भरे रौशनी [कविता ]
मकान खाली आहे [सिंधी ड्रामा ]
पिरह खां पहिरियूं [कविता ]
सिंधी बोली साहित्य ऐं जीवन जो संकट [तनक़ीद]
सोच जूं सूरतूं [कविता ]
उघड़ा आवाज़ [कविता ]
उणविंहो अध्याय [कविता ]
जेब्रा क्रासिंग ते [कहाणी]