Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

स्वामी लीला शाह

advertise here

Advertise Here

स्वामी लीला शाह जीवनी

गांधियन विचारन वारो सिंधी आध्यात्मिक गुरु 

lilashah01कुछ इन्सानन जो जन्म ई बियन खे राह देखारिण जे मकसद सां थिये थो अहिडी हिक शख्सियत, स्वामी लीला शाह जो जन्म सिंधु जे हैदराबाद जिले जे गोठ महिराब में १३ मार्च १८८० ते थियो हो। संदस पिता जो नालो श्री टोपनदास अं माता जो नालो हेमीबाई हो जिनखे माली तौर विचोले दरजे वारन कुटुंबन में लेखियो वेन्दो हो।  हिन बार जो नालो लीलाराम रखियो वियो हो।

स्वामी जन जी नंढी उम्र में ई सदन माता पिता जो स्वर्गवास थियण सबब बालक लीलाराम जी संभाल काके श्री पिनीयेमल अं समझबाई ते अची पयी। बालक जो स्कूली पढ़ायीअ डान्हुँ घटि चाह अं लाडो डिसी काके खेस दुकान सम्भालिण जी जवाबदारी डिनी। दुकान वास्ते अनाज अं बियो सामान खरीद करण वास्ते बालक वक़्त ब वक़्त टण्डे मार्केट वेन्दो हो अं इहो नियम थी वियो हो त हिउ दयालु बालक टण्डे मां मोटण वक़्त गरीबन अं घुरिजाउन में खाधे जो सामान तक्सीम कन्दो वापस गोठ पहुचन्दो हो।

बालक लीलाराम खे जिस्मानी दुनिया बेमतलब महसूस थियण लगी अं हूँ घरु छड़े डिनो। हिन हिंदी सिखण जी शुरुआत कयी। निर्वाण आश्रम जे स्वामी परमानन्द, लीलाराम खे वेदान्त जो ज्ञान डिनो।

जल्द ई बालक जी मुलाकात संत केशवराम सां थी अं उन्हन जी रहबरी में लीलाराम न सिर्फ वेदान्त में महारत हासिल कयी पर बियन धार्मिक ग्रंथन जहिडो  कि श्रीमद भगवत गीता, उपनिषद वैगरह जो बि गहरो अभ्यास कियो।  हिन वक़्त तायीं आमु माणुहू खेस संत लीलाराम चवण लगा हुआ अगते हली इहो नालो संत लीलाराम मां बदिलजी स्वामी लीला शाह थियो। 

महात्मा गांधी जे विचारन जो स्वामी जन जे जीवन ते काफी गहरो असर थियो हू न सिर्फ हरिजनन जी बस्तिन में वञन लगा पर सिर्फ अं सिर्फ खादीअ कपडा बि पायिण लगा। पहिंजी आध्यात्मिक सिखिया जे दौरान बि स्वामी जन आज़ादी जी ज़रूरत ते जोर डियण सां गडोगडु आम खे महात्मा गांधी जी मदद करण वास्ते हिमथायिण लगा।

विरहांगे खां पोय स्वामी जन भारत में रहण लगा अं उन्हं जी प्रेरणा सां केतरन ई शहरन जहिडो त अजमेर, आगरा, उल्हासनगर अं आदिपुर वगैरह में सामाजिक संस्थाऊँ जियँ त नारी शाला , गौ शाला बरपा थियुं अं कमु करण लगियूं। स्वामी जन डेती लेती जहिडियन सामाजिक बुरायीन खे खत्म करण जी सिमत में बि कमु कियो।

स्वामी जन जे आसीस अं प्रेरणा सां श्री प्रभदास अं श्री दीपचंद वेदान्त सां लागापो रखन्दड साहित सिंधी में छापिण जो विचार करे "आत्म दर्शन " नाले सां हिक आध्यात्मिक पत्रिका शुरू कयी। उत्तर काशी अं नैनीताल में निवास जे दौरान स्वामी जन जी मुलाकात आसु नाले वारे नवजवान सां थी जो स्वामी जन जो शिष्य बणियो अं अगते हली "आसाराम बापू " जे नाले सां मशहूर संत थियो।

४ नवंबर १९७३ ते स्वामी जन फ़ानी दुनिया जी मुसाफिरी पूरी कयी। स्वामी लीला शाह जन जी याद में आदिपुर - गांधी धाम में हिकु आलिशान स्मारक ठाहिरायो वियो आहे।