Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

सिंधु खपे या न खपे ?

advertise here

Advertise Here

सिंधु खपे या न खपे ?

आम तोर सिंधी कौम वास्ते चयो वेन्दो आहे त इहो पाडूं पटियिल आलीशान शाही वणु आहे जहिं 70 सालन में बि पहिंजे वज़ूद जी सलामती वास्ते मुनासिब ऐं मुफीद ज़मीन ऐं माहोल हासिल करण में नाकमियाबी जो मुहं डिठो आहे। इन इतिहास खे याद करण में को नुकसान कोन आहे त जहिं हिक हिन्दू कौम खे अंग्रेजन जी गुलामी मां मुल्क जी आज़ादी जो मुलह वधि में वधि चुकायिणो पियो बदकिस्मती सां सा कौम सिंधी आहे। इहो शायद सिंधी कौम जो प्रालब्ध बि चयजे जो मुल्क जे विरहांगे वक़त कौम जे अगुवानन बंगाल ऐं पंजाब वांगुर सिंध जे बिन हिसन जी घुर न कयी ऐं सिंधी कौम उन वक्त जे मुल्क जे सियासतदानन जे इन बयान "हीउ विरहांगो बिन भाउरन जे विरहांगे वांगुर आहे मुल्क जे बिन्ही हिसन में हिन्दू तोड़े मुसलमान सागे नमूने सागी आज़ादी सां रही सघन्दा " ते विश्वास करे    बेफिक्री थी वयी।  नतीज़ो इहो निकतो जो सिंधी कौम खे पहिंजी पीढ़िहिन जी कमायल मिलकियत छडे खाली हथें भारत लड़े अचण वास्ते मज़बूर थियणो पियो। 
मुल्क जे विरहांगे सबब ठहियिल भारत में बंगाली ऐं पंजाबी कौम वांगुर का अहिडी ऐराजी कोन हुयी जहिं खे सिंधी राज्य चयी सघिजे नतीजे तोर लड़े अचण वास्ते मजबूर हिन्दू बंगाली ऐं पंजाबिन खे ते संदन राज्य में वसायो वियो पर सिंधी कौम खे सजे देश में जिते जिते मिलेटरी जूं खाली कम न अचण वारियूं बेरिकूं हुयूं उते वसायिण जो फेसिलो कियो वियो।  गुजिरियल 70 सालन में सिंधी कौम चाहे भारत जी आर्थिक नज़ीरिये सां ताक़तवर कौमुन में शामिल थी वयी आहे पर इन नमूने कणो कणे खां धार वारे रूप में वसायिण जो नतीज़ो आहे जो अजु न सिर्फ सिंधी भाषा खतम थियण ते अची पहुती आहे पर सिन्धियत जे आलीशान विरसे जे वज़ूद ते बि सवाली निशान पैदा थी वियो आहे।  
अजु सिंधी कौम जो हिक हिसो अहिड़ो आहे जो इहो रायो रखे थो त सिंधु वापस वठण घुरिजे या भारत में मुल्क जे हिक हिसे खे सिंधी राज्य जो रूप डिनो वञे।  हिते इहो सवाल लाज़िमी आहे त सिंधी कौम खे सिंधु या सिंधी राज्य खपे या न खपे ? इन सवाल जो ज़वाब इन गालिह ते मदार रखे थो त गुजिरियल 70 सालन में सिंधी कौम जी हालतुन में कहिडियूं तब्दीलियुं आयूं आहिन ? छा सिंधी कौम जी सामाजिक अड़ावत 70 साल अगु जहिड़ी आहे ? छा अजु जी सिंधी पीढ़ी में  सिंधु वास्ते उहो चाहु -  पहिंजो मुल्क हुअण जो ज़ज़बात आहे ? जे असां कहिं बि नमूने भारत सरकार खां अलग सिंधी राज्य जी घुर पूरी करे सघण में कामियाबी हासिल करण में कामियाब थियूं था त छा असां - सिंधी कौम इन हालत में आहे जो हिकु भेरो वरी लड़े नयें राज्य में वञी नयें सिर थाईंकी थियण जी डुखिन हालतुन खे मुहं डयी सघे ? 
अजु भारत जी सिंधी कौम जो वडो हिसो उन आदमशुमारी जो आहे जिन जो न सिर्फ जन्म भारत में थियो आहे पर उहे भारत जे अलग अलग शहरन में अलग अलग माहोल ऐं सामाजिक हालतुन में पलिया वड़ा थिया आहिन।  कुदरती तोर सिंधी कौम जे इन वड़े हिसे जी दिलिन में सिंधु वास्ते न  उहो चाहु आहे न उहो पहिंजो मुल्क हुअण जो ज़ज़बात । छो जो सिंधी कौम जे इन वड़े हिसे जो मुल्क भारत आहे सिंधु न।  सवाल आहे त पोय सिंधु वापस वठण जो सवाल छो पियो कियो वञे ? हक़ीक़त में अलग अलग शहरन, माहोल ऐं सामाजिक हालतुन में रहण सबब गुजिरियल 70 सालन में न सिर्फ सिंधी कौम जी सामाजिक अड़ावत पर सामाजिक हलत में बेशुमार बदलाव आयो आहे।  सिंधी कौम जी सामाजिक मीज़ान कायम रखण वारी संस्था सिंधी पंचायत जे लागीते ऐं सिलसिलेवार कमज़ोर थियण पिण इहो बदलाव आणिण में मददगार अहमियत वारो किरदार अदा कियो आहे। ( अजु भारत में सिंधी पंचायतुन तोड़े सामाजिक संस्थाउन जो वडो तादाद अहिड़ो आहे जेको सामाजिक हलत जे जाब्ते वारे हथियार तोर न पर शख्सी या परिवार जी सामाजिक ताक़त जे इजिहारी साधन जे रूप में कमु कनि पयूं। )  दरअसल पंचायतुन जे कमजोर थियण ऐं पंचायतुन जे ओह्देदारन ते अहिड़न सिंधी बुजर्गन जो काबिज़ हुअण जिनजो जन्म सिंधु में थियो आहे सिंधु वापस वठण जी घुर में वडी अहमियत रखन था।  मां हिते इन्हन बुजर्गन जे ज़ज़्बातन जो पूरो पूरो क़दुर कन्दे चवण चाहियाँ थो त वडी हद तायीं उहे गलत बि न आहिन छो जो उहे पहिंजी दिल जी बुधी घुर कनि था। इहा आम इंसानी फितरत आहे त माणुहू पहिंजी दिल जी त बुधन्दो आहे पर बियन जे ज़ज़बात जो खियाल न कन्दो आहे। जीयं त इहा सिंधु वापस वठण जी घुर दिली ज़ज़्बातन सां लागापो रखी थी सो जीयं जीयं सिंधी सामाजिक संस्थाउन में भारत में जावल सिंधी नवजवान जो रुतिबो वधन्दो वेन्दो इहा घुर कमज़ोर थींदी वेन्दी। 
असां खे इहा हकीकत कबूल करण में का बि झिझक न थियण घुरिजे त अजु जी नवजवान सिंधी पीढ़ी वास्ते "जिये मुहिंजी सिंधु" उहा अहमियत न थी रखे।  इन गालिह पुठियाँ हिकु वडो सबब इहो बि आहे जो भारत जे अलग अलग शहरन ऐं सामाजिक माहोल में वडी थियल इहा पीढ़ी सिंधी साहित्य खां महरूम रही आहे।  कहिं बि भाषा जो साहित्य न सिर्फ उन कौम जे इतिहास जो आयनो थिये थो पर सामाजिक हलत सेखारिण जो स्कूल बि थीन्दो आहे।     
हाणे अचो त भारत में अलग सिंधी राज्य जी घुर ते विचार कयूं।  असां लाय इहो विसारिण बिलकुल मुनासिब न आहे त सिंधी कौम कुदरती तोर धंधे जे लाडे वारी कौम आहे।  चवणी आहे सर पगड़ियूं दुकान ऐं मकान इहो आहे सिंधी कौम जो जुमिले ज़हान। भारत में का बि अहिडी ऐराजी कोन आहे जिते सिंधी आदमशुमारी उन अंदाज़ में हुजे जो सिंधी राज्य जी ऐराजी बणजी सघे।  न ई भारत जा सिंधी इन हालत में आहिन जो नवों सिंधी राज्य ठहण ते अलग अलग शहरन मां पहिंजो थाईंको धंधो छडे वञी इन नयें सिंधी राज्य में रहन।  हकीकत में इहा घुर बि बेमानी आहे।  
इहो सवाल त पोय सिंधी भाषा, सिंधी कौम ऐं सिन्धियत जे आलीशान विरसे जे वज़ूद जो छा थीन्दो ? छा असां बि 70 साल अगु वांगुर अगुवानन ते भरोसो करे माठि करे वेठा रहूं ? जीयं असां जे वडन खे पहिंजी पिढीहीन जी कमायल मिलकियत विञाये खाली हथें भारत अचणो पियो छा तीयं असां बि सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जे विरसे खे खतम थींदे डिसन्दा रहूं ? इन्हन सभनी सवालन जो जवाब हासिल करण लाय अलग सां विचार करण जी ज़रूरत आहे छो जो इहे हिन विषय सां लागापो न था रखन। 
हीउ लेख एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर जा हक कायम रखन्दे पब्लिश कियो वियो आहे।