Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

स्वामी धर्मदास

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – स्वामी धर्मदास

प्रेम प्रकाश मंडल जा संत - फेमस सिंधी संत - अमरापुर आश्रम  

dharamdasप्रेम प्रकाश मंडल जे मशहूर संतन में शुमारियिल स्वामी धर्मदास उन्हन विरलन जीवन में बि शामिल आहिन जिनखे प्रभु कृपा हासिल जीव लेखियो वेंदो आहे छो जो सिर्फ नवन सालन जी जमार में हिक रवाजी बार वांगुर बियन बारन सां मिली रान्द करण में मशगूल रहण या दुनियाबी सुखन आराम जी चाह रखण जी जगह ते उन्हन सतगुरु स्वामी टेऊँराम [पहिंजे मामे ]जी सेवा करण अं पहिंजो जीवन उन्हन खे अर्पण करण पसंद कियो।

स्वामी धर्मदास जो जन्म सिंध जे हिक नंढे गोठ भित में ईश्वरीबाई अं सेवकराम जे घर थियो हो। संदन बालपणे जो नालो हो धनाराम अं शुरुआत में हू स्वामी सर्वानंद जे नंढे भाउ जे रूप में मशहूर हुआ।

धनाराम सिर्फ नवन सालन जी उमर खां ई स्वामी टेऊँ राम सां गडु तण्डो आदम में आश्रम में रहण शुरू करे छड़ियों हो सो गुरु अं मामो बि हुंदे स्वामी जन हिन जी पढ़ायी ते खास ध्यान डिनो वेन्दे शास्त्र जो ज्ञान, संस्कृत सिखण अं हिन्दू धर्म ग्रन्थन जो अभ्यास करण वास्ते हुनन धनराम खे काशी या बनारस बि मोकिलियो हो। हालांकि पिता शेवकराम इहो सभु डिसी खुश कोन हो छो जो खेस चिंता हुयी त धनाराम बि साधु न बणजी पवे।

धनाराम शिकारपुर अं बनारस मां पढ़ायी पूरी करें अमरापुर स्थान तण्डो आदम मोटियो अं सतुगुरु स्वामी टेऊँराम अं आश्रम में अीन्दड साधु संतन जी सेवा में लगी वियो। पिता शेवकराम पहिंजी चिंता मिटायण वास्ते धनाराम जी शादी तय कयी अं परमात्मा जी कृपा सां जोड़े खे जल्द ही हिकु पुट्र बि जाओ पर जीयँ त कुदरत धनाराम वास्ते को बियो भाणो रिथे वेठी हुयी शायद तहिं करे शादी जे छहन सालन खां पोय धनाराम जी घरवारी जो स्वर्गवास थी वियो।

धनाराम वापस तण्डो आदम आश्रम में मोटी आयो अं सन्यास वरतायीं।  स्वामी टेऊँराम हिन खे धर्मदास नालो डिनो अं पाण सां सत्संग प्रवचन वास्ते वठी वञन शुरू कियो।  १९४७ में मुल्क जे विरहांगे समे प्रेम प्रकाश मंडल जे बियन संतन सां गडु स्वामी धर्मदास बि सिंध मां लड़े भारत आया अं वड़ोदरा [बड़ोदा -उन समे में] जी संत कँवर राम सिंधी कॉलोनी में प्रेम प्रकाश आश्रम बरपा करे रहण लगा।  हिन वक़्त इहो आश्रम धर्म तीर्थ प्रेम प्रकाश आश्रम जे नाले सां मशहूर आहे अं आश्रम जी बिल्डिंग बि रवायती गुंबज जहिडि छत जे बदरां छत ते सतगुरु स्वामी टेऊँराम जे पुतले सबब मशहूर आहे।

सजे प्रेम प्रकाश संत मंडल में स्वामी धर्मदास वड़ोदरा में आश्रम बरपा करण खां बि वधीक इन गालिह वास्ते मशहूर आहिन त हू प्रेम प्रकाश मंडल जा पहिरियाँ संत हुआ जहिं साईं टेऊँ राम जन्म चौथ खे हर महीने मलिहायिण जी रीत शुरू कयी।

२० अगस्त १९९१ ते स्वामी जन संसार मां चालणो कियो अं सन्दन शिष्य स्वामी अशोक प्रकाश खे गुरु गदी अं आश्रम जी जवाबदारी मिली। स्वामी अशोक प्रकाश हर महीने जन्म चौथ जी रीत अगते वधाइन्दे हर छंछर ते सत्संग खे सतगुरु टेऊँराम जी जन्म साखी सत्संग में बदिलाये हिक नयीं रीत शुरू कयी। वड़ोदरा प्रेम प्रकाश आश्रम जे सालाने उत्सव कैलेंडर में स्वामी टेऊँराम वरसी [अगस्त ] अं स्वामी धर्मदास जन्म उत्सव [नवंबर] खे तमाम वडी अहमियत हासिल आहे।