Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

मास्तर चन्दर

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – मास्तर चन्दर

सिंधी संगीत अं लोक गीतन जी आत्मा - फेमस सिंधी कलाम गायीन्दड

master_chanderसिंधी संगीत अं गायिकी जे इतिहास जो हिकु सुनहरो पन्नो महान सिंधी संत भगत कँवर राम साहिब जिन सिंधी लोक गायिकी खे आलिशान मुकाम ते पंहुचायो सां जुडियिल आहे पर जडिहिं गालिह सिंधी गायिकी में कलाम गायिण जी शुरुआत करण जी अचे थी त सिंधी संगीत अं गायिकी जे इतिहास जे किताबन जो हिकु बियो शानदार अं जादुई सुफो साम्हूं अचे थो जेको सिंधी संगीत अं लोक गीतन जी आत्मा, फेमस सिंधी कलाम गायीन्दड मास्तर चन्दर बाबत आहे।

मुखे अजु बि याद आहे त मास्तर चन्दर जो नालो मां पहिरियों भेरो अटकल पंजाहु साल अगु पहिंजे पिता जे वातां तडिहिं बुधो हो जडिहिं हुनन असां खे ऐत्र अं छोकरी जी कहाणी बुधायी हुयी। मास्तर चन्दर जो आवाज़ बेहद सुरिलो अं मन मोहिन्दड आहे अजु बि जे को नवजवान सिंधी संदस गायल "रूठा ही रहन शल हुजेन हयाती " बुधे त मास्तर चन्दर जी गायिकी जो मुरीद थी पवे थो अं चाहे थो त हिन जा गायल बिया गीत बि बुधे।  सिंधी लोक गायिकी जी आत्मा लेखियो वेन्दड मास्तर चन्दर सिंधी नवजवान गायकन, खास करे जिनजो जन्म १९४७ जे मुल्क जे विरहांगे खां पोय थियो आहे, जी होसिला अफ़ज़ाई जो उहो अटूट मरकज़ आहे जेको गायिकी जी राह ते हरदम संदन रहबरी पियो थो करे।

हालांकि एच एम वी म्यूजिक कंपनी जहिं मास्तर चन्दर जा गाना रिकॉर्ड किया आहिन जो चवण आहे त हिन अटकल ४०० गाना गाया आहिन पर हकीकत में मास्तर चन्दर जे गायल गीतन जो तादाद हिक हज़ार खां बि वधीक हूंदो।  कोशिश थियण घुरिजे त मास्तर चन्दर जे गायाल गीतन खे MP3 फॉर्मेट में बदिलायो वञें जीयं न सिर्फ नवजवान सिंधी हिनजी सुरीली आवाज़ जो लुतुफ वठी सघन पर सिंधी संगीत जे आलिशान विरसे खे बि महफूज़ रखी सघजे।  

मास्तर चन्दर जो जन्म १२ दिसंबर १९०७ ते सिंध जे नवाबशाह जिले जे थारु शाह गोठ में हिक ज़मींदार कुटुंब में थियो हो।  जडहिं हुन १२ सालन जी नंढी उमर में मंदिरन अं दरगाहउन में गायिण शुरू कियो त तडिहिं ई इहो समझ में अचण लगो त गीत संगीत वास्ते मास्तर चन्दर में चाहत न पर दीवानोंपन आहे।  हिक जमींदार कुटुंब में जन्म वठण सबब, गायिण वास्ते इन दीवानेपन खे बरकरार रखण का सावली गालिह कोन हुयी।  चन्दर जी खुशकिस्मतीअ सदस्य हिकु चाचो चन्दर जे गायिण जे हुनर खे पसंद करण लगो अं हिनजो होसिलो वधायिण वास्ते कलकत्ता मां हिन वास्ते हारमोनियम खरीद करे आयो। 

काके जीवतराम चन्दर खे संगीत जी रिवायती सिखिया अं गायिण जी कला बाबत ज्ञान डिनो।  मास्टर चन्दर जो आवाज़ साफ, मिठो, सुरीलो अं दिलियन खे छुअण वारो हो।  हिन खे गायिन्दो बुधी, हिन जी आवाज़ जी तासीर जो अहसास करे साईं कँवर राम सहिबन अगकथी कयी त हिक डीहुँ हीउ छोकरो सिंधी संगीत जी लासानी अं बेमिसाल शख्सियत बणजंदो अं बियन सिंधी गायकन वास्ते मिसाल साबित थींदो।

१९३२ में मास्तर चन्दर जो पहिरियों गीत "सुहणा  अर्ज़ आहे " रिलीज थियो अं ऐतिरो कामियाब थियो जो संगीत जा दरवाजा मास्तर चन्दर वास्ते हमेशा हमेशा लाय खुली विया। संदस सलाहियतुन सबब खेस पुठते वरी डिसण जो बि मोको कोन मिलियो।  इहो गीत क्लासिकल संगीत ते मदार रखन्दड हो अं अजु जे संगीतकारन जे राये मूजिब इहा "RAP" गायिण जी पहिरियीं कोशिश हुयी। 

मास्टर चन्दर कुछ फ़िल्मुन में बि कमु कियो हो।  बतौर हीरोइन देविका रानी जी फिल्म "अछूत कन्या" में जेको किरदार अशोककुमार निभायो सो पहिरियुं हिन खे आशियो वियो हो।  डिलाराम अं मौत का तूफ़ान इहे मास्तर चन्दर जूं शुरुआती फिल्मु आहिन।  गायिकी चन्दर जो जुनून हुयी सो हिन एक्टिंग जी जगह ते गीत गायिण खे पसन्दगी डिनी।  नतीजे तौर हिन सिंधी गायिकी खे हिक नयी "संगीत अं कहाणी" जे मेल मां जन्म वरतल गायिण जी कला जी वाकफियत डिनी। मास्तर चन्दर जो तमाम मशहूर गीत "अञा त एत्र मां नंढडी आहियां " इन नयीं कला जो पहिरियों मिसाल आहे।

मुल्क जे विरहांगे खां पोय मास्तर चन्दर माउ, घरवारी हेती अं बारन समेत मुंबई में अची रहियो।  सदस्य ब पुट्र गोप अं महेश चन्दर हाणे न्यूयार्क अमेरिका में रहन पिया।  "किस्मत कयी जुदाई " अं "होशियार सिंधी " वसीले चन्दर बेहतरीन नमूने में उन बेबसी, लाचारी, गुस्से , तकलीफुन अं दुखन जो इज़हार कियो जिनखे सिंधी कौम सिंध मां लड़े भारत अचण जे दौर में मुहँ डिनो हो। मास्तर चन्दर जी खास गालिह इहा बि हुयी त एच एम वी बियन गायकन खे त ५% या उन खां बि घटि रॉयलिटी डीन्दी हुयी पर मास्टर चन्दर खे ७% मिलन्दा हुआ। गीत संगीत जे हिन बेजोड़ फनकार खे कुदरत ३ नवंबर १९८४ ते संगीत जूं नयुं रचनाऊँ करण खां हमेशा हमेशा वास्ते रोके छड़ियो। 

दिल त चाहे थी त मास्तर चन्दर बाबत लिखन्दो अं लिखन्दो रहां पर छा इहो मुनासिब अं मुमकिन आहे ? सिंधी संगीत जी आत्मा मास्तर चन्दर खे द सिंधु वर्ल्ड पारां श्रद्धांजली - मुहिंजे अखरन में न पर खुद मास्तर चन्दर जे अल्फाजन में - डीन्दे मां हीउ लेख खत्म कियां थो।

"चवन था वियो चन्दर कुसजी - बराबर मां कुठल आहियां
मुअल आहियां मुहोब्ब्त में - अगे ई मां मुठल आहियां
मुअे खे केर मारीन्दो - मां जियरन खां टूटल आहियां
जियण वारा पिया मरन्दा - मरण खां मां छूटल आहियां "

मास्तर चन्दर – सिंधी लेखक

मास्तर चन्दर जे गीतन जे दीवानन मां किन खे शायद अज़ब लगे त मास्तर चन्दर हिकु तमाम सुठी अदबी सलाहियतुन वारो लेखक बि हो। हिन "सचो सूफी अथव सूफी दरवेश " [काके जीवतराम मताई जी जीवनी ], "संगीत अं मां ", "सिंधी लोक संगीत " अं बिया कुछ किताब लिखिया आहिन। मास्तर चन्दर जे किताबन जी लिस्ट हेठ डिजे थी।

अञा त एत्र मां नंढडी आहियां
चार चंग़ा चार मंदा
दीपचंद - कोयल जी कहाणी
हिक मुलाकात
ईश्वर अं जीव जीव जे लागापे तरफ रूह रुहाण
सचो सूफी अथव सूफी दरवेश
संगीत अं मां
शाह साहिब
सिंधी लोक संगीत