Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

संत कंवरराम

advertise here

Advertise Here

जीवनी : संत शिरोमणी भगत कंवर राम

"नाले अलख जे बेड़ो तार मुंहिंजो "
भगत साहिब जे सभ खां वधीक मशहूर गायिकी जी हिक तुक

kanwarसिंधी बोलीअ में चइबो आहे
"शाल अहिड़ा लाल जमन जेके जमन्दे जामु बणी जग खे रोशन कन "
[may the such kids born, who virtue of their character and quality not only bring the pride for the parents and nation but the whole world may get shined with them.]
अहिडीई हिक शख्सियत हुआ साईं संत कँवर राम साहिब।

सिंधु जी सरज़मीं खे धर्मात्मा शख्सियतुंन, रूहानी रहबरन , सुफियिन , संतन , दरवेशन ऐं फकीरन जी जन्म भूमि हूअण जो लक़ब हासिल आहे।  १३ अप्रैल १८८५ ते इन पवित्र भूमिअ पहिंजे लक़ब खे हिक भेरो वरी साबित कियो , छो जो इन डीन्ह ते सखर जिले जे ज़ारवार गोठ में माता तीर्थबाई ऐं पिता ताराचंद जे घर बालक कँवर जो जन्म थियो। 

कँवर जी जदिहं पहिरियों भेरो साईं सतराम दास साहिब जन सां मुलाकात थी तहिं वक़्त हू फ़क़त ९ सालन जो बालक हो।  साईं सतराम दास साहिब  ज़ारवार गोठ में आयिल हुआ ऐं कँवर संदन सत्संग वारे हंद जे बाहिरियां कूहर पे विकिया।  साईं सतराम दास साहिब कँवर खां कूहर वठी खादा ऐं मोट में पैसा डियण चाहिया पर नन्दडे बालक कँवर पहिंजी ज़िन्दगीअ जो वड़े में वडो सौदो कयो। कँवर चयो "साईं जे तव्हां कुहरन जे ऐवज में कुछ डियण चाहियो था त मेहरबानी करे पहिंजे शागिर्द तौर मुखे कबूल करे सेवा जो मौको डियो। "

साईं सतराम दास साहिब जी रहबरीअ में कँवर राम साहिबन रूहानी राह ते तरक्की कयी पर गडोगडु  थोरे ई अरसे में सजी सिंधु में मशहूर पिण थी विया।  भगत लाय हिक गोठ खां बिये तायीं मुसाफिरी कंदे भगत साहिब आमु इन्सानन खे , मशहूर संतन दरवेशन , मीरा, कबीर, शाह लतीफ़ ऐं बियन जा  लिखियल भजन गाये , सच्चे मालिक सां जोडिन्दा हलन्दा हुआ।  भगत साहिब जो मिठो सुरीलो ऐं दर्द भरियो आवाज़ न रुगो माण्हुन खे वडा मुफ़सिला तय करे भगत साहिब खे बुधण लाय अचण वास्ते मज़बूर कंदो हो पर गडोगडु उन्हन खे साईं कँवर राम जो मुरीद बि बणाईये छडियिन्दो हो।  

संत कँवर राम – रूहानी रहबर

भगत कँवर राम साहिब जन जी हयातीअ में अहिडियुं बेशुमार गालिहियुं थी गुज़रियूं आहिन जेके संदन लासानी रूहानी ताकत जी गवाही डियन थियूं। चवन पिया हिकु भेरो जडहिं भगत साहिबन भारीतय रागु - "रागु सारंग " , जहिं खे बरसात जो रागु सडिबो आहे , गायीण शुरू कियो त उस सां भरियल आसमान में कारा कारा बादल कठा थियण लगा ऐं भगत साहिब जे रागु पूरो करण खां अगु ई तेज बरसात शुरू थी वयी।

हिकु भेरो हिक गोठ में भगत कँवर राम साहिब भगत पिया कनि।  उन गोठ में हिक मायीअ जो नंढो बारु मरी वियो हो ऐं हुन उहो मुअल बारु भगत साहिब जी हज़ में डयी लोली डियण लाय वेनंती कयी। बार कहे खणण सां ई भगत साहिबन खे अहसास थी वियो त बरु मुअल आहे।  भगत कँवर राम सोचियो त मुमकिन आहे त के माणहू इहो सोचिन त बारु भगत साहिब जी हज़ में मरी वियो।  बस इहो सोचे भगत साहिबन पहिंजे रुहानी गुरु साईं सतराम दास साहिबन खे याद कंदे लोली डियण जी शुरुआत कयी ऐं चमत्कार थी वियो मुअल बारु लोली पूरी थियण खां अगु ई रुअण लगो।  इहो डीसी बार जी माता अची भगत साहिबन जे पेरन ते अची किरी अं समूरी हकीकत बुधायिनीं।  

भगत साहिबन जो नियम हूंदो त कहिं बि गोठ मां भगत जे दौरान जेको मिलन्दो हो सो सभु भगत साहिब उते ई गरीब गुरबे ऐं घुरजाउन में विरहाये छड़ींदा हुआ। जहिं सबब भगत साहिबन जो जसु डीन्हो डींहुं वधंदो पे वयो ऐं इहो डीसी भगत साहिब सां साडु कन्दडन जो तादाद पिण वधे पियो। भगत साहिबन जो जसु ऐतरो वधी वियो जो आम इंसान उन्हन खे सच्चो सतराम चवण लगो।  HMV कंपनी, जहिं वट अजु भी भगत साहिब जी आवाज़ जा रिकॉर्ड आहिन,  तहिंजो रिकॉर्डिंग स्टुडिओ उन वक़्त कराची में हुओ। जीयं त भगत कँवर राम कराची में रिकॉर्डिंग करायींण लाय तैयार न हुआ तहिंकरे लाचारीअ में कंपनीअ जा माणहू पाणीअ जे जहाज़ रस्ते रिकॉर्डिंग मशनियुं खणी सखर आया ऐं  भगत साहिबन जे दिलोदिमाग खे सुकुन डीयन्दड आवाज़ जी रिकॉर्डिंग कियायुं।  

सिंधु जे इतिहास में १ नवंबर १९३९ खे कारो डीन्हु करे लेखियो वेन्दो आहे छो जो इन डीन्ह ते किन सिरफिरन रुकरी गोठ जी रेल स्टेशन ते भगत कँवर राम ते गोलियुं हलाये भगत साहिब जी हायतीअ जो अंत कियो हो।

मुल्क जे विरहांगे खां पोय भगत साहिब जे पोट्रे साईं मनोहरलाल अमरावती शहर में हिक ट्रस्ट बरपा करे भगत साहिबन जे कमन खे अगते शुरू रखियो आहे।  २०१६  में १०० करोड़ रूपया खरचु करे अमरावती शहर में कँवर धाम ठाहिरायिण जे रिथायिते कम जी शुरुआत कयी वयी आहे। 

भगत साहिबन जो मशहूर कलाम नाले अलख जे गांधीनगर कोल्हापुर जे अठें सालें जे बालक सोमेश उदासी जी पुर असर आवाज़ में बुधण ऐं विडियो डिसण वास्ते हिते किलिक कियो।