Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

पोपटी हीरानंदानी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – पोपटी हीरानंदानी

फेमस सिंधी - इन्किलाबी लेखिका - अकैडमी अवार्ड
सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल 16 सिंधी अदीब 1982

popatiइन्किलाबी विचारन वारी फेमस सिंधी लेखिका पोपटी हीरानंदानी जो जन्म १७ सितम्बर १९२४ ते कराची सिंधी में थियो हो।  हुअ पहिंजन मायट्रन जे सतन बारन मां हिक हुयी।  पोपटी जो जन्म पढ़ायी जी रिवायत वारे आमिल कुटुंब में थियो हो पर असां खे इहो याद रखण बि ज़रूरी आहे त सिंधी कौम में पढ़ायी वास्ते का खास कशिश नज़र न अीन्दी आहे अं छोकिरिन जी हालत में त हालतूं वधीक ख़राब हूँदियुं आहिन। [खुश किस्मती सां विरहांगे खां पोय घटि में घटि भारत में त हालतुन में बदलाव आयो आहियो ऐतिरो जो अजु पढ़हन्दड सिंधी छोकरन जी भेट में छोकिरिन जो तादाद वधीक आहे। ]  

पोपटी जी उमर सिर्फ डह साल हुयी जो संदस पिता जो स्वर्गवास थियो सो हुन बालपणे में तकलीफ जा डीहं त डिठा पर गडोगडु माउ जी उन्हन सभनी परेशानीन जो बि अहसास महसूस कियो जिन खे मुहं डयी माउ सतन बारन खे पाले पयी।  माउ जी परेशानीअ पोपटी खे हिमथ अं होसिले सां धीरज रखी डुखिये वक़्त खे मुहं डियण जी सिखिया डिनी। पिता जे स्वर्गवास खां पोय पोपटी जी माउ हैदराबाद में रहण जो फैसिलो कियो।  

पोपटी जेको पहरियों इन्किलाबी फैसलों कियो सो हो जेको छोकिरो डेती लेती में विश्वास न करे उन सां शादी न करण।  छो जो आमिल कुटुंबन में पढ़ायी जी रिवायत सां गडु तमाम घणी डेती लेती जी रसम बी हुयी।  हुन कुंवारों रहण जो फैसिलो करे माउ खे मज़बूर कियो त संदस मंगणे वक़्त छोकिरे वारन खे डिनिल सभु सामान वापस वठे। विरहांगे खां पोय कुटुंब मुंबई अची रहियो हो।

मुंबई में पोपटी टीचर जी नौकरी कन्दे साहित रचना में लगी पयी हुयी। हुअ समाज में औरत जी इज़्ज़त आबरू अं ओहदे जी हिफाज़त अं वाधारे वास्ते न सिर्फ सुजाग हुयी पर इन डाव में कोशिश्यूं बि करे रही हुयी।  पोपटी हीरानंदानी खे इन्किलाबी लेखिका सडिण जे पुठियां हिकु वढो सबब हो संदस इश्क जहिडे विषय ते लिखण जो फैसलों करण। मर्दन जी हुकूमत वारे समाज में उन वक़्त त औरत जो इश्क ते गुफ्तगू करण बि मुनासिब न समझियो वेन्दो हो।  पोपटी हीरानंदानी पहिंजी बायोग्राफी में बि लिखियो आहे " औरत सहन करण वास्ते ठही आहे पर इहो संदस चरित्र में कहिं खराबी सबब न सिर्फ इन करे आहे जो हुन औरत थी जन्म वरतो आहे। "   

१९८२ में सिंधी साहित अकैडमी पोपटी हीरानंदानी खे संदस लिखियिल आत्मकथा "मुहिंजी हयातीअ जा सोना रूपा वर्क " वास्ते अकैडमी अवार्ड सां नवाजे पोपटी जो सत्कार कियो। आवर्ड डियण जे जाहिरनामे में साहित सभा पारां लिखियिल हो  पोपटी जी हिअ आत्मकथा सिंधी समाज खे समझण में मदद करण सां गडु मुल्क जे विरहांगे सबब पैदा थियिल दर्दनाक हालतुन जो बयान करे थी।  हयाती जी पछाडीअ में पोपटी कैंसर जहिडी बीमारीअ जो शिकार बणी अं केतिरा साल बीमारी जा सूर सहण खां पोय १६ दिसंबर २००५ ते मुंबई में हिनजो स्वर्गवास थियो। 

पोपटी हीरानंदानी -अदबी योगदान – लिखियिल किताब

पोपटी जी बेमिसाल रचना हुयी सिंधी साहित जो इतिहास। हिन जा लिखियिल बिया किताब आहिन :

१९५३ - पुकार [कहाणियूं ]
१९६२ - भाषा शास्त्र
१९७५ - रूह संधि रुंच [नज़्म ]
१९८० - मुहिंजी हयातीअ जा सोना रूपा वर्क [आत्मकथा]
१९८० - सैलाब - ज़िन्दगीअ जो [नावेल]
१९८५ - सिंधी कलह अं अजु [मज़मून]
१९८८ - मां सिन्धिणी [नज़्म ]
१९९३ - जिंदगीअ जी फोटरी [कहाणियूं ]
१९९३ - माणिक मोतीला [जीवनी]