Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

कृष्ण खटवानी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – कृष्ण खटवानी

घण खेतरी सलाहियित वारो- फेमस सिंधी - नावेल लिखन्दड - अकादमी अवार्ड

krishin_khatwaniकुदरत कहिं हिक शख्स खे विरले ई ऐतिरिन सलाहीयतुन सां मालामाल कन्दी आहे जेतिरियुं फेमस सिंधी नावेल लिखन्दड अं कहाणीकार कृष्ण खटवानी में हुयुं। हिन जो जन्म दीवान ईदनदास खटवानी जे पुट्र जे रूप में सिंध जे नवाबशाह जिले जे गोठ थारुशाह में ७ नवंबर १९२७ ते थियो हो। कराची में स्कूली तैलीम हासिल करण खां पोय वधीक पढ़ायी जी मुराद सां हिन शान्ती निकेतन में दाखिला वरतो।

बियिन लखें सिंधी हिंदुन वांगुर खटवानी कुटुंब खे बि सिंध छड़े भारत अचणो पियो पर उन वक़्त तायीं कृष्ण सुशीला सां शादी करें चुको हो। जोड़े खे ब पुट्र अं हिक धीउ कुल टे औलाद आहिन।  भारत अची कृष्ण खटवानी मध्यप्रदेश जे इंदौर शहर में पलासिया कॉलोनी में रहण लगो।  पहिंजे समे जे सिंधी साहित्यकारन में हिन जे घर "सिंधु " जी ओतक इंदौर अचण ते विहण जी पसंदीदा जगह जे रूप में मशहूर हुयी छो जो उते पढ़हण वास्ते घणो कुछ मौजूद हूंदो हो। 

जेतोणिक कृष्ण खटवानी आमु माणुहुन जे पसंदीदा नावेल लेखक जे रूप में मशहूर हो तहिं हूंदे बि सिंधी नज़्म, सिंधी नाटक, कहाणी लिखण अं वेन्दे बायोग्राफी या मुसाफिरी जो बयान लिखण में बि हिन खे महारत हासिल हुयी।  पहिंजे अदबी सफर में कृष्ण खटवानी सिंधी साहित्य खे १८ किताबन सां मालामाल कियो आहे जिन मां ६ नावेल आहिन।  हिन जे लिखियिल कुछ किताबन जो बियिन भाषाउन में तरजुमो पिण कियो वियो आहे।  

"याद हिक प्यारजी " कृष्ण खटवानी जी लासानी रचना आहे जहिं लाय १९८० में हिन खे सिंधी साहित्य अकादमी जे मान वारे अकादमी अवार्ड सां नवाजे सिंधी साहित्य लाय कियिल सेवा वास्ते हिन जो सत्कार कियो वियो। "याद हिक प्यारजी " हिन जे खास नमूने जी लेखणी - जहिं मूजिब पहिंजे लफजन जी चूंड सां विषय जो विस्तार कन्दे रचना जे आखिर तायीं पढ़हन्दड जो चाह बरकरार रखन्दो हो - जो बेहतरीन मिसाल आहे।

सिंधी अदबी दुनिया में कृष्ण खटवानी खे हिक लेखक जे बदरां हिक चित्रकार लेखियो वेंदो हो छो जो हिन जे समे जे लगभग सभनी नकादन [अदबी लिहाज खां खूबियुं अं खामियुं बुधायिन्दड ] हिन बाबत रायो हो त कृष्ण किताब लिखण जी जगह ते चित्र ठाहे थो। हिन हर साहित्यिक रचना चाहे उहा "अमर प्रेम" हुजे या "सत डीहं " में लफजन जी चूंड ऐतिरी सही अं मुनासिब हूंदी आहे जो जण कहिं चित्रकार हिकु दिलकश चित्र ठाहिण वास्ते माकूल अं हकीकी रंग चूड़ियां हुजन।

कृष्ण खटवानी सेंट्रल साहित्य अकादमी जे सिंधी एडवाइजरी बोर्ड जे कोऑर्डिनेटर तौर १९९३ खां १९९७ तायीं कमु कियो हो। ११ अक्टूबर २००७ ते हिन पहिंजे घर में स्वर्गवास थियो।  

कृष्ण खटवानी – अदबी योगदान – लिखियिल किताब

कृष्ण खटवानी सिंधी साहित्य जी घण हुनरी शख्सियतुन मां हिकु आहे तहिं करे संदस अदबी योगदान लिखियिल किताबन लिस्ट जा टे हिसा किया विया आहिन।

कृष्ण खटवानी – कहाणियूं

१९४३ - टुटल तारू
१९६२ - बिन्दुरी
१९७३ - मिठड़ी तो न सुञातो
१९८० - परदेसिण अं अकेली
१९८५ - जियापे जो साधन
१९९३ - विपहरी
१९९३ - धुंधला चेहरा

कृष्ण खटवानी – नावेल

१९६१ - अमर प्रेम
१९६२ - मुहिंजी मिठड़ी सिंध
१९७८ - व्यर्थ ज़िन्दगीयूँ
१९७८ - याद हिक प्यार जी
१९८५ - सत डीहं
१९९६ - तरन्दड बादल

कृष्ण खटवानी – बिया किताब

१९४३ - सियासी मुदबर
१९७६ - आशियानों
१९८९ - हिक डिघी शान्त
१९९२ - मुहिंजा मारूअड़ा

कृष्ण खटवानी – अवार्ड

कृष्ण खटवानी खे मिलियिल अहमियत वारा अवार्ड आहिन

सिंधी साहित्य अकादमी पारां "याद हिक प्यार जी " वास्ते अकादमी अवार्ड में
भारतीय भाषा परिषद पारां सिंधी अदबी योगदान वास्ते
मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य परिषद पारां "सामी" अवार्ड