Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

कहाणियूं – मुखे पसंद आयूँ

advertise here

Advertise Here

Before you start reading these stories I wish to make clear that none of these is written by me I read them on various social platforms posted by the users. Yes I have translated these stories in to Sindhi Devnagiri but please note that I am student of Science so it is quite normal that you find mistakes in my writing. Please either ignore or write to me with your suggestions and corrections.

S.P.Sir
Kolhapur - Maharashtra 

18/09/2016

गलती गोलिहिण

हिक भेरो अकबर जे दरबार में हिकु चित्रकार आयो ऐं दरबार में ई हुन वेठे वेठे हिकु अहिड़ो चित्र ठाहियो जो बादशाह अकबर चित्रकला ते खुश थी खेस इनाम डियण जो फैसलो कियो। सांगे सां उन डिहूं बीरबल दरबार में कोन हो सो बियन दरबारिन मोके जो फायदों वठन्दे चयो त इहो सही आहे त चित्रकार सुठो कलाकार आहे पर हीउ चित्र ऐड़े वड़े इनाम जे लायक न आहे। एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
छो न इहो कजे जो हिन चित्र खे शहर जे मुख्य चौराहे ते रखजे ऐं माणुहुन खे चयजे त जहिं खे चित्र में जिते गलती महसूस थिये उते X निशान करे। सुभाणे इहो चित्र वरी डिसी तव्हां फैसलो कजो त चित्रकार खे घणो इनाम डिजे। चित्रकार खे बि को ऐतिराज़ हो सो बादशाह अकबर हुकुम डिनो त चित्र खे चौराहे ते रखियो ऐं चार सैनिक उते हर बिहन ऐं सुभाणे चित्र खणी दरबार में अचन। एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
बिये डींहं ते चित्र दरबार वापस आयो। चित्र डिसी चित्रकार अज़ब में पयजी वियो छो जो हुन जेको चित्र ठाहियो हो सो त नज़र ई कोन पियो बस सिर्फ X निशान हुआ। बादशाह अकबर फैसलो कियो त चित्रकार खे को बि इनाम न डिनो वेन्दो। इहो बुधी त चित्रकार हिकदम मायूस थी वयो। दरबारी पहिंजी कामियाबी ते खुश थी ई रहिया हुआ जो बाहिर वियिल बीरबल वापस मोटी आयो। चित्रकार जो मायूस चेहरो डिसी बीरबल जे पुछण ते हिक दरबारी समूरी गालिह बीरबल खे बुधायी। एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
बीरबल चित्रकार खां पूछियो त छा हू सागो चित्र वरी ठाहे सघन्दो ? चित्रकार जे हा चवण ते बीरबल बादशाह अकबर खे चयो त चित्रकार खे हिकु बियो मोको मिलण घुरिजे। चित्रकार वरी चित्र ठाहियो। बीरबल सैनिकन खे घुराये चित्र खे सागी जगह ते रखी बिये डींहं ते वापस खणी अचिणो पर हिन भेरे शर्त हुयी त चित्र ते उहो X करे जेको समझे थो त हू उन चित्र जहिड़ो चित्र ठाहे सघे थो। एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
कहिं खे बि समझ में न पियो अचे त बीरबल खा करण थो चाहे पर सभु माठि करे वेठा रहिया। बिये डींहं ते न सिर्फ बादशाह पर सभु दरबारी ऐं चित्रकार बि अज़ब में पयजी विया त जहिं चित्र ते हिक डिहूं अगु सिर्फ X हुआ अजु उन ते हिक बि निशान न आहे। बादशाह जे पुछण ते बीरबल चयो *बिये जे कियिल कम में गलती कढ़ण ऐं उहो बि बिना सबब जे तमाम सवलो आहे पर सागो कमु पाण करण डुखियो आहे।* एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
सो पहिरियें भेरे माणुहुन खे गलती कढ़ण लाय चयो वियो त ऐतिरियूं ग़लतियूं निकतियूं जो चित्र ई गम थी वियो पर जडहिं माणुहुन चित्र ठाहिण जो कमु पाण करण वास्ते चयो वियो त हुनन खे समझ में आयो त इहो कमु करण केतिरो डुखियो आहे।
*सिखिया* बिये जी गलती कढ़ण खां अगु सिर्फ हिकु भेरो पाण खां पुछिजे त छा मां इहो कमु करे सघन्दुम ? जे न त मुखे गलती कढ़ण जो हक्क बि कोन आहे।

11/09/2016

मुसीबत में सियाणप
हिक नंढे गोठ में हिकु तमाम पुराणों खूह हो जो कुछ वक़त खां सुकी वियो हो। गोठ वारन जो विचार बीठो त खूह खे पूरे रस्तो वेकिरो कजे पर खूह जी उनहायीअ सबब खूह बंद करण जो कमु शुरू ई कोन पे थियो। सांगे सां हिक डिहूं हिक कुड़मीअ जो हिकु बुढो बैल खूह में किरी पियो। गोठ वारा अची खूह वठ जमा थिया। कुड़मीअ जो चवण हो त जीयं त बैल बुढो थी वियो आहे सो हू बैल खे बाहिर कढ़ण वास्ते खरचु करण लाय तैयार न आहे। पेशकश : एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
गोठ जे माणुहुन में सलाह मशवरो शुरू थियो आखिर फैसलो थियो त खूह त बंद करणो आहे सो बैल खे बि खूह में दफ़न करे छडिजे। गोठ जे मुखी चयो गोठ सभु पहिंजे पहिंजे घरां जे कोड़र खणी अची खूह में मिटी विझण शुरू कनि त सिज लथे खां अगु खूह पुरिजी वेन्दो। सो सभनी गोठ वारन खूह में मिटी विझण शुरू कयी। बैल अग में खूह में किरी होसिलो खोये चुको हो हिन नयीं मुसीबत ते वठी वाका करण शुरू कियाईं। कुड़मीअ जे दिल में बैल जे वाकन थोरी दया पैदा कयी सो हू मिटी विझण बंद करे विचार करण लगो। पेशकश : एस पी सर गांधीनगर कोल्हापुर
विचारन में खोयल कुड़मी बैल जा वाका बंद थियण जो अहसास करे अगते वधियो ऐं हुन हिकु अज़ब नज़ारो डिठो। बैल हाणे वाका करण जी जगह ते पाण ते पवन्दड मिटीअ खे कंधु लोडे हेठ पियो किराये छड़े ऐं जीयं ई उन जे पासे में मिटीअ जो ढेर ठहे पियो ट्रिपो डयी ढेर ते चढिहि पियो बिहे। खबर तडहिं पयी जो आहिस्ते आहिस्ते बैल खूह जे मुहं वेझो इन्दे आखिर खूह पूरिजण ते बाहिर निकरी आयो।

04/09/2016

सहन्दे त ठहन्दे

अजु बि काफी पुराणी कहाणी पेश कियां थो। हिक नंढे गोठ में पासे पासे में रहन्दड सोनारे ऐं लोहार जे घर सागे डींहं ते पुट्र जावा। बार अजु नंढा सुभाणे वड़ा पर भरवारन घरन में रहण सबब बिन्ही छोकरन में गहरी दोस्ती थी वयी सो जडहिं सोनारे जे पुट्र खे पिणस शहर में दुकान खोलाये डिनो त हू लोहार जे पुट्र खे मतलब पहिंजे बालपणे जे दोस्त खे बि साणु वठी आयो। पेशकश एस पी सर।
लोहार जे पुट्र पहिंजे पीउ सां गडु नंढे हूंदे खां कमु कन्दो हो सो पहिरियूं त हुन खे सोनारन जी नंढड़ी हथौड़ी हथन में ई कोन पे आयी पर दोस्त खातिर जियं तीयं कमु करण जी कोशिश करे पियो त बि ज़ेवर बराबर कोन पियो ठाहे सघे ऐं केतिरा भेरा त नुकसान बि थिये पियो सो हिक डिहूं हुन दोस्त खे पहिंजे वापस गोठ मोटण जी मोकल डियण बाबत चयो पर हुन जी गालिह कबूल न थी। दोस्त जे वापस गोठ मोटण जो विचार बुधी सोनारे जे पुट्र पहिंजे दोस्त खे साणु रखण वास्ते पहिंजे पासे वारो दुकान वठी लोह जा औज़ार ठाहिण जो दुकान खोलाये डिनो। पेशकश एस पी सर।
हिक डिहूं विच वारो दरवाज़ों खुलियिल हुअण सबब हथोड़े जी मार सबब लोह जा के ज़रड़ा, ज़ेवर ठाहिण वारी भटीअ जे पासे में अची किराया जिते अगु में ही सोन जा के ज़रड़ा पिया हुआ। हाल अहवाल पुछण ते लोह जे ज़रड़न खे खबर पयी त उन्हन जे हिक किलो जे औज़ार जी बि कीमत ओतिरी नाहे जेतिरी सोन जे हिक ग्राम जे ज़ेवर जी। सो लोह जे ज़रडे चयो असां बयी धातु आहियूं बिन्हीं खे भटीअ में तपाये रूप बदिलाये विकियों वेन्दो आहे पोय असां जी कीमत में ऐड़ो वधीक फरकु छो ? सोन ज़रड़े ज़वाब डिनो फरकु असां जी हलत सबब आहे। जडहिं असां खे भटीअ में तपाये नरम बणाये हथोड़े जी मार सां असां जो रूप बदिलायो वेन्दो आहे त मां उहो सूर चुपचाप सहन्दो आहियां पर तूं पाण खां पुछ त तूं केतिरो ज़ोर ज़ोर सां वाका कन्दो आहियीं।

08/16/25 वड़ो दानी

हिकु भेरो अर्जुन भगवान श्रीकृष्ण खे चयो अश्वमेघ यज्ञ जे पूरे थियण जी ख़ुशीअ में असां पण्डवन जेतिरो दानु कियोसीं, कर्ण पहिंजी सजी हयाती में उन जो सवों हिसो बि शायद कियो हुजे तहिं हून्दे बि दुनिया कर्ण खे दानवीर कर्ण जो लक़ब डिनो आहे ऐं असांजे दान को जिकुर बि न थो करे ? छा इहो किन पोयन जन्मन जे कर्मन जो फलु आहे या इन को सबब को बियो आहे ? www.thesindhuworld.com
भगवान श्रीकृष त आहे रास रचायीन्दड सो सिधो जवाबु किथां डिये। कृष्ण चयो तोखे खबर आहे न त असांजे मुल्क जी ओभर वारी सरहद ते चार पहाड़ आहिन ऐं उते वीह गोठ बि आहिन। मां इन्हन मां बिन पहाड़न खे सोनो करे तोखे डियां थो ऐं तोखे इहो सजो सोन इन्हन वीहन गोठन जे वाशिन्दन खे दानु करणो आहे। कृष्ण जी गालिह बुधी अर्जुन तेज़ घुड़सवार सैनिक जी टोली उन्हन गोठन डांहुं रवाना कयी जिन अची ढिंढोरो घुमायो त फलाणे डींहं ते अर्जुन अची सोन दानु कन्दो सो सभु सोन वठण वास्ते अचन। www.thesindhuworld.com
मुकरर डींहं खां हिकु डींहुं अगु सिज लथे धारे अर्जुन बि अची पहुतो ऐं रात जो आराम करण वास्ते सैनिकन जे तैयार कियिल शाही तम्बुअ में सुमही पियो। सुबह जो उथी डिसे त न सिर्फ पहाड़ सोन जा आहिन पर गोठ वारा बि वडियूं वडियूं लाइन्स ठाहे बिठा आहिन। [पेशकश - एस पी सर ] अर्जुन तकिडो सिनान करे सोन दानु करण अची वेठो। जेको बि अचे तहिं लपूं भरे सोन डिये पियो ऐं वठन्दड खुश थी दुआऊँ कन्दे अगते वधे पियो। को को अहिड़ो बि निकरे पियो जेको सोन जी हिक बी लप बि घूरे पियो। अर्जुन बि बिना इंकार करण जे डीन्दो रहियो पर थोरे ई वकत में अर्जुन जा हथ ऐं बाहूँ सूर करण लगियूं नतीजे तौर सोन दान करण जी रफ़्तार घटजी वयी। शाम तायीं त इहा हालात अची थी जो सिजु पूरी तरह सां लहण खां अगु ई अर्जुन थकावट सबब सोन दानु करण जो कमु सुभाणे ते मुलतवी करे तम्बुअ में अची लेटी पियो। बिये डींहुं त हालत वधीक ख़राब थी छो जो अर्जुन डिठो त हू बिन्ही पहाड़न मां हू हिक पहाड़ जो डहों हिसो सोनु बि दानु कोन करे संघियों आहे। www.thesindhuworld.com
बिन डींहंन खां अर्जुन जे जागण खां श्रीकृष्ण बि अचे पहुतो। श्रीकृष्ण अर्जुन खे बुधायो त बिये पासे वारा बयी पहाड़ बि हाणे सोन जा थीन्दा ऐं मंझद धारे कर्ण अची इहो सोनु दानु कन्दो। बिना कृष्ण खे बुधाये अर्जुन सैनिक मोकिले खबर कढ़ी त माणुहुन खे कर्ण जे दान करण बाबत जाण कोन्हे। मंझद धारे अर्जुन खां सोनु दानु वठण वारन मां कहिं त चयो त थोरी देर में बिये पासे वारन पहाड़न वटि कर्ण बि सोनु दान कन्दो। [पेशकश - एस पी सर] अर्जुन डिसी अज़ब में पयजी वियो त किन थोरन खे छड़े बिया सभु बिये पासे हलिया विया। श्रीकृष्ण अर्जुन खे चयो त असां खे बि हली डिसण घुरिजे त कर्ण कीअं दानु करे थो ? अर्जुन त सोनु दान करे करे थकजी पियो हो सो यकदम तैयार थी वियो। www.thesindhuworld.com
अर्जुन ऐं श्रीकृष्ण लिकी वेठा। कर्ण आयो सामहूं वीहन गोठन जा लगभग सभु माणुहू बीठा हुआ। अर्जुन डिठो त उन्हन में उहे बि शामिल हुआ जेके बिन डींहंन में अर्जुन खां सोन जो दान वठी विया हुआ। कर्ण गोठ वारन खे चयो मुखे सोन जा हे बयी पहाड़ दानु करणा आहिन सो मां इहे तव्हां वीहन गोठन जे वाशिन्दन खे दानु किया। ऐतिरो चयी पहिंजे घोड़े ते सवार थी कर्ण घर डाहूँ रवाना थी वियो। www.thesindhuworld.com
भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन डांहुं निहारियो। भगवान जो मतलब समझी अर्जुन चयो मां समझी वयियुम त कर्ण खे दानवीर कर्ण जो लक़ब छो मिलियो आहे। असां जे दानु कयूं था त चवूं था त पहिंजन हथन सां कयूं। जहिं खे दानु डियूं था सो असांजे सामहूं हथु फैलाये अची बिहे ऐं उन जी ज़रूरत बाबत बि असांखे खबर पवे।

08/16/22 पागल या बेवकूफ ?

हिकु काफी पुराणो किसो आहे। पागलखाने जी गाड़ी जा पागलन खे वठी पागलखाने वापिस अचे पयी सा रस्ते ते हिक पहाड़ी ते पंचर थी पयी। ड्राइवर स्टेपिनी कढ़ी फीथो बदिलायो पर पंचर फीथे ते रखियिल चार ई नट फीथे खे ड्राइवर जो हथु लगण सबब पहाड़ खां हेठ जंगल किरी पिया। ड्राइवर परेशान त बिना नटन जे फीथो कीअं लगाये ? डॉक्टर अलग पियो नाराज़ थिये। www.thesindhuworld.com
डॉक्टर ड्राइवर खे जल्द को तरीको गोलिहिण बाबत त चयो पर पाण बि दिमाग हलायिण शुरू कियो। इहो सभु नज़रो गाड़ी अंदर दरीअ ते वेठल हिकु पागल डिसे पियो। पागल ड्राइवर खे चयो त बराबर तव्हां वटि बिया नट न आहिन ऐं किरी पियल नट खणी अचण बि मुमकिन न आहे पर जे तव्हां मुखे बाहिर कढो त मां तव्हां जी मदद करे सघां थो। सिजु लहण ते हो राति थियण ते जंगली जानवरन जो बि खतरों हो सो आखिर लाचार थी डॉक्टर ड्राइवर खे तालो खोले पागल जी मदद वठण लाय चयो। www.thesindhuworld.com
पागल बाहिर अची पानो खणी गाड़ी जे बियन फीथन मां हर हिक मां हिकु नट कढ़ी स्टेपिनीअ वारे फीथे में लगायो। हाणे गाड़ी जे चैयिनी फीथन में ट्रे ट्रे नट हुआ ऐं गाड़ी आराम सां हली सघे पयी। डॉक्टर इहो डिसी अज़ब में पयजी वियो। डॉक्टर पागल खे चयो यार तूं त वड़ो सियाणो आहे पोय सभु तोखे पागल छो था चवन ? पागल जवाब डिनो साईं इहो सही आहे त मां पागल आहियां पर मां बेवकूफ न आहियां। डॉक्टर सोच में पयजी वियो त आखिर पागल ऐं बेवकूफ में कहिड़ो फरकु आहे ? तव्हां बि इहो ई था सोचियो न ? www.thesindhuworld.com
दिमाग खे वधीक तकलीफ न डियो। उहो जवाब पढ़ो जेको पागल डॉक्टर खे डीनो। पागल चयो डॉक्टर्स साहिब मुखे खबर आहे त पहिंजो ज्ञान किथे ऐं कीअं कमि आणिजे इन करे मां बेवकूफ न आहियां। मतलब त ज्ञान हासिल करण सां गडु ज्ञान कमि आणिण बि सिखण ज़रूरी आहे।

08/16/21 कुमी ऐं ससो

काफी पुराणी कहाणी आहे ऐं सभनी खे खबर आहे त कुमी सिर्फ लागीतो हलण सबब रेस खटी वयी हुयी त तेज ड्रूकन्दड खरगोश पहिंजो पाण ते हद खां वधीक विशवास हुअण करे अध रस्ते ते सुमही वियो ऐं रेस हाराये वियो। www.thesindhuworld.com
सोचियो जे यह रेस अजोके वकत में थिये हाँ त छा खरगोश चुप करे विहे हां ? बिलकुल न। खरगोश कुमीअ खे वरी हिकु भेरो रेस जो चैलेंज डिये हाँ ऐं पहिंजी कमज़ोरी पहिंजो पाण ते हद खां वधीक विशवास हुअण खे याद रखी सुमिहें न हाँ ऐं रेस खटी वठे हाँ। www.thesindhuworld.com
हाराये कुमी माठि करे विहे इहो त अज़ोके समे में थियणो न आहे। उहा हिक नयीं रेस वास्ते खरगोश खे चैलेंज डिये हाँ पर इन शर्त ते रेस जो रस्तो कुमी मुकरर कन्दी। तेज ड्रूकन्दड खरगोश खे भला कहिड़ो ऐतिराज़। सो मुकरर वकत ते रेस शुरू थी पर हे छा ओचितो तेज ड्रूकन्दड खरगोश जे सामहूं नदी अची वयी ऐं नदीअ ते को पुल बि न हो। हाणे जे खरगोश खे बिये पहुचुणो आहे नदी किनारे जे पहाड़न ते चढ़िही पहुचुणो आहे। खरगोश विचार पियो करे त कहिड़ी जगह तां पहाडु पार करे जो कुमी अची पहुति अं आराम सां नदी पार करे रेस खटी वयी। www.thesindhuworld.com
जंगल जे राजा शींह जडहिं खरगोश ऐं कुमी जे विच इन्हन रेस बाबत बुधो त हुन हिक नयीं रेस रखी। इन रेस में कहिं खे अकेलो न ड्रूकिणो हो रेस में बहरो वठण वास्ते घटि में घटि बिन जो मिली टीम ठाहिण ज़रूरी हो। इन वक़त तायीं खरगोश ऐं कुमी में दोस्ती थी वयी हुयी सो उन्हन टीम ठाही। तेज ड्रूकन्दड खरगोश ऐं तरी नदी पार सघण वारी कुमी बिन्ही जी टीम, हिक बिये जी ताकत जो फायदों वठण वारी टीम रेस खटी वयी।

08/16/14 पहिंजी ताकत

हिकु राजा ब बाज़ वठी आयो पर जडहिं हुन बिन्ही खे हिक वण ते विहारियो त उन्हन मां हिकु त आसमान जा चकर काटिण लगो पर बियो पहिंजी जगह तां चुरण वास्ते बि तैयार न। राजा सोचियो शायद अजु उन बाज़ जी तबियत नासाज़ हूंदी पर जडहिं डींहं पुठियां डींहुं इहो थियण लगो त राजा मुनादी करायी त जेको बिये बाज़ खे परवाज़ वास्ते मजबूर कन्दो तहिं खे इनाम डिनो वेन्दो। घणा ई आया पर को बि कामियाब कोन थियो। www.thesindhuworld.com
हिक डींहुं राजा डिठो त बियो बाज़ आसमान जा चकर पियो लगाये ऐं पहिरियें बाज़ खे वधीक उचाई वास्ते पियो ललकारे। अज़ब में पियिल राजा तकडो तकडो बाग में पहुतो जिते हिकु कुड़मी बीठो हो। राजा जे पुछण ते सिपाहीअ बुधायो त बिये बाज़ जे परवाज़ वास्ते उहो कुड़मी जवाबदार आहे। राजा कुड़मी खे तरह तरह जा इनाम डिना ऐं कामियाबी जो सबब पूछियायींस। कुड़मी चयो राजा तव्हां इहो बाज़ चिड़ियाघर मां आन्दो हो ऐं पहिरियों पखी फासायीन्दड वठां। लागितो चिड़ियाघर में रहण ऐं सलामती जी भावना सबब इहो बाज़ पहिंजी काबलियत ऐं सलाहियत विसारे वेठो हो। मां सिर्फ ऐतिरो कियो जो जहिं डार ते इहो वेठो हो सो कटे मां हुन में भउ पैदा करे उनखे पहिंजियूं सालाहितूं याद करायूं। www.thesindhuworld.com
त दोस्तों जडहिं बि असां कहिं खे पहिंजे बरख़िलाफ़ ज़ाहिर नुकसान वारो कमु कन्दे डिसूं त समझण घुरिजे त उहो शख्स असां जो दुश्मन हुजे इहो ज़रूरी न आहे उहो असां जो खैरखुवाह बि थी सघे थो।

08/16/07 सच जी परख

सियारे जी मुंद में राज दरबार राजमहल जे अंगण में लगो पियो हो। ओचितो हिक परदेसीअ अची राजा खे चयो मूं वट ब बिलकुल हिक जहिड़ा पथर आहिन पर उन्हन मां हिकु असली हीरो आहे त बियो नकली जे तव्हां जी दरबार में को पारखी मुखे बधाये सघियो त असली हीरो कहिड़ो आहे त मां इहो बेशकीमती हीरो तव्हां खे सूखड़ीअ तौर डयी हलियो वेन्दुम पर जे तव्हां जा पारखी नाकामियाब थिया त तव्हां मुखे पहिंजो अधु राजु पाटु डीन्दा। राजा जे शर्तु कबूल करण ते परदेसीअ बयी पथर उस में रखियिल टेबल ते रखिया। www.thesindhuworld.com राज जा वड़ा वड़ा जोहरी हीरन माणिकन जा पारखी अगते आया पर को बि कामियाब कोन थी सघियो। राजा हार कबूल करण वारो ई हो जो प्रजा में बीठल हिक अंधे चयो हे राजा छा मुखे बि परख जो हिकु मोको मिलन्दो। राज दरबारी ऐं पारखी गुस्से में अंधे खे निहारिण लगा पर राजा सोचियो जे हीउ बि नाकामियाब थियो त छा फरकु पवंदो हुअं बि त मुहिंजा विद्वान् पारखी नाकामियाब थियण सबब मुखे पहिंजो अधु राजु पाटु डियणो पवंदो। www.thesindhuworld.com
राजा जी मोकल मिलण ते अन्धे अगते अची बयी पथर हथ में खणी बुधायो त असली हीरो कहिड़ो आहे ऐं सभनी वास्ते अज़ब इहो हो जो परदेसी खे बि इहो कबूल हो। राजा अन्धे खां पूछियो त जिते सभु माहिर नाकामियाब थिया उते तूं कीअं कामियाब थिएँ।www.thesindhuworld.com अन्धे जवाबु डिनो हे राजा बयी पथर काफी समे खां उस में रखियिल हुआ जेको असली हो उन ते त को असर कोन थियो पर जेको नकली हो सो गरम थी पियो।

08/16/01 बकरी नंबर चार

राम ऐं शाम दोस्त ऐं सागे दरजे जा विद्यार्थी हुआ। बयी पढ़ायी में न पर शैतानी करण में पहिरियों नंबर हुआ। हिक डिहूं स्कूल में वेठे राम शाम खे दरी मां नज़र इन्दड बकरीयूं डेखारे चयो त स्कूल पूरो थियण खां पोय असां सभनी खां पोय स्कूल मां निकरन्दासीं अं इन्हन बकरीयिन खे स्कूल में बंद करे पोय घर हलन्दासीं। www.thesindhuworld.com
स्कूल पूरो थियो सभु पहिंजे पंहिजे घर विया। राम ऐं शाम इन्हन अछियिन ऐं भूरिन पंजन बकरिन खे पकडे स्कूल अंदर आणे उन्हन ते कारे रंग सां नंबर लिखिया १,२,३,५,६ ऐं बकरिन खे स्कूल में बंद करे घर हलिया विया। www.thesindhuworld.com बिये डींहं ते स्कूल खुलण ते छा मास्तर छा शाग्रिड़ हर को पियो बकरी गोलिहे। आखिर हिक खां छहन तायीं नंबर लिखियिल बकिरिन मां चार नंबर वारी बकरी कहिं बि कोन मिली हुयी। हाणे चार नंबर वारी बकरी हुजे त मिले न।

07/16/25 शींह जो जवाब

हिकु भेरो जंगल जो राजा शिन्हु जंगल में पहिंजे वज़ीर लोमड़ीअ सां गडु घुमे पियो। राजा जो दुलारो बांदर हर हर अची शींह जी पुठ ते ट्रिपो डयी भजी पियो वञे इहो डिसी पासे में चरन्दड़ गडह खे मस्ती सुझी ऐं हुन खे इहो महसूस थियो त शिन्हु बांदर खे कुछ न थो करे इन जो मतलब आहे त हू कमजोर थी वियो आहे। इन अहसास सबब गडहु बि शींह खे घटि वध गालिहायिण लगो। शींह जे को जवाबु न डियण सां गडहअ जो होसिलो ऐतिरो वधियो जो हू शींह खे लड़ायी वास्ते ललकारिण लगो। शिन्हु गडह जी गालिह ते ध्यान डिने बिना बिये पासे हलियो। www.thesindhuworld.com
लोमड़ी इहो सभु डिसी चुप न रही सघी हुन शींह खां इन हलत जो सबबु पूछियो। शींह जवाब डिनुस जे मां गड़ह जी ललकार ते उन सां लड़ायी करण वास्ते तैयार थियां हाँ त सभु चवन हाँ शींह थी गडह सां थो वीड़िहे ऐं जे मां गुसे में हिकु चम्बो हणा हाँ त गडह मरी वञे हाँ ऐं सभु चवन्दा डिसु शींह कमजोर गड़ह खे मारे छडियो। www.thesindhuworld.com
तहिं करे वड़ा चयी विया आहिन दोस्ती ऐं दुश्मनी न त पाण खां ताकतवर सां कजे न पाण खां कमजोर सां।

07/16/24 जुबान आहे नंढडी पर जीय जी गंढडी

हिकु भेरो राजा पहिंजे राज जे दौरे ते निकतो। हिक गोठ में राजा जे लंघण वारे रस्ते ते हिकु अन्धो साधु वेठो हो। सिपाहीअ चयो "अड़े ओ अँधा रस्ते खां परे थी वेहु इझो राजा आयो। " साधु बुधो अण बुधो कियो। वज़ीर जहिं ते राजा जे दौरे जी जवाबदारी हुयी उन अची चयो "सूरदास तूं बिये पासे थी वेहु। " साधुअ उन ते बि को ध्यान न डिनो ऐं राजा जी सवारी अची पहुति। साधुअ खे विच रस्ते वेठल डिसी राजा पालकीअ मां लही अची चयो। "हे सूरदास स्वामी तव्हां जे रस्तो छड़े विहो त सुठो थीन्दो। www.thesindhuworld.com " साधुअ वराणी डिनी "राजा मां तुहिंजे वास्ते ई विच रस्ते वेठो हयुम इझो थो पासे थियां। " राजा अज़ब मां पूछियो "तव्हां खे त नज़र न अीन्दो आहे पोय तव्हां खे कीअं खबर पयी त मां राजा आहियाँ ?"
साधुअ समूरी गालिह कन्दे चयो "राजा असां जी ज़ुबान असां जी सुञाणप आहे जहिं मुखे ओ अँधा चयो सो सिपाही हो ऐं जहिं सूरदास चयो उहो सेनापती या वज़ीर हो। " www.thesindhuworld.com
चवण जो मतलब त इन्सान खे गालिहायिण अगु सोचिण घुरिजे।

07/16/19 सेठ जी चिंता

हिक शहर में हिकु वडो अमीर सेठ रहन्दो हो। कुछ डीहंन खां वठी सेठ खे चिंता में डिसी सेठाणीअ कारण पूछियो। सेठ चयो त पोयें महीने मुनीब बुधायो त मूं वट ऐतिरो धनु आहे जो मुहिंजियुं सत पीढ़ियूँ वेही खायीन्दियुन। बस चिंता वठी वयी आहे त मुहिंजी अठयीं पीढ़ी भुख मरन्दी। www.thesindhuworld.com
सेठाणी सेठ खे वठी संत वट आयी। संत चयो बुध सेठ तुहिंजे शहर में नदी किनारे हिक बुढी माई अकेली रहन्दी आहे। अजु शाम जो अधु किलो अट्टो खणी उन जी उन माईअ खे दानु डयी अचु। जे माईअ तुहिंजो दानु कबूल कियो त मां तोखे चिंता दूर करण जो उपाय बुधायिन्दुम। www.thesindhuworld.com
सेठ वियो पर माईअ सेठ जो आन्दाल अट्टो कबूल करण खां इन्कार कियो ,चयायींस मुखे अजु जी रोटी वास्ते अट्टो मिली चुको आहे। सेठ चयो त माई सुभाणे लाय वठी रखु। माई जवाब डिनो छो जहिं अजु डिनो आहे छा उहो सुभाणे न डीन्दो ? सेठ जूं अखियूं खुली वयूं। हिक मुफलसी में जीवन गुजारिन्दड माईअ खे सुभाणे जी बि चिंता कोन्हे ऐं मां पंहिंजी अठयीं पीढ़ीअ जी पियो थो चिंता कियां ? www.thesindhuworld.com
मतलब असां खे चिंता इन कारण न हूंदी आहे त असां वट का घटिताई आहे पर आमु तोर असां उन गालिह वास्ते चिंता कन्दा आहियूं जेका असां जे हथ वस न आहे।

05/16/10 वंड विरहाय सुख पाय

हिक जंगल में हिकु संत किन शिष्यन सां गडु रहंदो हो हिकु भेरो सभनी शिष्यन इसरार कियो त संत सुख पायिण जो सवलो तरीको बुधायिन। संत गालिह खे टारे विया। बिया त सभु शांत थी विया पर २ शिष्य अहिडा निकता जेके वक़्त ब वक़्त इसरार करण लगा आखिर हिक डीहुं संत बिन्हिन खे पहिंजी कुटिया में घुराये चयो। तव्हां बयी सुख पायिण जो तरीकों जाणिण चाहियो था त तव्हां खे हिक मुसाफिरी करणी पवन्दी जे कबूल हुजेव त चवो। बयी शिष्य राज़ी थिया। www.thesindhuworld.com
जंगल जे वेझो कुछ गोाठ हुआ जिन डे वञण जा २ रस्ता हिकु ओभर खां त बियो ओल्ह खां हुआ। बयी शिष्य गोपाल अं घनशाम गुरु आज्ञा मुजिब सिज उभिरण खां अगु गोठन डान्हुँ वञण वास्ते तैयार थी कुटिया ते आया। हुनन डिठो त दर जे वेझो ब वढा थैला पिया आहिन हिकु जो मुँह बंद आहे ऐं उहो टिमटार भरियिल आहे त बियो हिकदम खाली। www.thesindhuworld.com
संत बाहिर अची चयो गोपाल तूं ओल्ह वारे रस्ते तां वेन्दे ऐं घनशाम ओभर वारे खां। तव्हां खे पाण सां हिनन मां हिकु हिकु थैलो बि खणी वञणो आहे। हाणे तव्हां पाण फैसलों कियो त केर कहिडो थैलो खणन्दो। याद रखो भरियिल थैले वारो कहिं खां कुछ न वठन्दो पर खाली थैले वारे खे हर हिक गोाठ मां जेकी मिले सो खणी अचिणो आहे। जेको अगु मोटण्डो उन खे सुख पायिण जो सवलो तरीको बुधायीन्दुम। www.thesindhuworld.com
बयी शिष्य सोच में पयजी विया। गोपाल सोचियो थैलो खणी जंगल मां निकरन्दे निकरन्दे मंझंद थी वेन्दी सिज मथे ते हूंदो गर्मी बि हिन साल वधीक आहे ऐं मां सभनी खां आखिरी गोठ में पहिरियूं पहुचन्दुम मतलब जे मां भरियिल थैलो खणा त मुखे उन जो वजन खणी मुसाफिरी करणी पवन्दी सो गोपाल गुरु खे खेस खाली थैलो डियण बाबत चयो। www.thesindhuworld.com
गोपाल खाली त घनशाम भरियिल थैलो खणी रवाना थी विया। पहिंजी सोच मुजिब गोपाल तकिडो तकिडो हली मंझंद खां अगु ई जंगल खां बाहिर निकरी पहिरियें गोठ पहुतो। कुछ देर आराम करें जडीहिं हलण लगो त हर कहिं संत वास्ते गोपाल जे थैले में कुछ न कुछ विधो। हिक गोाठ मां बिये गोठू, हर भेरे थैले जो वजन पियो वधे। उस में गोपाल जा पघर पिया निकरन। हाणे त उन खे खाली थैलो चुँडियिण ते अफ़सोस थियण लगो। www.thesindhuworld.com  
बिये पासे घनशाम वजन सबब आहिस्ते आहिस्ते पियो हले नतीजे तौर हू मंझंड खां पोय पहिरियें गोठ पहुची सघियो। उन वक़्त तायीं सिज में उहा तपत न रही हुयी। गुरु आज्ञा मुजिब जडिहिं घनशाम थैले जो सामान हर हिक गोठ में विरहायिण शुरू कियो त वजन घटिजण सबब हुन खे सुख मिलण लगो। www.thesindhuworld.com
बिये डीहुं बयी संत जे सामुहूँ हुआ पर पहिंजी उम्मीद जे बरख़िलाफ़ गोपाल देर सां पहुतो ऐं अफ़सोस ज़ाहिर कन्दे मुहँ लाहे चुपचाप वेठो हो। संत बि शांत करें वेठा हुआ। आखिर घनशाम जे सबुरु जवाब डिनो ऐं हुन चयो "साईं मां शर्त मूजिब हारायो आहे त बि मां वेनती कन्दुम त मुखे बि सुख पायिण जो सवलो तरीको बुधायिण जी कृपा कियो। "संत जवाब डिनो मां त तोखे इहो अगु ई बधाये चुको आहियां। हाणे बि तोखे समझ में न थो अचे वंड विरहाय सुख पाय।