Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

लछ्मण भम्भाणी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी : लछ्मण उधाराम भम्भाणी

सिंधी साहित्य - राजस्थान सिंधी अकादमी - सिंधी लेखक अखबारनवीस 
lachman_bhambhaniसिंधी साहित्य जी नामवर त्रमूर्ति सचल, सामी ऐं शाह वांगुर, जयपुर राजस्थान जे सिंधी अदबी उफ़क़ खे ट्रिन सितारन सूंदर अगनानी, लछ्मण भम्भाणी ऐं वासदेव सिंधु भारती जी त्रिमूर्ति बेमिसाल रोशनी सां भरे छडियो।  हीउ उहे ट्रे शख्सियतूं आहिन जिन सिंधी अदबी तहज़ीब ऐं सिंधी कौम जे विरसे जी महफ़ूज़ी ऐं वाधारे वास्ते सिंधियत हलचल शुरू कयी। इहो बि शायद संजोग आहे जो हिनन मां बिन [सूंदर ऐं लछ्मण ] जो जन्म सिंध जे नवाबशाह ज़िले में थियल आहे त ब [वासदेव ऐं लछ्मण ] सागे साल 1938 जे सागे नवंबर महीने में जावल आहिन।  

राजस्थान तोड़े भारत जे हिंदी बोली गालिहायिण वारे वड़े तादाद तायीं सिंधी साहित्य पहुचायिण में लछ्मण भम्भाणी बेमिसाल योगदान डिनो आहे।  1999 खां साल में ब भेरा छपजण वारी हिंदी साहित्यिक पत्रिका सिंधी साहित्य सुरभी सां लछ्मण भम्भाणी बतोर एडिटर जुडियिल आहे।  इन पत्रिका जी खूबी आहे त चूंड सिंधी साहित्य जो हिंदी तरजुमो इनमें शाया थींदो आहे।  लछ्मण किन बियन रिसालन  सुहिणी, रिहाण ऐं इंद्रधनुष  जे एडिटर जो  कमु पिण कियो आहे। 

17 नवंबर 1938 ते नवाबशाह सिंधी में जावल, जयपुर निवासी लछ्मण उधाराम भम्भाणी सरकारी नौकरी जी शुरुआत करण खां अगु स्नातक, कोविद [राष्ट्रभाषा प्रचार समिती वर्धा] ऐं साहित्य रत्न [पंजाब यूनिवर्सिटी] जी पढ़ायी करे चुको हो।  ट्रिन अलग अलग - लेखक , अखबारनवीस ऐं अदाकारी - खेतरन में महारत रखण वारे नामवर अदीब आम तोर कहाणिन ऐं मज़मून जे रूप में पाणु पधरो कियो आहे।  ममता जो मौत ऐं मम्मी मोटी आउ जहिडिन रचनाउन वसीले हर शख्स जी दिल में मौजूद माउ लाय सिक हुब ऐं आदर जो इजिहार कियो आहे त 1964 में शाया थीयिल सपना ऐं सुड़का वसीले हुन पहिंजी सृजनात्मक कल्पना शक्ती जी वाकफियत डिनी आहे। संदस बेमिसाल कामियाबी आहे जो हुन पहिंजे अंदर जे बार खे सदा जियरो रखियो आहे इन जो मिसाल आहे रोशनी जो रथु बाल कहाणिन जो मजमो जेको 1994 में उन वक़त शाया थियो जहिं समे हू सरकारी नौकरी मां रिटायर थियण जी उमिर जे वेझो पहुतल हो। 

लछ्मण भम्भाणी जी हिक बी खासियत आहे त हुन पहिंजे अदाकारी ऐं स्टेज जे ज़ुनून खे लिकायिण जी कोशिश कोन कयी आहे। चाहे हिंदी नाटक छो न हुजे हुन स्टेज ते अचण जो को बि मोको हथन मां वञण न डिनो आहे।  30 सिंधी , हिंदी नाटकन में कमु करण सां गडु लछ्मण अटकल 25 रेडियो ऐं टी वी नाटक में बि अदाकारी करे चुको आहे।  लछ्मण खे कमु करण जी शक्ती जो वसीह ज़खीरो चयो वेन्दो आहे 1995 खां वठी अखिल भारत सिंधी बोली ऐं साहित्य सभा जे जनरल सेक्रेटरी जे ओहदे ते कमु कन्दो रहण इन शक्ती जो सबूत आहे।  हू राजस्थान सिंधी अकादमी जे मेंबर तोर पिण कमु करे चुको आहे। 2017 जे सिंधी साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार जी चूंड करण वारी जूरी में लछ्मणदास केसवानी ऐं नारी लछवानी सां गडु लछ्मण भम्भाणी जो नालो बि शामिल आहे।   

साहित्यिक योगदान - लछ्मण भम्भाणी जा किताब 

कहाणिन जा किताब 
1964  सपना ऐं सुड़का 
1986  अंबोह खां बाहिर 
1988  सुड़कन भरियो पलांद 
1995  ममता जो मौत 
2004  जहाज़ जो पंछी 

नाटक 
1985  मम्मी मोटी आउ 
2000  अढायी अखर प्रेम जा 
बिया किताब 
1993  राग - खटराग  [तंज मज़मून ]
1994  रोशनी जो रथु  [बाल कहाणियूं ]
2004  सिंधी एकांकी [बतोर एडिटर ]

अवार्ड

राजस्थान सिंधी अकादमी लछ्मण भम्भाणी खे सामी अवार्ड सां नवाज़िये संदस सिंधी अदब जे योगदान जी क़दरशिनासी करे चुकी आहे।  संदस अवार्ड हासिल किताबन में शामिल आहिन :
मम्मी मोटी आउ - सेंट्रल हिंदी डायरेक्टोरेट भारत सरकार 
रोशनी जो रथु -  NCERT, भारत सरकार 
राग खटराग - राजस्थान सिंधी अकादमी 

Last Updated : 15 November 2017