Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

My Creations

मां ऐं मुहिंजा विचार

मां ऐं मुहिंजा विचार

आम तौर मां हिते पहिंजियूं लिखियिल ऐं व्हाट्सएप्प ते शेयर कियिल पोस्ट शामिल कन्दुम। महेरबानी करे ध्यान में रखन्दा त मां विज्ञानं जो टीचर रही चुको आहियां पर अजु बि विद्यार्थी आहियां। सिंधी भाषा ते जाब्तो हुअण ते मुहिंजो को…
Read more
हद बाहिर

हद बाहिर

सिंधी बोलीसिंधी बोली मुहिंजी बोली मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी अजु उबाणिकी आहे छो ? जग में हूंदे सभ खां न्यारी। सिंधी बोली मुहिंजी बोली मिठड़ी मिठड़ी प्यारी प्यारी।। रुठिया नाहिन पिरीं तुहिंजा आहिन शैदायी बेशुमार तुहिजां सिंधु जो सफर आ…
Read more
वकतसिर

वकतसिर

Before you start reading my poems in Sindhi language one thing I wish to make very clear that I was student of Science and worked as teacher of same subject. I am not making a claim that there are no…
Read more
टूटल आइनो

टूटल आइनो

हिन पेज ते मां तव्हां खे पहिंजन उन्हन खियालन सां रूबरू करायिन्दुम जेके आहिन त कहिं वक़्ती जोश जूनून जो नतीजे पर ऐतिरो ज़रूर आहे त लफ्ज़ कहिं रिथा मुजीब लिखियिल आहिन। हीउ पेज वक़त ब वक़त अपडेट थींदो रहंदो।…
Read more
सिंधी पहाका / चवणियूँ

सिंधी पहाका / चवणियूँ

मेहरबानी करे ध्यान डीन्दा त हिनन मां कुछ बि मुहिंजो लिखियिल कोन आहे। मां सिर्फ कोशिश थो कियाँ त जेके सिंधी पहाका / चवणियूँ असां पहिंजे रोज़ाने जीवन में काम आणियूँ था से सभ हिक हंद ते कठा थियन जीयँ…
Read more