Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

मुरलीधर जेटली

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी : डॉ मुरलीधर किशिनचंद जेटली

दिल्ली यूनिवर्सिटी - सिंधी फोनोलॉजी - सिंधी साहित्य - सिंधी लेखक 
murlidhar_jetleyदिल्ली यूनिवर्सिटी जे मॉडर्न इंडियन लैंगुएजेस डिपार्टमेंट जे सिंधी विभाग जे हेड जे ओहदे तां रिटायरमेंट वठण वारो डॉ मुरलीधर घण हुनरी शख्सियत आहे।  सिंधी लेखकन में मानवरो मुरलीधर हिंदी ऐं अंग्रेजी अदीबी दुनिया में बि मशहूर लेखक आहे। डॉ मुरलीधर तमाम उची तैलीम हासिल करण वारन किन विरलन सिंधी अदीबन में शामिल आहे।  सारस्वत ब्राह्मण कुटुंब में जन्म वठण सबब हुनन वास्ते तैलीम वडी अहमियत रखे थी हुनन जे हिसाब सां हासिल कियिल हर हिक डिग्री हासिल कियिल ज्ञान जी संवत डेखारे थी।  लिंग्विस्टिक्स में पी.एच डी हासिल करण वारो डॉ मुरलीधर हिंदी, संस्कृत ऐं लिंगविस्टिक में एम ऐ जी डिग्री बि हासिल करे चुको आहे। चाहे थोरे अरसे लाय छो न पर मुरलीधर भारत जी मशहूर सिंधी हफ्तेवार अख़बार या रिसाले हिंदवासी जे सब एडिटर जो कमु पिण करे चुको आहे। 
7 नवंबर 1930 ते हैदराबाद सिंध में जावल मुरलीधर किशिनचंद जेटली उमिर जे उन दौर में हो जहिं में इंसानी सरीर न सिर्फ शक्ति जे ज़खीरे ते  पर सपनन जी दुनिया ते बि पहिंजी हुकूमत जो अहसास कंदो आहे जो हुन खे मज़बूरी में मुल्क जे विरहांगे सबब तैयार नयीं सरहद पार करणी पयी।  इहो तमाम डुखदायी आज़मूदो हुओ छो जो बेघर थियण सां गडोगडु ज़िंदगी गुज़ारिण जे वसीलन जी बि खातिरी कोन हुयी।  इहो शायद त डाडे पंडित टोपणलाल, जेके हैदराबाद जा मशहूर संस्कृत जा माहिर ऐं आयुर्वेदिक डॉक्टर हुआ, जी सिखियाउन जो असर ऐं मुरलीधर जी सियाणप हुयी जो हुन इन्हन डुखन, तक़लीफ़ुन जी तपिश खे हुन सिन्धियत जी जोत जगायिण वास्ते घुरबल ज़ज़्बे में बदिलायिण में कामियाबी हासिल करे सिंधी अदबी दुनिया में मानवारी जगह हासिल कयी आहे। 
विरहांगे जे तक़लीफ़ुन सां भरियिल ऐं असंतोष खे जन्म डियण वारे अरसे खे याद कंदे हिकु इंटरव्यू में डॉ मुरलीधर चयो आहे त संदस कुटुंब भारत में पहिरियूं जोधपुर ऐं पोय अबू रोड में अची रहियो इन लड पलाण सबब हू 1948 में मेट्रिक जो इम्तिहान न डयी सघियो। जहिं वास्ते हुन खे चाचे वठ बड़ोदा वञणो पियो ऐं 1949 में हुन मैट्रिक जी परीक्षा पास कयी।  इन वक़त तायीं संदस कुटुंब पुणे में रहण शुरू कियो हो सो हुन पुणे यूनिवर्सिटी में दाखिलो वठी एम ऐ ऐं फिलोसोफी में डॉक्टरेट जी डिग्री हासिल कयी।  कॉलेज जी पढ़ायी कंदे मुरलीधर नवीन हिंद हाय स्कूल में हिंदी ऐं संस्कृत पढ़िहायिण जो कमु  बि कयो।  1965 में मॉर्फोलॉजी ऑफ़ सिंधी लैंग्वेज हिन विषय ते रिसर्च वास्ते हुन खे पुणे यूनिवर्सिटी मां पी एच डी जी डिग्री मिली ऐं हू इहा तैलीमी कामियाबी हासिल करण वारो पहिरियों सिंधी बणियो। 
Ph.D. हासिल करण खां पोय खेस पुणे जे डेकन कॉलेज में सिंधी भाषा जे लिंगविस्टिक विभाग में रीडर जे ओहदे ते कमु करण जो वझु मिलियो जिते हू बियन सां गडु सिंधी -अंग्रेजी डिक्शनरी ठाहिण जे प्रोजेक्ट ते बि कमु करण लगो पर उल्हासनगर जे आर के तलरेजा में हिंदी जे लेक्चरर जी नौकरी मिलण सबब हुन खे इहो प्रोजेक्ट अध में छडिणो पियो।  उल्हासनगर में रहन्दे डॉ मुरलीधर मुंबई मां छपजण वारी हफ्तेवार हिंदवासी जे सब एडिटर जो कमु करण बि करण लगो।  1966 में खेस दिल्ली यूनिवर्सिटी में सिंधी लेक्चरर जी नौकरी मिली ऐं 1995 में हू दिल्ली यूनिवर्सिटी मां रिटायर थियो।  
डॉ मुरलीधर सिंधी लेखकन जी उन विरली ज़मात में शामिल आहे जेके पहिंजी का बि रचना छपायिण खां गहरी खोजना ऐं उनिहे अभ्यास खे वधीक अहमियत डियन था।  दर हकीकत में संदस इन आदत में संदस नवलराय हीरानंद अकादमी जे टीचर श्री राजपाल पूरी ऐं बालपणे में मिलियिल घरु माहोल जो वडो हथु आहे छो जो इन्हन बिन्हीं जे गडियिल असर हेठ 10 - 12 सालन जी नंढी उमिर में ई मुरलीधर में पढ़हण जी आदत पैदा थी वयी। डॉ मुरलीधर न सिर्फ सिंधी साहित्य जो इतिहास हिक किताब जे रूप में पेश कियो आहे पर गडोगडु सिंधी साहित्य जी लासानी रचना शाह जो रिसालो ते पहिंजे अभ्यास खे बि हिक किताब जे रूप में पेश कियो आहे।
दिल्ली यूनिवर्सिटी में कमु करण दौरान डॉ मुरलीधर साहित्य अकादमी, के के बिरला फाउंडेशन ऐं भारतीय ज्ञानपीठ सां बतौर मेंबर जुड़ण खां सिवाय दिल्ली सरकार जी सिंधी अकादमी जे ऑनररी सेक्रेटरी [1994 -1996] जे ओहदे ते बि कमु करे चुको आहे।  

साहित्यक योगदान – किताबन जी लिस्ट

डॉ मुरलीधर हिंदी, अंग्रेजी ऐं सिंधी में अटकल 20 किताब लिखिया आहिन जिन मां के वधीक मकबूल किताब आहिन : 
बोलीअ जो शिरस्तो ऐं लिखावट 
शाह जे रिसाले जो अभ्यासु 
सिंधी ध्वनी विज्ञान
सिंधी पहाका ऐं मुहावरा 
सिंधी साहित्य जी झलक 
सिंधी साहित्य जो इतिहास 

अवार्ड

सिंधी साहित्य जी कियिल सेवा जी क़दरशिनासी कंदे 1998 में सिंधी साहित्य अकादमी डॉ मुरलीधर जेटली जो अवार्ड डयी सत्कार करे चुकी आहे।  साल 2000 में NCPSL खेस संदस किताब बोलीअ जो शिरस्तो ऐं लिखावट वास्ते अवार्ड डिनो आहे त सागे साल में हिंदी साहित्य सम्मेलन प्रयाग खेस सिंधी साहित्य भूषण जे लक़ब सां नवाज़ियो आहे।