Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

निर्मला गजवानी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – दादी निर्मला गजवानी

फेमस सिंधी सियासतदान - समाज सेवी - साधु वासवाणी इंटरनेशनल स्कूल

nirmala_gajwaniइहो सोचिण बि डुखियो आहे त हिक नवजवान १९ सालन जी माउ जहिंजी हन्ज में 10  महीनन जो पुट्र हुजे, जहिंजे साम्हूं आईन्दे जा धुंधला अक्स हुजन ऐतिरा धुंधला जो हुन खे अझे मिलण जी बि पक न हुजे , कहिडी न तकलीफुन जे दौर मां गुजरी हूंदी। घर खां दर बदर थियिल इन लाचारी जी हालत में हुन केतिरा न सूर सहिया हुँदा। हुन जे दर्द जो बयान करण शायद त लफजन जी सलाहियत खां बाहिर आहे। तव्हां खे शायद त इहो लगन्दो हूंदो त मां इहो कहिं हिंदी फिल्म वास्ते लिखियो आहे पर इहो हकीकत में फेमस सिंधी समाज सेवी निर्मला गजवानी जी साल 1947  वारी ज़िन्दगीअ जो हिकु दर्दनाक सुफो आहे। साल 1947  सिर्फ दादी निर्मला वास्ते न पर सिंध ऐं आसपास जे इलाके में रहन्दड सिंधी पंजाबी हिंदुन वास्ते हयाती जो सभ खां वधीक दर्दनाक वक़्त हो, छो जो मुल्क जे विरहांगे सबब हुनन खे मज़बूरी में भारत अचिणो पियो।

इहो सिर्फ पिढियिन जी जमा कियिल मॉल मिल्कियत खां महरूम थियण न हो पर पाडुन जो पटजण बि हो। तहिं खां सिवाय नयीं ज़मीन तलाशे पाण खे वरी सां वसायिण जी मुसीबत बि साम्हूं हुयी। इन्हन हालतुन में जे दादी निर्मला वास्ते का संतोष जी गालिह हुयी त सा हुयी संदस डॉक्टर मुडस।

निर्मला गजवानी जो जन्म 28 दिसंबर 1928  में रोहरी सिंध जे केवलानी कुटुंब में थियो हो। नंढी उमर में डॉ हासानंद गजवानी सां शादी थियण सबब हुन खे B.A. जी पढ़ायी अध में ई छड़णी पयी हुयी। विरहांगे जे दर्द जे हिक पासे संदस दिल में समाज सेवा जी इच्छा पैदा कयी त बिये पासे सिंधी नारी खे खुद मुख्तियार पाण ते भाड़ीन्दड बणायिण वास्ते कमु करण जी तमन्ना जो बि जन्म थियो। उन्ही वक़्त कच्छ जे महाराजा भारत आयल सिंधियिन खे वसायिण वास्ते ज़मीन डिनी जिते आदिपुर गांधीधाम ऐं कांडला बंदर ठहिया आहिन।

1952  में डॉ हासानंद गजवानी - जेको विरहांगे खां पोय सरकारी नौकरी पियो करे - जी बदली तमाम परे बचाउ तालुके में थी।  जे डिसजे त दरअसल इहो वाकियो शुरुआत हुयी वक़्त जे उफक ते हिक सिंधी नारी जे सफर जी शुरुआत जी।  इहो इलाको ऐतिरो त पुठिते पियिल हो जो मायुन जी गालिह त परे के विरला मर्द हुआ जिनखे लिखण पढ़ण अीन्दो हो।  दादी निर्मला वास्ते पहिंजी समाज सेवा शुरू करण वास्ते हीउ तमाम मुनासिब मोको हो पर हिन जे साम्हूं न सिर्फ सामाजिक पर माली रुकावटु बि हुयुं।

इहा शायद त संदस लगन ऐं बिना थके मेहनत जी जीत हुयी जो औरतुन खे पढ़ण लिखण ऐं हुनर सेखारिण जी दादी निर्मला जी कोशिशन जी मुखालफत सामाजिक तौर ते घटिजी वयी।  माली मुश्किलात खे मुहँ डियण वास्ते हिन वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ऐं दिल्ली जे सेंट्रल सोशल वेलफेयर बोर्ड सां गालिहाये पहिंजे कम वास्ते माली मदद हासिल करण में कामियाबी हासिल कयी।  दादी निर्मला जे कम सबब हुन खे बिना कहिं मुखलफत जे कच्छ एजुकेशनल बोर्ड जे प्रेसीडेंट जे ओहदे ते चुँडियो वियो। 

1967  में गुजरात जी विधान सभा चूण्डियिन में निर्मला दादीअ खटियो ऐं खेस विधानसभा जे डिप्टी स्पीकर जो ओहदों पिण मिलियो। कांडला फ्री ट्रेड ज़ोन ऐं इंडियन फ़र्टिलाइज़र कोआपरेटिव इन इलाके जे माणुहुन खे दादी निर्मला जूं डिनिल सूखडियुं आहिन। जडहिं कांग्रेस में इंदिरा गांधी ऐं मोरारजी देसाई जा ब धड़ा थिया त दादी निर्मला सियासत खे अलविदा चयी पहिंजे आदिपुर ऐं गांधीधाम जी समाज सेवा ते ध्यान डियण ऐं महदूद रखण जो फैसलो कियो।  कच्छ इलाके मां सेंट्रल सोशल वेलफेयर बोर्ड जो बेस्ट सोशल वर्कर अवार्ड खटण वारी हुअ अकेली शख्सियत आहे।  इहो अवार्ड दादीअ खे 1975  में मिलियो हो।

1966  में साधु वासवानी इंटरनेशनल स्कूल जो बरपा थियण हुजे या गांधीधाम में अटकल २ एकड़ ज़मीन ते वर्किंग वूमेन हॉस्टल जो ठहण इन्हन में दादी निर्मला जो अहमयित वारो योगदान हो। जे संदस कमन जी कामियाबी जी छंद छाण कजे त मजबूत सहारो डीन्दड मुडस, शक्ति सां भरपूर शख्सियत, निवडत भरी हलत, खिलमुख स्वभाव, साफ ऐं निष्पक्ष दिल, हकीकी सख्त मेहनत इहे कुछ आधार आहिन जिन दादी निर्मला जे सियासी तोड़े सामाजिक जीवन खे कामियाब बणायो आहे।

21  जनवरी 2016  ते राजकोट में दादी निर्मला गजवानी जो स्वर्गवास थियो।