Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

सिंधी भाषा जो वज़ूद

advertise here

Advertise Here

सिंधी भाषा जो वज़ूद
एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर

अजु सिंधी समाज जे सामहूं सिंधी भाषा जे वज़ूद जो ख़ातिमे वारी हालत में अची पहुचण हिकु अहिड़ो प्रॉब्लम आहे जहिं जो तकिडो ऐं असिरायितो हलु कढ़ण इन लाय निहायत ज़रूरी आहे छो जो भाषा कौम जी आइडेंटिटी [सुञाणप] आहे मतलब जे सिंधी भाषा खतम थी वयी त सिंधी कौम जो बि वज़ूद बाकी न रहंदो।
जे असां माज़ी जा वरक़ डिसूं त समझ में अचे थो त सिंधी कौम जो सामाजिक वज़ूद वैदिक जुग खां आहे। 52 अल्फाबेट्स हुअण सबब सिंधी भाषा दुनिया जी सभनी भाषाउन खां अमीर भाषा आहे। प्राचीन समे खां ई सिंधी कौम पहिंजे धंधे जे रुख वारे लाडे, पेसे खे रिथायिते नमूने कम आणिण जी बेमिसाल समझ सबब सदायीं दुनिया जी आर्थिक रूप में ताक़तवर कौमुन में शामिल रही आहे। सामाजिक सतह जे वाधारे लाय बि सिंधी कौम वटि सिंधी पंचायतुन सां गडु बियन केतिरिन बेशुमार तैलीमी, अदबी, सामाजिक ऐं आर्थिक संस्थाउन जो आधार वक़त जे हर दौर में रहियो आहे।
हाणे इहो सवाल पैदा थियण लाज़मी आहे त आखिर गुजिरियल सतर सालन में अहिड़ो छा थियो आहे जो दुनिया जी सामाजिक सतह ते अगरी कौमुन में शामिल ऐं आर्थिक रूप सां ताक़तवर सिंधी कौम जी भाषा खतम थियण वारी हालत में अची पहुती आहे ? इन सवाल जो जवाब हासिल करण खां सिवाय या गुजिरियल सतर सालन जी हालतुन जी छंड छाण करण खां सिवाय इहो मुमकिन न आहे त सिंधी भाषा खे महफूज़ रखण जी राह गोलिहे सघऊं।
जे असां डिसूं त कुदरत में बूटा, जानवर ऐं इंसान [हालांकि वैज्ञानिक इंसानन खे बि जानवरन में शुमारे साहवारन खे बूटन ऐं जानवरन में विराहिन था ] इन्हन ट्रिन किसमन जा साहवारा रहन था। इन्हन मां बूटन तोड़े जानवरन जी सजी उमिर पाण खे महफूज़ रखण जी जफ़ाकशी ऐं ज़िंदह रहण वास्ते खाधो हासिल करण जी कोशिश में गुजरी वेन्दी आहे। सिर्फ इंसान ई जो उमिर जे हिक दौर खां पोय खाधो हासिल करण ऐं पहिंजो वज़ूद कायम रखण जी चिंता खां मुक्ती हासिल करे सघन्दो आहे। जिन थोरो बि विज्ञानं पढिहियो हूंदो तिन खे खबर आहे त बूटन लाय पहिंजो खाधो हासिल करण में पाणी केतिरो अहम किरदार निभाये थो ऐं बूटा इहो पाणी पहिंजिन पाडुन वसीले हासिल कनि था। तव्हां डिठो हूंदो त बियाबान में या पाणी जी घटितायी वारी ज़मीन ते पैदा थियल बूटन जूं पाडूं संदन सरीर जो वधि में वधि तरकी कियल ऐं मज़बूत हिसो थिये थो। जडिहिं शींह खे भुख लगे थी उहो इन गालिह जो बिलकुल विचार न थो करे त उन जे सामहूं आयल हिरण नंढो या वड़ो हुन लाय त हिरण संदस खाधो आहे सो शींह उन सामहूं आयल हिरण खे मारे पहिंजी भुख मिटाये थो। तव्हां इहो बि ज़रूर बुधो हूंदो त नांगिण पहिंजा बार बि खायी छडे थी। गुजिरियल सतरं सालन में खास करे पहिरियें अध में सिंधियन जी सामाजिक तोड़े शख्सी ज़िन्दगी में बूटन ऐं जानवरन जे इन मते खे अहमियत मिलण जी शुरुआत थी।
1947 में थियल मुल्क जे विरहांगे सिंधी कौम खे बेफिकरी वारी हालत मां कढ़ी जफ़ाकशी जे दौर में दाखिल थियण लाय मज़बूर करे छडियो। सिंधी कौम जे हर वाशिंदे खे न सिर्फ कुटुंब परिवार वास्ते खाधो हासिल करण जी चिंता वेडिहे वयी पर गडोगडु वज़ूद जो संकट बि पैदा थी पियो। इहा शायद त सिंधी कौम जी बदकिसमिती हुयी जो इन्हन डुखियन हालतुन मां निकरण वास्ते सजे समाज त न पर समाज जे काफी वड़े हिसे बूटन ऐं जानवरन वारे सिंद्धांत खे पसंदगी डिनी मतलब उन्हन जे वास्ते खाधो हासिल करण जी चिंता खां मुक्ती ऐं वज़ूद बरकरार रखण सभ खां वधीक अहमियत वारी गालिह बणिजी वयी ऐं सामाजिक जीवन, भाषा, रीतियूं रिवाज़ सभ बेमतलब गैर ज़रूरी ऐं बिना अहमियत वारा थींदा विया। सिंधी समाज जो इन्हन विचारन वारो तबको न सिर्फ बचियिल बियन जी भेट में जल्द थायींको थी वियो पर आर्थिक रूप में बि वधीक ताक़तवर बणिजी पियो।
ताक़तवर शख्स जो कुदरती लाडो हूंदो आ ज़ाब्तो रखण पोय चाहे उहे हालतूं हुजन, ज़मीन जायदाद हुजे या समाज जा बिया माणुहू। ताक़तवर शख्स हर हिक ते पहिंजो ऐं सिर्फ पहिंजो ज़ाब्तो रखण जी हर मुमकिन कन्दो आहे। नतीजे तोर सिंधी समाज जे हिन नयें ताक़तवर तबके जो पहिरियों शिकार सिंधी पंचायतूं ऐं तैलीमी संस्थाउं बणियूं छो जो पंचायत न सिर्फ रुतबो पे डिनो पर बियन खे पहिंजे जाब्ते हेठ रखण जो वझु बि पे डिनो। तैलीमी संस्थाउं त रुतबे हासिल करण सां गडु वधीक पेसो कमाये वधीक ताक़तवर थियण जो वसीलो बि साबित थियण लगियूं। 1990 खां 2000 जे विच वारे डहाके में सिंधी कौम में अहिड़े लाडे वारन जे तादाद में बेशुमार वाधारो थियो नतीजों इहो निकतो जो सिंधी समाज में नयूं सामाजिक संस्थाउन जे बरपा थियण जी लाइन लगी वयी।
ताक़तवर शख्स जो हिकु बियो खतरनाक लाडो [रुख] हूंदो आहे त हू न सिर्फ पाण खे सही समझंदो आहे पर गडोगडु बियन खे गलत साबित करण जो को मोको न विञाईंदो आहे। नतीजे तोर सिंधी समाज जूं इहे बेशुमार नयूं बरपा थियल संस्थाउं, सामाजिक वाधारे जो वसीलो साबित थियण बदरां जाब्ते जी लड़ायी जे मैदान जे रूप में वाधि पायिण लगियूं। कुदरती तोर समाज जो मीज़ान बिगड़जण लगो ऐं भाषा तोड़े रीती रिवाजन में अणघुरबल तबदीलीन जे शामिल थियण जी रफ्तार में तमाम वधीक तेज़ी अचण शुरू थी वयी। इन्हन सभनी जो गड़ियल असर आहे जो सिंधी समाज जो उहो हिसो जेको आर्थिक रूप सां चाहे ओतिरो ताक़तवर न बणिजी सघियो आहे पर अजु बि कौम जे वज़ूद लाय भाषा जे हुअण जी अहमियत समझे थो सो इन्हन गैर मुनासिब सामाजिक तबदीलिन जे बरखिलाफ ऐं सिंधी भाषा जे बचाव वास्ते आवाज़ बुलन्द करण लगो।
जे असां विचार कयूं त इहो समझण सवलो आहे त सिंधी भाषा खे भारत जे संविधान में शामिल थियण जी मंज़ूरी ऐं सिंधी भाषा वास्ते अरबी तोड़े देवनागिरी ब लिपीयूं कबूल करण सिंधी भाषा जे ख़ातिमे जा बिज पोखिया छो जो इन्हन बिन लिपिन जी मंज़ूरीअ अग में ई थोरायी वारे सिंधी समाज खे वधीक थोरायीअ वारन बिन हिसन में विराहिये छडियो।
1960 जे धारे सिंधी तैलीमी संस्थाउन ते भारत में नयें सिर तैयार थियल ताक़तवर सिंधियन जे जाब्ते जो सिलसिलो शुरू थियो। सिंधी कौम जे कुदरती धंधो करे पैसा कमायिण वारे जे लाडे सबब थोरे ई वक़त में न सिर्फ इन्हन सिंधी तैलीमी संस्थाउन में अंग्रेजी माध्यम सां सिखिया डियण जो सिलसिलो शुरू थियो पर केतिरियूं नयूं सिंधी तैलीमी संस्थाउं जेके सिर्फ अंग्रेजी माध्यम सां सिखिया डियन जे बरपा थियण जी बि शुरुआत थी वयी। भारत में सिंधी भाषा खे घटितायी वारी भाषा जे दरजो मिलियल आहे सो सिंधी तैलीमी संस्थाउन खे बि सरकारी मदद मिलन्दी हुयी ऐं आहे पर जीयं त अंग्रेजी माध्यम वारे स्कूल मां स्कूल जी तैलीमी संस्था खे झझी कमायी पे थी सो आहिस्ते आहिस्ते सिंधी तैलीमी संस्थाउन वास्ते इहे स्कूल सगा पुट्र ऐं सिंधी स्कूल माट्रेली धीउ जो दरजो अखितयार कंदा विया। इन्हन सभनी गलिहिन जो गड़ियल ऐं कुदरती नतीजों आहे जो अजु सिंधी कौम पहिंजी भाषा जे ख़ातिमे वारी हालत में पहुचण जी हालत डिसी पहिंजो वज़ूद खतरे में महसूस करे रही आहे।
ताक़तवर शख्स जो हिकु बियो बि लाडो थिये थो जो वकत जे हिक हिसे खां पोय, कुछ हद तायीं सामाजिक मानु हासिल करे, हुन में इहो अहसास पैदा थिये थो त अकेलो सिर्फ हू आहे जहिं में काबलियत आहे त हू समाज में तबदील आणे सघे थो। नतीजे तोर हू पहिंजी हलत खे मिसाल जे रूप में ऐं पहिंजे हर कम खे शख्सी न पर सामाजिक वाधारे जे वसीले जे रूप में पेश करण जी कोशिश करे थो। जीयं त गुजिरियल सतर सालन में सिंधी समाज में अहिड़े ताक़तवर शख्सन जे वज़ूद जी तादाद में लेखे जोग वाधि थी आहे सो समाज खे हिकु सभनी खे कबूल अगुवान मिलण लगभग नामुमकिन गालिह बणिजी पियो आहे। सिंधी भाषा जे हिन संकट खे समझण लाय हिते इहो ध्यान में आणिण ज़रूरी आहे त पाण खे सिंधी कौम जे तारणहार जे रूप में साबित करण में लगल इन्हन सिंधी सामाजिक, सियासी, तैलीमी ऐं अदबी अगुवानन जी हिक बिये सां चटा भेटी जो नतीजों आहे जो सिंधी कौम न सिर्फ बिना अगुवान वारी कौम पर गडोगडु खासकरे सियासी तोड़े अदबी खेतरन में भारत जी सभ खां पोयिते पियल ऐं तरकी राह जी गोलिहा में भटकन्द कौम बणिजी पहिंजी भाषा खे पोयंन पसाहन वारी हालत में डिसण वास्ते मज़बूर आहे।
अहिडियन डुखियन हालतुन मां सिर्फ उहा ई कौम बाहिर निकरी पहिंजे आलीशान माज़ी जे रुतबे खे हासिल करे कामियाबी जी राह हासिल करे सघंदी आहे जहिंजा साहित्यिक ऐं रूहानी ताक़त जा ज़खीरा [Sources] मज़बूत हुजन पर भारत में थोरायी वारी हालत में सिंधी कौम इन्हन खां बि पाण खे महरूम बणाये वेठी आहे। सिंधी कौम जे पेसे खे रिथायिते नमूने कमि आणिण जी समझदारी बि सिंधी कौम खे न बचाये सघी आहे छो जो आर्थिक रूप में गैर फायदेमंद साबित थियण सबब न सिर्फ सिंधी अखबारून ऐं रिसालन जो शाया थियण बंद थी वियो आहे पर गडोगडु नयें सिंधी साहित्य जी रचना बि तमाम डुखी गालिह बणिजी पियो आहे। गुजिरियल सतर सालन में सिंधी कौम में सामाजिक, सियासी तोड़े अदबी रुतबे जो आधार पेसो बणिजण जे कुदरती नतीजे तोर कौम जे रूहानी रहबरन जी हलत में तबदील अचण हिक लाज़मी गालिह हुयी ऐं इन तबदील बि सिंधी भाषा खे ख़ातिमे जी राह ते पहुचण में मदद कयी।
असां जी सिंधी कौम, चाहे उहे आमु माणुहू हुज़न या अगुवान, विसारे वेठी आहे त सिर्फ उहा तबदील कामियाब ऐं असिरायिती जहिं जी शुरुआत घर खां मतलब पाण वठा थिये थी। अजु सिंधी कौम जी हालत इहा आहे जो हर सिंधी, भाषा बचायिण जी, सामाजिक एकता जी गालिह त करे थो पर को बि सिंधी भाषा गालिहायिण लाय तैयार न आहे। इन खां वडो मज़ाक़ बियो छा थींदो जो सिंधी कौम जा जेके अगुवान उथन्दे विहन्दे पाण खे सिंधी भाषा ऐं सिंधी सभ्यता खे बचायिण जी कोशिशन में तारणहार जे रूप में पेश पिया कनि था तिन जी न त कोशिशन में ऐं न ई शख्सी ज़िन्दगी में सिंधी भाषा मरकज़ी जगह ते आहे। सिंधी भाषा बचायिण जी गालिह त थिये थी पर हिंदी या अंग्रेजी में ,न कि सिंधी भाषा में।
अजु जे डिसजे त सिंधी नवजवानन वटि सिर्फ हिक ई राह बाकी बची आहे सा आहे सिंधी गालिहायिण ऐं व्हाट्सप्प ऐं बियन सोशल मीडिया ते सिंधी में लिखण जी कोशिश करण। इहो सही आहे त इहे नवजवान सही सिंधी लिखी सघण में कामियाब कोन थींदा पर छा सोशल मीडिया ते मौजूद बुजुर्ग सिंधी उन्हन जी मदद न कन्दा ? नवजवान तोड़े बुजुर्ग हर सिंधी लाय इहो लाज़िमी आहे त हू महसूस करे ऐं समझे त सिंधी कौम जो वज़ूद सिर्फ तेसी तायी आहे जेसी तायीं सिंधी भाषा जो वापर आहे। सिंधी भाषा बचायिण जो असां वटी जेको हिकु ऐं हिकु तरीको बाकी बचियो आहे सो आहे सिंधी ग़ालिहायिण।
सिंधियत सुहणी रहे !