Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

भारत में सिंधी कौम जा 70 साल

advertise here

Advertise Here

तव्हां हीउ लेख पढ़ण शुरू कियो उन खां अगु मां इहो साफु करण चाहियाँ थो त तव्हां जो गैर रज़ामंद थियण जो हकु पूरी तरह सां कायम आहे, वेनंती सिर्फ ऐतिरि आहे त मूंहिजन विचारन ते विचार कन्दे - को बि रायो कायम कन्दे खुलियिल दिलोदिमाग खां कमु वठन्दा। हीउ लेख कहिं बि संस्था या शख्स जी नुकतचीनी न आहे पर हिक तमाम नंढी कोशिश आहे भारत जे सिंधी नवजवानन खे किन हकिकतुन जी वाकफियत डियण जी।
अजु जे असां डिसूं त मुल्क जे विरहांगे जे 70 सतर सालन खां पोय खाली हथें सिंधु छड़े भारत लड़े अचण वारी सिंधी कौम जी हालत छा आहे त साफ़ साफ़ नज़र अचे थो त
[1] सिंधी कौम भारत जी ख़ुशहाल कौमुन [50 % खां वधीक आदमशुमारी पेसे जे लिहाज़ खां मज़बूत] में अगरी आहे।
[2] बिना सरकारी मदद हासिल कन्दे बि सिंधी कौम भारत में ट्रिन हज़ारन [हिकु अंदाज़] खां वधीक तैलीमी संस्थाऊं बरपा कयूं आहिन।
[3] लगभग हर सिंधी आदमशुमारी वारे शहर में सिंधी कौम सामाजिक कमन / उत्सवन वास्ते धर्मशाला या का बी इमारत ठाहिरायी आहे। भारत में केतिरा ई दिलकश आलीशान धार्मिक मंदिर / इमारतूं मुल्क खे सिंधी कौम जी सूखड़ी आहिन।
[4] मुंबई जी सपनन जी दुनिया लेखी वेन्दड़ बॉलीवुड - हिंदी फिल्म्स ऐं टेलीविजन सीरियल्स जी दुनिया - में सिंधी कौम जो रुतिबो बियन कौमुन में रीस पैदा करे सघण वारे मुकाम ते आहे।
[5] भारत में - लोकशाही में - नम्बरन जी अहमियत वारे खेतर में बि कहिं लेखे में न लेखजण जोग आदमशुमारी हूंदे बि सिंधी कौम जे किन सियासतदानन जीयं श्री लालकृष्ण आडवाणी [भारत जो उप प्रधानमंत्री ऐं बीजेपी जो राष्ट्रीय अध्यक्ष] , श्री राम जेठमलानी [भारत सरकार में कानून मंत्री], श्री ईश्वरदास रोहाणी [मध्यप्रदेश विधान सभा जा अध्यक्ष ], आचार्य जे बी कृपलानी [कांग्रेस पार्टी जो जनरल सेक्रेटरी ], वासुदेव देवनानी [राजस्थान सरकार में एडुकेशन मिनिस्टर] ऐं केतिर बियन वड़न वडन ओहदन ते पहुचण में कामियाबी हासिल कयी आहे। मकानी शहर जी लेवल ते , सिंधी सियासतदान नगरपालिका पार्षद ऐं नगरपालिका अध्यक्ष बणिजण में त बेशुमार सिंधी कामियाब थिया आहिन। महाराष्ट्र में त चालीसगांव ऐं हिंगणघाट जहिडन शहरन में जिते सिंधी आदमशुमारी तमाम घटि आहे उते बि सिंधी नगराध्यक्ष जे ओहदे ते पहुची चुका आहिन।
[6] 1991 -1992 खां शुरू थियल राजीव गाँधी खेल रतन अवार्ड [ देश जो वड़े में वडो अवार्ड] 2017 तायीं जिन 34 शख्सन खे मिलियो आहे उन्हन में हिकु सिंधी पंकज आडवाणी शामिल आहे। डॉ हीरानंदानी, नारायणदास मलकानी, प्रो राम पंजवानी, रमेश सिप्पी ऐं डॉ इंदिरा हिंदुजा जहिड़ा अटकल 50 सिंधी अहिड़ा आहिन जिन खे पदम अवार्ड सां नवाज़ियो वियो आहे।
[7] आम तोर जिन शहरन में सिंधी रहन था उन्हन शहरन जे होलसेल व्यापर ऐं रीटेल शो रूम्स जो वडो तादाद सिंधी कौम जे असर हेठ आहे।
[8] मुल्क जी मॉडर्न हॉस्पिटल्स में शामिल जसलोक, हिंदुजा, हीरानंदानी सिंधी कौम जूं बरपा कियिल आहिन।
[9] भारत जे संविधान जी मंज़ूरी मिलियिल भाषाउन में सिंधी भाषा शामिल थिये 50 सालन खां बि वधीक अरसो गुजरी चुको आहे ऐं 2016 तायीं 49 सिंधी अदीबन खे साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाज़ियो वियो आहे।
हीउ त थियूं भारत में सिंधी कौम जूं कुछ कमियाबियूं पर बिना नाकमियाबिन जे लिखण जे हीउ लेख बेमानी बणिजी पवन्दो। सो सिंधी कौम गुजिरियल 70 सालन में छा वञाये वेठी आहे या हासिल न करे सघी आहे उन लिस्ट में शामिल के गालिहियूं :
[1] अजु भारत में सिंधी भाषा पोयन पसाहन ते - खतम थियण जे वेझो पहुतल हालत में - नज़र अची रही आहे।
[2] सिंधी अखबारूं मेग्जीन्स लगभग बंद थी चुकियूं आहिन त नयें सिंधी साहित्य जो सृजन बि लगभग न जे बराबर आहे।
[3] बेशुमार सिंधी तैलीमी संस्थाऊं हून्दे बि भारत में सिंधी भाषा सेखारिण वारो स्कूल गोलिहिण सवली गालिह न रही आहे।
[4] अजु भारत जी -खास करे वड़न शहरन में रहन्दड़ - नवजवान सिंधी पीढ़ी सिंधी गालिहायिण में या पाण खे सिंधी चवरायिण में झिझक या शर्म महसूस करे थी।
[5] गुंजीरियल 70 सालन में सिंधी कौम पहिंजी लासानी बेमिसाल खूबी - ठहकी हलण जी काबिलियत - सबब सिलसिलेवार ऐं लागितो पाण खे पहिंजी सामाजिक हलत ऐं सभ्यता खां परे कन्दे वयी आहे। नतीज़ो इहो आहे जो असां जी नवजवान पीढ़ी खे न लोक कला "छेज" या "भगत" जी पूरी वाकफियत आहे न ई उन्हन जे वास्ते सिंधी डिणन जी का अहमियत बाकी रही आहे। अजु "चेट्री चण्ड" जो बहिराणो बि सामाजिक मेल मुलाकात जो वसीलो न रहियो आहे।
[6] सिंधी कौम जा अगुवान बि सिंधी भाषा वास्ते अरबी लिपि ऐं देवनागिरी लिपी जे मोंझारे में ऐतिरा मुंझियिल महसूस थियन था जो आमु माणुहू जी राह रहबरी करण में पुठिते पवंदा महसूस थियन था।
[7] तमाम घणिन सामाजिक संस्थाउन जे वज़ूद सबब सिंधी कौम जी हालत "घणे मरदे हलु न हले" खां बेहतर कोन आहे। छो जो हर संस्था / हर अगुवान जो पहिंजो एजेंडा पहिंजी घुर आहे। सिंधी कौम जूं हालतूं वधीक ख़राब नज़र अचन थियूं जडिहिं इन्हन संस्थाउन / अगुवानन में सिर्फ पाण खे सही साबित करण ऐं बियन खे ग़लत साबित करण जी रेस शुरू थिये थी।
[8] सिंधी कौम खे सामाजिक हलत जी सिखिया डियण वारियूं ऐं समाज में एकता आणिण - हिक जिंसायप जो अहसास वधायिण - वारियूं सिंधी पंचायतूं बि कमज़ोर ऐं वधीक कमज़ोर थिन्दियूं वयूं आहिन।
[9] गुजीरियल 10 -15 सालन में त साफ़ नज़र अची रहियो आहे त सिंधी कौम जा अगुवान या त अहिडियूं घुरुं करे रहिया आहिन जिन जे बारे में सिंधी समाज में हिक राय न आहे या जिन घुरून जो पूरो करे सघण भारत सरकार लाय बि सवलायी सां मुमकिन न आहे। नतीजो इहो आहे जो भारत जी सिंधी कौम जी एकता जी अणाठ या घटितायी वधीक चिट्रे रूप में सामहूं अची रही आहे।

हीउ लेख एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर जा हक कायम रखन्दे पब्लिश कियो वियो आहे।