Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

संत हिरदाराम

advertise here

Advertise Here

जीवनी संत हिरदाराम

संत हिरदाराम - भोपाल बैरागढ़ वारो फेमस सिंधी संत समाज सुधारक

hirdaramजे सिंधु जी धरती खे सूफी संतन दरवेशन अं फकीरन जी सरज़मीं जो लकब हासिल आहे त भारत जा घणा ई शहर अहिडा आहिन जिनखे संतन जी कर्मभूमि चयबो आहे।  इन्हन शहरन जो  तादाद १९४७ मतलब त विरहांगे बैद बियन हिन्दुन वांगुर सिंधियन जे भारत अचण सबब चंगे अंदाज़ में वधियो आहे।  अहिडो ई हिकु शहर आहे बैरागढ़ भोपाल जो मध्यप्रदेश जी राजधानी त आहे पर सिंधी कौम में संत हिरदाराम जे घर जे रूप में वधीक मशहूर आहे।

भारत जे वधि में वध मशहूर सिंधी संतन में शामिल संत हिरदाराम जन जो जन्म २१ सितम्बर १९०६ ते सिंध जे नवाबशाह जिले जे भिरयान गोठ में इंदुमती [माता] अं सहजराम [पिता ] जे घर थियो हो।  हिन बालक जो नालो रामचंद रखियो वियो।  बालक जे जन्म ते खुश थियिन्दड सभु मिट्र मायिट्र  अणजाण हुआ त हीउ बालक सिर्फ उन्हन चंद माणुहुन जे चेहरन त न पर हज़ारे लखे दुःखियिन जे चेहरन ते मुस्कान आणिण वास्ते जन्म वठी आयो आहे।

बालक रामचंद बियन बारन खां निरालो हो छो जो फ़क़्त १४ सालन जी उमर में खेस दुनियावी सुख अं बियुं गालिहियूँ बेमतलब लगण लगा।  पहिंजो पाण खे सुञाणिण समझण जी चाह बालक रामचंद खे मशहूर संत बाबा हरिराम साहिब वट वठी आयी।  चवन पिया त उनखां अगु बालक रामचंद संत कृपाराम अं भगत वाधुमल जी संगत में बि वक़्त गुजारे चुको हो।  संत हरिराम जो शिष्य बणजी हु गुरु सेवा करण में अं आध्यत्म खे समझण में रुधी वियो।  बालक रामचंद जी सेवा भक्ती अं दुःखायिल मानवता लाय कुछ करण जी इच्छा डिसी संत हरिराम सहिबन बालक खे फक्त १८ सालन जी उमर में ई सन्यास दीक्षा डिनी अं संदस नालो बदलाये संत हिरदाराम - मतलब जहिंजे ह्रदय में राम जो निवास हुजे - रखियो।  इन वक़्त दौरान गुरु सां गडु हुन खे केतरा ई भेरा हरिद्वार अचण जो वझु मिलियो अं संदस दीन दुःखियिंन जी सेवा करण जो इरादो अं भारतीय सभ्यता अं संस्कृति खे महफूज़ रखण जी चाह  वधीक अं वधीक ताक़तवर थींदी रही।

मुल्क जे विरहांगे बेद संत पहिरियुं जोधपुर अची रहिया पर जल्द ई पहिंजो निवास पुष्कर अजमेर खे बणाये मानवता जी सेवा जा कम करण लगा।  १९५० में पुष्कर में संतन जी झोपड़ी हिक सेवा केंद्र बणजी पयी।  १९६२ में संत हिरदाराम भोपाल - मध्यप्रदेश जी राजधानी - जे वेझो वसयिल् सिंधी कैंप बैरागढ़ जे दौरे ते आया।  मकानी सिंधियन सिक विश्वास अं प्यार सां संत जो न सिर्फ स्वागत कियो पर हमेशा हमेशा वास्ते बैरागढ़ में रहण जी वेनती बि कयी।  संत हिरदाराम साहिब उन वक़्त त को जवाब कोन डिनो पर १९६५ में बैरागढ़ भोपाल में रहण जो फैसलों कियो।  इहा संतन जी मानवता जी सेवा हुयी जहिं सबब अख्तियारीअ वारन मज़बूर थी सिंधियन जी घूर मंज़ूर कन्दे बैरागढ़ जो नालो बदलाये [तारीख जी पक्क न आहे पर घणो करे ५ जून १९९५ ] संत हिरदाराम नगर कियो।

बैरागढ़ भोपाल में संत हिरदाराम सहिबन जी प्रेरणा ऐन रहबरी हेठ "संत हिरदाराम शिक्षा एवं सामाजिक विकास समिति " जे नाले सां हिक संस्था [NGO] बरपा करे तैलिमी खेतर सां गडोगडु सामाजिक ऐन सांस्कृतिक कमन जी शुरुआत कयी वयी।  हिन संस्था जो नज़रियों आहे त मकानी माणुहू मर्द तोड़े मायूं न सिर्फ रिथायते नमूने समाज सेवा में बहरो वठन पर उन्हन खे पहिंजन वसीलन [resources] अं उन्हन जे कारायिते उपयोग जी बि जाण हुजे।

संत हिरदाराम साहिबन जी सिखिया अं ज्ञान खे जे हिक जुमले में बियान करणो हुजे त "बलिदान ज़रूरी आहे बिये पासे जिस्मानी सुखन सहूलियतुन जी चाह ई सभनी दुखन जो मूल आहे। " खां सुठो जुमलों मिलण डुखियो आहे। संत हिरदाराम जन जी सभनी सिखियाउन जो मरकज़ आहे प्रभु राम जी सच्ची सेवा आहे दीन दुःखी दुर्बल अं घुरिजाउ इंसानन जी मदद करण। संत सजी हयाती तंदुरस्ती, पढ़ायी , राष्ट्र भक्ति अं भारतीय सभ्यता अं संस्कृति जे महफूज़ रखण अं वाधारे जी सिमत में कमु कन्दा रहिया।

२१ दिसंबर २००६ ते पहिंजे बैरागढ़ आश्रम में १०१ सालन जी उमर में संतन हिन फानी दुनिया में आखरीयन स्वास खँया।