Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

मोहन गेहानी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – मोहन गेहानी

फेमस सिंधी कवी - सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड 
सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल 44 सिंधी अदीब  2011

mohan_gehaniसिंधी अदबी खेतर जे अनमोल हीरे मोहन गेहानी खे २०११ में संदस लिखियिल "त ख्वाबन जो छा थींदो " वास्ते सिंधी साहित्य अकादमी तरफां अकादमी अवार्ड सां नवाजियो वियो। फेमस सिंधी कवी, नाटक लेखक, सिंधी बोली जे विद्वान् अं तरजुमेकार मोहन गेहानी सिंधी कॉम अं सिंधी बोली जे वाधारे में अहमयित वारो किरदार निभायो आहे।

मोहन गेहानी जो जन्म २० जनवरी १९३८ ते कराची में थियो हो। सो नवन सालन जी सभाझी उमर में हुन खे अण वणन्दड अं अण चाहे विरहांगे खे मुहं डियणो पियो। इन दौर जी तकलीफुन अं बेहद दुःख दायी आजमूदे - ज़िंदगीअ जे इन अण मुफीद हालतुन वारे अरसे बालक मोहन गेहानी जे कोमल मन ते ऐतिरो गहिरो असर कियो जो संदस दिल में सिंधी साहित्य अं सिंधी बोली वास्ते कुछ लेखे जोग करण जी प्यास पैदा थी पयी ।  भारत में सिंधी भाषा खे सविंधान जे अट्टें शेड्यूल जेके बि हलचलयुं थियुं तिन जी शुरुआत कन्दड अगुवानन में अहमियत वारो नालो हो मोहन गेहानी।

१९५५ में मशहूर अं माणुहुन जी पसंददीदा मगज़ीन नयी दुनिया में छपियिल कहाणीअ वसीले मोहन गेहानीअ सिंधी अदब जे खेतर में दाखिला वरतो।  केतिरा किताब लिखन्दड मोहन गेहानी पहिंजे साहित्यिक सफर जी शुरुआत खां ई सिंधी बोली, सिंधी साहित्य अं सिंधी तहज़ीब खे महफूज़ रखण अं उन जी बहबूदी जे डाव में कम कन्दड मुख़्तलिफ़ संस्थाउन सां जुडियिल हो , हुन केतिरा ई सिंधी सम्मेलन कराया अं बियन जे सम्मेलन में सिंधियिन सां लागापो रखन्दड विषयन ते केतिरन ई सम्मेलन में "पेपर प्रेजेंटेशन " वसीले पहिंजा विचार ज़ाहिर किया।  मोहन गेहानी मुंबई जी संस्था सिंधी साहित मंडल जे कमन में दिल सां बहरो वठन्दो हो अं हुन टे [3] साल संस्था जे जॉइंट सेक्रेटरी जे ओहदे ते बि कमु कियायीं । 

मोहन गेहानी साहित्य अकादमी अवार्ड जो फैसलो कन्दड जूरी जे बतौर मेंबर अं मध्यप्रदेश सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड्स सां जुडियिल हो। हू २००७ खां २०१२ तायीं सिंधी साहित्य अकादमी नई दिल्ली जे सिंधी जे एडवाइजरी बोर्ड में शामिल हो। सिंधी भाषा खे भारत जे संविधान जे अट्टें शेड्यूल में शामिल करण जे विचार जे जन्म दाताउन में शामिल मोहन गेहानी उन्हन शख्सियतुन में पिण शामिल आहे जिन जी कोशिशन सबब सिंधी संस्कृति सां निसबत रखन्दड हफ्तेवार छपिजन्दड "सिंधु धारा " शुरू थी।  

मोहन गेहानी – अदबी योगदान – लिखियिल किताब

मोहन गेहानी जा लिखियिल के चुँड मशहूर किताब आहिन : -

पोपट पकड़ीन्दे
सिंध जो इतिहास
जा चितयम चित में
मुहिंजो नगर कहिडो
त ख्वाबन जो छा थींदो
रिना पट में
टिडियिल पखरियिल पन्ना

"सिंधियत जो सफर" में मोहन कीरत बाबानी अं हरी पंकज सां गडु सह लेखक हो त साहित्य अकादमी तरफां छपायिल "पोपटी हीरानंदानी" जो लेखक आहे। मोहन गेहानी जा तरजुमो कियिल किताब आहिन

सिंध जूं डह लोक कहाणियूं
भारत नाट्य शास्त्र

मोहन गेहानी – अवार्ड

मोहन गेहानी मान वारो सिंधी साहित्य अकादमी जो साहित्य अकादमी अवार्ड २०११ में हासिल करे चुको आहे, तहिं खां सिवाय सिंधी साहित्य जी हिन जी बेशकीमती सेवा वास्ते अखिल भारत सिंधी बोली अं साहित सभा बि हिन जो सत्कार करे चुकीं आहे। BEST सिंधी सभा मुंबई मोहन गेहानी खे नारायण श्याम अवार्ड सां नवाजे चुकी आहे।