Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

जयपुर सिंधी शान

advt3

advt1

सिंधी शान

हिअ असांजी कोशिश आहे जियँ वध में वध सिंधी समाज सेवियन , मकानी सतह ते कमु कन्दड सिंधी सियासतदानन अं कामयाब नामवर सिंधी व्यापारियन बाबत जाण ऑनलाइन हुजे। जे तव्हां पहिंजो पाण खे या पहिंजे शहर जे कहिं सिंधीअ खे सिंधी शान में शामिल थियण जे काबिल समझो था त असांखे लिखो

वासदेव सिंधु भारती

vasdev_bharti9 नवंबर 1938 ते हैदराबाद सिंध में जावल वासदेव जी स्कूली तैलीम चाहे सिर्फ हायर सेकेंडरी हुजे पर हुन जो शुमार जयपुर में सिंधियत हलचल शुरू करण वारी त्रमुर्ती [ सूंदर अगनानी ऐं लछ्मण भम्भाणी] में थींदो आहे।  सिंधी अदब में मानवारे वासदेव सिंधु भारती जी खूबी आहे त हुन बारन वास्ते 200 खां वधीक कहाणियूं ऐं लेख लिखिया आहिन।  सिंधियत जी जोत जगायिण वास्ते, सिंधी अदबी तोड़े सामाजिक विरसे जे वाधारे वास्ते कियिल कमन सबब सिंधियत ऐं सिंधी सपूत अवार्ड हासिल वासदेव जा बयी छपियिल किताब इंडलठ [1983] ऐं नयीं रोशनी [1989] पिण बारन जी कहाणिन सां वास्तो रखन था। सिंधी बाल साहित्य जी नामवर शख्सियत वासदेव खे सिंधी अदब जी तमाम विरलन सदा खुश शख्सियत लेखियो वेन्दो आहे।   

इन्दरसेन ईसरानी

inderasen_israniमशहूर फ्रीडम फाइटर सीरूमल ईसरानी जे पुट्र  जे रूप में 16 अप्रैल 1931 ते जन्म वठण वारे जयपुर जे नामवर वकील ऐं समाज सेवी इंदरसेन जी वधीक मशहूर वाक़फ़ियत आहे जस्टिस इंदरसेन ईसरानी।  जयपुर जे सिंधी वापारिन खे संदन दुकान जा पटा वठी डियण में ईसरानी साहिब काफ़ी कोशीशूँ कयूं ऐं कामियाबी हासिल कयी।  13 जुलाई 1985 खां 15 अप्रैल 1993 तायीं राजस्थान हाई कोर्ट जे जज जो ओहदो माणीन्दड ईसरानी साहिब सिंधी कॉउन्सिल ऑफ़ इंडिया ऐं NCPSL - नेशनल कौंसिल फॉर प्रमोशन ऑफ़ सिंधी लैंग्वेज सां जुडियिल आहे। हु आल इंडिया सिंधु कल्चरल सोसाइटी - जेका सिंधी भाषा , सिंधी साहित्य ऐं सिन्धियत जे वाधारे वास्ते कोशीशूँ करण जे मकसद सां बरपा कयी वयी आहे - जा बरपा कन्दड़ चेयरमैन पिण आहिन।  

 

advt4

advt2

श्री भगवान अटलानी

bhagwan_atlani1हिंदी ऐं सिंधी साहित्यिक दुनिया में नामवर भगवान अटलानी जो जन्म १० मार्च १९४५ ते लाडकाणा सिंधी में थियिल आहे।  हेल तायीं संदस लिखियिल ऐं तरजुमो कियिल २७ किताब छपजी चुका आहिन ऐं १२०० खां बी वधीक लेख / कहाणियूं राजस्थान पत्रिका जयपुर अं बियिन अखबारुन / मैगज़ीन्स में छपजी चुका आहिन।  B.Sc. पास भगवान अटलानी स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया जी मुलाज़िमत में रहियो हो।  १९९७ -२००० इन अरसे में राजस्थान सिंधी अकादमी जे चेयरमैन जे ओहदे ते कमु कन्दड भगवान  अटलानी सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड्स जी कमेटी [२०००-२००१] ऐं नेशनल कौंसिल फॉर प्रमोशन ऑफ़ सिंधी लैंग्वेज [NCPLS] जो मेंबर बि रहियो आहे।  स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया जी हिंदी मैगज़ीन सेतु जो फाउंडर एडिटर हुअण खां सिवाय भगवान अटलानी कुछ बियिन मैगज़ीन्स सां बि बतौर एडिटर जुडियिल आहे।  राजस्थान सिंधी अकादमी, सेंट्रल हिंदी डायरेक्टरेट ऐं बियूं केतिरियूं अदबी ऐं सामाजिक संस्थाऊँ मुखतलिफ़ मोकन ते भगवान अटलानी जो सत्कार करे चुकियूं आहिन। 

 

advt4