Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

सिन्धियत जो संकट

advertise here

Advertise Here

सिन्धियत जो संकट
एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर

दुंनिया जी आर्थिक रूप में ताक़तवर कौमुन में शामिल, तमाम थोरायी वारी आदमशुमारी हूंदे बि बेशुमार मुलकन में सामाजिक , राजनैतिक तोड़े वापार जे खेतर में पहिंजे वज़ूद जो अहसास करायिण वारी सिंधी कौम अजु पहिंजे इतिहास जे बदतर दौर मां गुजरी रही आहे। भारत में त हालतूं ऐतिरे कदरु ख़राब आहिन जो इहो सवाल पूछिजण शुरू थी वियो आहे त अजु खां 100 साल पोय सिंधी कौम जो वज़ूद हूंदो बि या न ?
अजु हालत इहा आहे जो
[1] भारत जे सिंधी नवजवानन में सिंधी गालिहायिण, लिखण ऐं पढ़ण जो चाहु डीहों डींहु घटिजी रहियो आहे।
[2] सिंधी अखबारुन रिसालन जो बंद थियण त छडियो पर नयें सिंधी साहित्य जो सृजन बि लगभग बंद थी चूको आहे।
[3] सिंधी घरन मां सिंधी भाषा जे वापर जे सिलसिले खे घर खां बाहिर करण जी रफ्तार तमाम तेज़ी सां वधी रही आहे।
[4] भारत में त सिंधी कौम सियासत में कड़िहं बि अगरी कोन रही आहे पर हिन वक़त त हालत इहा आहे जो कौम जा सामाजिक तोड़े अदबी अगुवान न सिर्फ सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जे आलीशान विरसे खे बचायिण वास्ते ग़ैर सिंधी भाषाउन खे पसंदगी डियण में मशगूल आहिन पर गडोगडु पहिंजन घरन में सिंधी भाषा जे वापर खां मुहं मोड़े वेठा आहिन।
[5] आर्थिक ऐं सामाजिक रूप में ताक़तवर सिंधी कौम भारत में बि बेशुमार सामाजिक, तैलीमी ऐं अदबी संस्थाउं बरपा कयूं आहिन पर सिंधी अगुवानन जे हिक बिये जे विचारन सां ठहकी न हलण वारे रुख सबब न सिर्फ इहे संस्थाउं पहिंजे बरपा थियण जो मकसद हासिल करण में नाकामियाब साबित पयूं थियन थियूं पर गडोगडु सिंधी समाज जी सामाजिक बधी खे तार तार करण वारे ज़खीरे [Source] जे रूप में बि कमु पयूं कनि।
मां पहिंजे "सिंधी भाषा जो वज़ूद" इन लेख में लिखियो आहे "1947 में थियल मुल्क जे विरहांगे सिंधी कौम खे बेफिकरी वारी हालत मां कढ़ी जफ़ाकशी जे दौर में दाखिल थियण लाय मज़बूर करे छडियो। " दरअसल असां जे डिसूं त वक़त जे इन दौर खां पोय ई सिन्धियत जे ख़ातिमे जे सिलसिले जे निरख में तमाम वधीक तेज़ी आयी आहे।
हकीकत में इन दौर सिंधी कौम में नवन अगुवानन जे उसरण जो दौर शुरू कियो।
इहे नवां अगुवान समाज जी कुदरती सामाजिक हलचलुन सबब पैदा थियण जे बदरां बियन सबबन करे कौम जा अगुवान बणिजी पिया।
इहो बि इन दौर जो असर आहे जो सिंधी समाज में सामाजिक सुधार जी काबलियत ऐं ज़ज़्बे जी जगह सामाजिक संस्थाउन में पेसे वारन खे अहमियत ऐं ओहदा मिलण जी शुरुआत थी।
जीयं त सिंधी कौम जा इहे नवां अगुवान सामाजिक हलचलुन जी सख्त मेहनत ऐं सामाजिक सुधार जे ज़ज़्बे जी तपस्या करण खां सिवाय बियन सबबन करे कौम जे अगुवान जो दरजो हासिल करण में कामियाब थिया सो कुदरती तोर उन्हन जे लाय सिन्धियत न पर उहे सबब वधीक अहमियत वारा बणिया जिन जे सबब हू अगुवान बणिया।
हिते मां इंसानी इतिहास जे पुरातन इतिहास मां हिक मिसाल खे शामिल करण चाहीन्दुम। देवलोक जे राजा इंद्र खे सभनी देवताउन में सभ खां वधीक सुख सुविधाउं मयसर हुयूं पर पो बि इंद्र सभ खां सुखी कोन हो छो जो हुन जे मन में सदायीं इहो भउ रहंदो हो त किथे हीउ सभु कुछ मुखां खसजी न वञे। इतिहास गवाह आहे त जडिहिं बि कहिं तपस्या जी शुरुआत कयी इहो इंद्र हूंदो जो सभ खां पहिरियूं ड्रप विचां तपस्या भंग करण जी कोशिश कंदो हो।
सिंधी कौम जी बदकिसमिती सां नवां अगुवान इंद्र साबित थिया जिन पाण खे हासिल सामाजिक सुखन खे महफूज़ रखण जी हर मुमकिन कोशिश कयी ऐतिरो ई न पर पहिंजी इन कोशिश में उन्हन बियन खे पासीरो करण या उन्हन जे कमन में मीन मेख कढ़ी गैर ज़रूरी साबित करण जो को मोको बि न विञायो। नतीजो इहो निकतो जो न सिर्फ सिंधी समाज खे तरकी जी राह ते अगते वधायिण वारा अगुवान पासीरा थियण लगा पर समाज जी हलत में, सामाजिक जीवन में उहे गालिहियूं शामिल थियण लगियूं जिन सिन्धियत जे विरसे खे कायम रखण जी जगह ते उन जे नास थियण जे अमल में तेज़ी आन्दी।
हकीकत में जे डिसजे त सिर्फ उहे इंसानी समाज पहिंजो सामाजिक, सियासी ऐं सांस्कृतिक विरसो कायम रखण में कायम थींदा आया आहिन जिन जा अगुवान विष्णू जहिड़ी हलत हलन था। विष्णु न सिर्फ सामाजिक हलत जा नियम ठाहे थो पर माणुहुन खे उन्हन नियमन मूजिब ज़िंदगी गुजारिण जा फायदा बि कामियाबी सां समिझाये थो। समाज जे माणुहुन में इहो विश्वास बि पैदा करे थो त विष्णु जे वज़ूद जो मतलब आहे सलामती चाहे उहा जिस्मानी हुजे या सामाजिक या वरी रूहानी।
अजु सिंधी कौम वटि सिन्धियत जे विरसे खे महफूज़ रखण वास्ते सिर्फ ऐं सिर्फ हिकु रस्तो बाकी आहे। इहो आहे जेतिरो जल्द मुमकिन थिये सिंधी समाज में मौजूद इंद्र [हकीकत में हिकु न पर बेशुमार आहिन] खे सुञाणिण उन्हन खे सामाजिक जीवन में पासीरो करण ऐं अहिडियूं सामाजिक हालतूं ऐं माहोल पैदा करण जेको समाज में मौजूद विष्णु खे समाज जो अगुवान थियण वास्ते हिमथाये।
मां हिते सिंधी नवजवानन खे हिक गालिह ज़रूर चवण चाहियाँ थो सा आहे इहो सभु करण जो जेको पहिरियों डाको आहे सो आहे सिंधी समाज तोड़े सिंधी घरन में सिंधी भाषा जो वापर वधाईण इहो इनकरे बि निहायत अहमियत वारो आहे छो जो भाषा कौम जे वज़ूद जी निशानी आहे। आम तोर सिंधी नवजवानन जो चवण आहे त सिंधी भाषा असां जी रोज़ानी ज़िंदगी में ओतिरो कमि न थी अचे सो जे असां जा बार या असां पाण सिंधी न था वापिरायूं त कहिड़ो फरकु पवंदो ? सिंधी कौम धंधो कन्दड़ कौम आहे ऐं असां खे खबर आहे त जे ग्राहक जे सामहूं असां पाण में उन भाषा में गालिहायूं जेका ग्राहक खे समझ में न अचे त असां जे लाय वधीक नफो हासिल करण सवलो थिये थो।