Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

हीरो ठाकुर

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – हीरो ठाकुर

फेमस सिंधी अख़बार नवीस - शोध विद्वान् - अकादमी अवार्ड

hiro_thakurहीरो ठाकुर जाहिं खे २००३ अं २०१२ जे साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियो वियो आहे तहिं खे पके इरादे वारो इंसान चयी सघजे थो। हिन खे चंगी तरह सां जाण हुयी त कहिं लासानी बेमिसाल साहित्यिक रचना जो मतलब आहे हिकु तमाम डुखियो कमु करण , कंडन भरी राह ते पेरे उघाड़े हलण अं तमाम तकलीफुन खां पोय बि धीरज जो दामन पहिंजन हथन मां न निकरिण डियण। हाणे जे गालिह सिंधी साहित्य जी अजीमोशान हस्ती , जहिं जी हर हिक रचना खे वक़्त जी हदुन खां परे अं नओं इतिहास लिखन्दड लेखियो वेन्दो हुजे तहि बाबत कुछ लिखणो हुजे त मतलब सिर्फ हिक ई आहे त अणथीन्दड कमु करण इरादों करण। इन्हन सभनी हकीकतुन सां वाकिफ हूंदे बि हिन सोरिहीं सदी जे बेमिसाल सिंधी कवी क़ाज़ी कदन ते शोध मज़मून लिखण जो फैसलों कियो हो। हिन जो चवण हो त इहो कमु उन्हन तकलीफुन अं दुःखन जेतिरो दर्दनाक त न हूंदो जिनखे हुन सिर्फ पंजन सालन जी उमर में मुल्क जे विरहांगे सबब डिठो अं मुहं डिनो हो।

हीरो ठाकुर जो जन्म २ मार्च १९४३ ते थियो हो पर स्कूली तैलीम शुरू थियण खां अगु ई विरहांगे सबब कुटुंब खे सिंध छड़े भारत अचणो पियो। संदस कुटुंब उल्हासनगर में थायींको थियण जो फैसलों कियो नतीजे तौर हिन उल्हासनगर जे S.E.S. स्कूल नंबर - 1 में स्कूली तैलीम हासिल कयी अं पोय तलरेजा कॉलेज मां ग्रेजुएशन [बी ए आनर्स ] कियो। हीरो ठाकुर राष्ट्रभाषा रत्न जे इम्तिहान में बि पास थियो।

ग्रेजुएट थियण जे बिन सालन जे अंदर मतलब १९६७ में हुन आल इंडिया रेडियो दिल्ली जे खबरुन जे सेक्शन में नौकरी मिली ऐन हुन सिंधी खबरुन जे सेक्शन जी जवाबदारी [इंचार्ज ] डिनी वयी।

आल इंडिया रेडियो ते कमु कन्दे हिन अख़बार नवीसन जी दुनिया में बि दाखिला वरती अं हिंदुस्तान सिंधी [ रोज़ाना अख़बार ] जे पार्लियामेंट एवजीअ तौर कमु करण लगो।  हीरो ठाकुर खे शायद त इहो सभु सिंधी बोली अं सिंधी साहित्य जी सेवा वास्ते घटि आहे सो हिन कविता लिखण, छंड छाण अं खोजना वारा मज़मून लिखण शुरू कियो।  अजु तायीं हिन जूं २०० खां बि वधीक कवीताऊँ छपजी चुकियुं आहिन।  हिंदी जी केतिरिन कहाणीन जो हिन तरजुमो पिण कियो आहे। 

हीरो ठाकुर – अदबी योगदान – लिखियिल किताब

२०० खान बि वधिक सिंधी कविताउन खां सिवाय सिंधी साहित्य खे जेका बेशकीमती सूखडी हीरो ठाकुर डिनी आहे सा आहे "क़ाज़ी कदन जो कलाम " इहो हिकु शोध मज़मून [ Research work ] आहे जेको १९७८ में छपजियो अं जहिं वास्ते हिन खे न सिर्फ साहित्य अकादमी अवार्ड पर बिया बि केतीरा अवार्ड मिलिया। हीरो ठाकुर जे किन चूंड किताबन जा उनवान हेठ डिजन था।

कृष्णचन्दर जूं ननढियुं कहाणियूं [ तरजुमो - २०१२ जो साहित्य अकादमी अवार्ड]
तहक़ीक़ अं तनक़ीद [अदबी मज़मून ]
बहतरीन सिंधी मज़मून
भेरूमल मेहरचंद [जीवनी]
गोलियूँ [देश भक्ति जा गीत]

हीरो ठाकुर – अवार्ड

सिंधी अदबी संसार जी कमियाबीअ वास्ते केतीरा ई भेरा हीरो ठाकुर जो सत्कार थी चुको आहे अं हिन खे मुख्तलिफ अवार्ड सां नवाजियो पिण वियो आहे जिन मां के अहमियत वारा अवार्ड आहिन : -

साहित्य अकादमी अवार्ड [ ब भेरा २००३ में तहक़ीक़ अं तनक़ीद अं २०१२ में कृष्णचन्दर जूं ननढियुं कहाणियूं वास्ते ]
सिंधी सोशल एंड कल्चरल कौंसिल जो सिंधी रत्न अवार्ड
सेंट्रल हिंदी डायरेक्टरेट पारां अवार्ड
NCPSL पारां अवार्ड
१९८३ जी वर्ल्ड सिंधी कांफ्रेंस दौरान भारत जे राष्ट्रपति जे हथन सां खास ट्रॉफी