Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

सिंधी सिंध ऐं सिन्धियत

advertise here

Advertise Here

Before you start reading my poems in Sindhi language one thing I wish to make very clear that I was student of Science and worked as teacher of same subject. I am not making a claim that there are no grammatical short comings in my poetry in Sindhi language.  Experts of language of requested either to avoid or write me where the correction is required.

S.P.Sir Kolhapur
01 June 2016 

गंगा में सिनान – 13 Aug

विसारे सिंधु , असां खे गंगा सिनान करणो  आहे
न मिलन्दी सिंध वरी, नओं सिंध असां खे अड़णो आहे
खणी धरमु पाण सां, जे असां छड़े सिंध आयासीं
त अजु बि उन धर्म खातिर मरणो जियणो आहे।
विसारे सिंधु, असां खे गंगा सिनान करणो  आहे।।

मिलण सिन्धियिन खे सिंध वापस इहो ना ममुकिन आहे
रहूँ सभु सिंधी गड़जी हिक हंध, इहो बि मुमकिन न आहे
जियणो आहे असां खे हाणे, विछुडी अबाणी सिंध खां
आहे इहा अजु जी हकीकत, बस इहो ई सचु आहे।
विसारे सिंधु, असां खे गंगा सिनान करणो  आहे।।

आहे इहा लाचारी असां जी , या लेख आहे कुदरत जो
सिन्धियिन खे रखिणो आ मानु, माज़ीअ वारी सिंध जो
कियो विचार दिलोदिमाग सां आज़ाद सचल जे खियालन ते
नाहे को बियो चाढ़िहो, असां खे नओं सिंध अड़णो आहे।
विसारे सिंधु, असां खे गंगा सिनान करणो  आहे।।

न वेन्दुम सिन्ध – 08 Aug

रह्न्दुम मां हिन्द में सदा
न वेन्दुम कडहिं मां सिन्ध अदा
हुयी निशानी सिक जी सिन्ध
अजु उते बेशुमार ज़ुल्म थियन था
आहे मुल्क उहो बराबर अबाणो
पर कीअं पहिंजो धर्म विंजाइदुम।
रह्न्दुम मां हिन्द में सदा
न वेन्दुम कडहिं मां सिन्ध अदा।।

सिन्धु सभ्यता सां, न मुहिंजो नातो टूटन्दो
सिन्ध ऐं सिन्धियत लाय प्यार सदा ज़िंदह रहन्दो
डिनो अझो आसरो जहिं हिन्द
अनु खे कीअं विसारिन्दुम।
रह्न्दुम मां हिन्द में सदा
न वेन्दुम कडहिं मां सिन्ध अदा।।

छडी अबाणन सिन्ध, खणी पाण सां धर्म आया
हुआसीं हिन्दु, आहियुं हिन्दु
मां पाण खे हिन्दु सढ़ाइन्दुम
आज़ाद सचल जो नारो, हर कहिं खे बुधायीन्दुम।
रह्न्दुम मां हिन्द में सदा
न वेन्दुम कडहिं मां सिन्ध अदा।।

नोटु : जे तव्हां हिन कविता खे उन बालक जे दिल जी सदा तौर पढ़हन्दा जहिं जे दिल में पहिंजन वेडरेन खां बुधी सिंध वास्ते हुब, सिक ऐं प्यार जो जज़्बो पैदा थियो आहे पर विरहांगे वकत सिंध में पैदा थियिल हालतयूं संदस सिंध न वञण जे इरादे खे पुखतो कनि थियूं त शायद हीउ कविता तव्हां खे पहिंजे दिल जे वधीक वेझो महसूस थीन्दी।      

प्यार जो ज़ारू – 08 Aug

गोलिहिण निकतो आहियाँ मां, खणी प्यार जो ज़ारु
किथे त मिलन्दो उहो, जहिं खे आ इन्सानियत सां प्यार
पहिंजियुं पहिंजियुं सिफतूं खणी, मिलन हजारें हर रोज़
पर गोलिहियां मां उन खे, जो आहे सचो मनु ठारु।
गोलिहिण निकतो आहियाँ मां, खणी प्यार जो ज़ारु।।

न विसरन्दो मुखां जीवन, सिन्धियत जहिंजो आधार
सिक ऐं प्रेम बिना, हले न जहिंजो कारोबार
रही खुश पाण सदा, डियन बियन खे खुशियिन जा ढेर
इन खां अलग छा बियो आहे, सिंधीयिन जो संसारु।
गोलिहिण निकतो आहियाँ मां, खणी प्यार जो ज़ारु।।

दुनिया जी हर कुंड कुरश में, मौजूद अजु आहिन
हुयी कडहिं सिन्ध हुनन जी, अजु हिन्द आ आहिन
हले हुकूमत आज़ाद सचल जी, हर हंध
सजी दुनिया आहे, सिंधीयिन जो घरु बारू।
गोलिहिण निकतो आहियाँ मां, खणी प्यार जो ज़ारु।।

हिन्द ऐं सिन्ध – 02 Aug

हिन्द जे अगण में खेढ़ी, मां वडो थियो आहियाँ
हुओ सिन्ध अबाणो मुल्क, बस ऐतिरो मां जाणा
हिन्द आहे वतन मुहिंजो, मां हिन्द जो आहियाँ
सिन्ध वास्ते मां हिन्द खे कीअं ऐं छो विसारियाँ।
हिन्द जे अगण में खेढ़ी, मां वडो थियो आहियाँ।।

काश्मीर खां कन्याकुमारी
फैलियिल सरहद मुहिंजे वतन जी
दिल में हुजे याद भले सिन्ध
पर मां सिपाही हिन्द जो आहियाँ।
हिन्द जे अगण में खेढ़ी, मां वडो थियो आहियाँ।।

न विसरन्दी सिन्ध ,
पर माज़ी में ज़िंदह न रहिबो आहे
वसे सिन्ध हिन्द जी हर कुंड में
जिते बि सिंधी रहंदो आहे
जन्म वरतो मूं हिन्द में ,
जवानी हिते ई माणी
खायी अनु हिन्द जो आज़ाद सचल 
सिन्ध जो कीअं सढायाँ।
हिन्द जे अगण में खेढ़ी, मां वडो थियो आहियाँ।।

हिन्द में – 07 Aug

विसारे सिन्ध खे, हिन्द में जिअणो आ
हिक नयीं लिखावट, हिकु नओं इतिहास लिखणो आ
बिलाशक माज़ी थिये थो बुनियाद
मुखे नयीं बुनियाद ते, नओं महल अड़िणो आ।
विसारे सिन्ध खे, हिन्द में जिअणो आ।।

न विसारींदुम माज़ी, त मुस्तकबिल जो छा थीन्दो
न वेन्दी खिज़ां, त मौसम-ए-बहार किथां ईन्दो
आहे बराबर इहो कमु, वढो दुखदायी
पर अगते वधण जो, इहो ई रस्तो आ।
विसारे सिन्ध खे, हिन्द में जिअणो आ।।

लिपिअ जे झगड़े में, सिंधी बोली खतम थी वयी
सिन्धियत खां हिन्द जी पीढ़ी महरूम रहजी वयी
न कन्दुम परवाह, जमानो जो चाहे हाणे चवे
बचायिण सिन्धियत आज़ाद सचल खे कदम वधायिणो आ।
विसारे सिन्ध खे, हिन्द में जिअणो आ।।

पीन्घे में – 26 Jul

पीन्घे में लोडे डिनी अम्मा मुखे लोली
नानी खणी आयी हुयी मूं लाय नयीं चोली
ढाढ़े ढाढ़ीअ डिनी जा सूखड़ी हुयी सा बोली
मिली जन्म खां आहे मुखे मिठड़ी सिंधी बोली।
पीन्घे में लोडे डिनी अम्मा मुखे लोली।।

न विसरन्दी सिन्धी, रहन्दी सदा साथ
ढाढ़ो ढाढ़ी त विछिड़िया पर बोली आहे साथ
आ सुञाणप इहा मुहिंजी, आ मुहिंजो अभिमान
जियरे जुबाँ न चुप रहन्दी,
पयी गालिहाईन्दी सिंधी बोली।
पीन्घे में लोडे डिनी अम्मा मुखे लोली।।

आयो नयों ज़मानों आ , बदलियो सभ जो वेसु
विसरण शुरू थी आ सिंधी, वधे वैसे पयी बी बोली
न रह्न्दुम मां, न रहन्दे तूं , बाकी बचन्दी बोली
आहियीं ज़िंदह आज़ाद सचल तूं
जेसीं ज़िंदह सिन्धी बोली।
पीन्घे में लोडे डिनी अम्मा मुखे लोली।।

मां सिंधी – 09 JUN 2016

हा मां सिंधी आहियां
सिंधी मुहंजी बोली आ
सिन्धियत मुंहिंजो चोलो आ
कयां मां झूलेलाल जी पूजा
कढ़ी बहराणो पलव पाइन्दो आहियां
हा मां सिंधी आहियां ।।

हुजे जिते बि कोई सिंधी
खुश हुजे सदा खुशहाल रहे
दुःख को अचे न उन जे आडो
सदा बस इहो चाहिँदो आहियां ।
हा मां सिंधी आहियां ।।

नफरत खां रहाँ परे मां
अचे न झगड़े जी बोली
दौर सां छा मतलब आज़ाद सचल जो
न कडहिं हिमथ हारिन्दो आहियाँ।
हा मां सिंधी आहियां ।।

मां सिंधी आहियाँ 15 Jun 2016

न कहिं सां मुहिंजी चटा भेटी
पहिंजे मुकाबिल मा ई आहियाँ
मिलन्दी छो न मज़िल मुखे
हर राह सां मां वाक़िफ़ आहियाँ। 
आखिर त मां सिंधी आहियाँ।।

टिडन्दा गुल फुल, मींहु बि वसन्दो 
कारी अँधेरी रात खे, सिजु  दर्शन डीन्दो
न तूफान जो भउ, न गर्दिश सताये मुखे
रहियो हर दौर में , कामियाब आहियाँ।
आखिर त मां सिंधी आहियाँ।।

ज़िंदगी मुहंजी आ, हिकु बामकसद सफर
मंजिल जी राह तां न भटिकन्दो आहियाँ
न आहे को हिकु मुल्क वतन, छड़े अबाणी सिन्ध
हर दिल में आज़ाद सचल मां वसन्दो आहियाँ।
आखिर त मां सिंधी आहियाँ।।

मां सिंधी – 09 jun 2016

पर मां सिंधी आहियाँ।
सवाल आ त छो आहियाँ।।

सिंधी बोली न अचे मुखे
न याद सिंधी डिण आहिन
सिंधी खाधो न वणे मुखे
सिंधी किताब न पढ़हन्दो आहियाँ।
पर मां सिंधी आहियाँ।।

छा जी "छेज " छा "भगत "
मां गरबा डिस्को जो दीवानो आहियाँ
थी चुकियूं हुयूं पुराणीयूँ सभु रिवायतूं
मां सिंधी रस्मोरिवाज खां आज़ाद आहियाँ।
पर मां सिंधी आहियाँ।।

न रही सिंधी बोली धंधे ते न असर थींदो
थिया बंद जे स्कूल बारु  इंग्लिश में पढ़हन्दो
थियन बंद भली सिंधी अखबारुं रिसाला
हुअं बि मां कोन पढ़हन्दो आहियाँ।
पर मां सिंधी आहियाँ।।

आहे अजु बि याद मुखे अम्माँ जी मिठड़ी लोली
अंगण जूं रान्दियु, सिंधी बोली ,
डीकी डकर जी टोली
पींघ, लाडा, मौज मजलस खे
करे याद आज़ाद सचल  
सिंधियत वधण जो
सपनो डीसन्दो आहियाँ।
छो जो आखिर त मां सिंधी आहियाँ।।