Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

कला प्रकाश

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – कला प्रकाश

फेमस सिंधी लेखिका - सिंधी नावेल - अकादमी अवार्ड
सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल 27 सिंधी अदीब  1994

kalaprakashकला प्रकाश हिक फेमस सिंधी नावेल लेखिका आहे जहिं पहिंजी दर्जेदार लेखणी सां साबित कियो आहे त सिंधी औरत, मरदन खां पोयते कोन्हे चाहे उहो खेतर सिंधी साहित्य जी सेवा या सिंधी तहज़ीब खे महफूज़ रखण जो छो न हुजे। कहिं बि कुटुंब वास्ते इहा फ़खुर जी गालिह आहे त ज़ाल मुड्स बिन्ही खे सिंधी साहित्य अकादमी जे मान वारे लिखिये वेन्दड अकादमी अवार्ड सां नवाजियो वञें। कला प्रकाश खे १९९४ में "आरसीअ आडो " वास्ते त संदस मुड्स डॉ मोती प्रकाश खे १९८८ में "से सभु सांढयिम साह सीं " वास्ते अकादमी अवार्ड मिली चुको आहे।

०२ जनवरी १९३४ ते कराची सिंध में जावल कला प्रकाश सिंधी सहित्य जगत में हिक कामियाब अं फेमस सिंधी लेखिका जो दरजो रखन्दी आहे पर जे हकीकत में डिसजे त संदस सही सुञाणप आहे त हुअ हरदिल अज़ीज़ लेखिका आहे जहिं जा लिखियिल सिंधी नावेल माणुहुन खे बेहद वणन्दा आहिन।  सिंधी नॉवेल अं कहाणीयिन खां सिवाय कला प्रकाश  जी लिखियिल कविताउन [नज़्म ] जो हिकु किताब अं संदस सिंध यात्रा जो मुसाफिरी विचूरनामो [ travelogue] बि छपजी चुका आहिन।  १९५४ में  मोती प्रकाश सां संदस शादी थी अं १९७७ खां  डॉ मोती  जी नौकरी सबब जोड़ो दुबई में रहण लगो। अटकल २५ सालन खां पोय २००२ में हू भारत वापस मोटिया अं आदिपुर में रहण लगा जिते इंस्टिट्यूट ऑफ़ सिन्धोलॉजी मार्फत कला प्रकाश सिंधी भाषा अं सिंधी साहित्य  सेवा में लगी वयी।  

कला प्रकाश जे सिंधी अदबी दुनिया जे सफर जी शुरुआत संदस १९५३ में लिखियिल कहाणी "डोही बेडोही" सां थी हुयी। इहा कहाणी मुंबई मां छपजन्दड मशहूर माहवारी मगज़ीन "नयी दुनिया" में छपी हुयी। "हिक दिल हज़ार अरमान " इहो उनवान आहे कला प्रकाश लिखियिल पहिरियें सिंधी नॉवेल जो। इहो सिंधी नॉवेल ऐतिरो त कामियाब थियो जो भारत में १९७२ में बियो भेरो अं पाकिस्तान में १९७३ में पहिरियों भेरो वरी छापियो वियो। १९८४ में कला प्रकाश सिंध यात्रा ते वयी जहिंजो सफर विचूरनामो बि छपजी चुको आहे।

"पखन जी प्रीत" संदस वेझिडायी में छपियिल किताब आहे। हिन वक़्त तायीं कला प्रकाश जा अट सिंधी नॉवेल, कुछ कहाणिन अं कविताउन जा किताब छपजी चुका आहिन अं १९९४ में खेस "आरसीअ आडो " वास्ते अकादमी अवार्ड पिण मिली चुको आहे।

कला प्रकाश – अदबी योगदान – छपियिल किताब

जियँ त कला प्रकाश सिंधी नॉवेल लिखण वास्ते वधीक मशहूर आहे तहिं करे संदस किताबन जी लिस्ट जा ब हिंसा कजन था - सिंधी नॉवेल अं बिया किताब 

कला प्रकाश जा सिंधी नॉवेल

१९५७ - हिक दिल हज़ार अरमान
१९६० - शीशे जी दिल
१९८८ - वक़्त :: विथयुं -विछोटियुं
१९९२ - आरसीअ आडो
१९९८ - पखन जी प्रीत
२००४ - समुंड अं किनारो
२०१० - अनोखा पंध प्यार जा

कला प्रकाश जा बिया किताब

१९६३ - ममता जूं लहरुं [नज़्म]
१९७३ - मूर्क अं ममता
१९९३ - वारन में गुल
२००८ - इन्तिज़ार

कला प्रकाश – अवार्ड

अकादमी अवार्ड खां सिवाय बिया जेके अवार्ड कला प्रकाश खे मिलिया आहिन से आहिन

१९६५ - अखिल भारत सिंधी बोली अं साहित सभा
१९६२ - महाराष्ट्र सिंधी अकादमी अवार्ड
२००१ - ईश्वरी जीवतराम बुक्सानी अवार्ड
२०१० - प्रियदर्शनी अकादमी अवार्ड