Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

स्वामी सर्वानंद

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – स्वामी सर्वानंद

प्रेम प्रकाश मंडल जा संत - अमरापुर आश्रम - जयपुर - फेमस सिंधी संत कवी   

sarvanand01सिंध जे भित गोठ जे ईश्वरीबाई अं शेवकराम जे जोड़े जी इहा खुशकिस्मती हुयी जो हुनन खे प्रेम प्रकाश मंडल जे फेमस संत स्वामी सर्वानंद जे बालपणे जो आनंद माउ पीउ जे रूप में माणिण जो वझु मिलियो। स्वामी सर्वानंद जेके प्रेम प्रकाश पंथ बरपा कन्दड संत शिरोमणी महान संत कवी स्वामी टेऊँराम साहिब जी रूहानी शक्तिन अं गदीअ जा वारिस बणिया तिन जो जन्म १८९८ में अक्टूबर महीने में बतौर स्वामी टेऊँराम जो भाणेजो थियो हो अं संदन नालो सीरुमल रखियो वियो हो।

बालक न सिर्फ मामे स्वामी टेऊँराम साहिब जी रूहानी रहबरी हेठ पर सिंध जे बियन नामवर संतन महात्माउन जी रूह रुहाण वारे माहोल में वडो थियो। स्वामी जन सिंध जे मुख़्तलिफ़ शहरन अं गोठन जे दौरे ते बि बालक सीरुमल खे पाण सां वठी वेन्दा हुआ अं हू बि शान्तीअ सां स्वामी जन जी सेवा पियो कन्दो हो।

जडहिं सीरुमल जहिंजो नालो हाणे स्वामी सर्वानंद थी चुको हो स्वामी टेऊँराम साहिब जे वारिस तौर प्रेम प्रकाश मंडल जी गदी संभाली त हिन जो चेहरों हिक रूहानी चमक सां चमकण लगो इहो डिसी श्रद्धालुन खे विश्वास थी वियो त स्वामी टेऊँराम पहिंजियुं रूहानी ताकतुं बि हिन खे बख्शे विया आहिन।  तण्डो आदम जो अमरापुर आश्रम सम्भालीन्दे स्वामी जन आम इंसान खे धर्म जी सही मायना समझायिण अं इंसानी जीवन जे मकसद जी जाण डियण वास्ते दौरा करण लगा।  १९४७ जे मुल्क जे विरहांगे स्वामी जन खे भारत - पहिंजी असली कर्मभूमि ते अचण लाय मजबूर कियो।

१९५२ में स्वामी सर्वानंद जयपुर में अमरापुर स्थान बरपा कियो जेको हिन वक़्त प्रेम प्रकाश मंडल जी मशगूलिन जो जाब्तो रखन्दड मरकज़ आहे।  अजु पंथ जे श्रद्धालुन अं सेवकन में जयपुर जी उहा ई अहमियत आहे जेका कहिं समे तण्डो आदम जी हुयी।  जयपुर जे अमरापुर आश्रम में हर साल अप्रैल में चैत्र मेले वास्ते सजी दुनिया मां हजारें श्रद्धालु जयपुर अीन्दा आहिन।

स्वामी सर्वानंद जन सुठा लेखक अं हिंदी जा विद्वान् हुआ हुनन प्रेम प्रकाश ग्रन्थ जी रचना कयी।  प्रेम प्रकाश पंथ मञींन्दडन वास्ते हिन ग्रन्थ जी उहा अहमियत आहे जेका सिखन वास्ते श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी आहे। सतगुरु स्वामी टेऊँराम जी जीवनी लिखण खां सिवाय स्वामी सर्वानंद खे यमराज नचिकेता जहिडियिन पुरातन धार्मिक वाकियन खे पहिरियों भेरो हिंदी कविता जे रूप में लिखण जो जसु हासिल आहे।

भगतन जा दुःख दर्द चिंता मिटायिण वास्ते स्वामी सर्वानंद जे रूहानी शक्तिन जे इस्तेमाल जा कतिरा ई वाकिया भगतन जी ज़ुबान ते आहिन।  चवन था बियावर जे हिक श्रद्धालु जे नवजवान पुट्र जी आवाज़ हली वयी अं डॉक्टरन बि जवाब डिनो त को इलाज मुमकिन न आहे सो हू जयपुर आयो अं स्वामी जन खे अर्जु कियायीं।  स्वामी जन पीउ पुट्र खे स्वामी टेऊँराम जी समाधी ते प्राथर्ना करे जल खणी अचण वास्ते चयो।  इहो जल स्वामी जन पुट्र ते छंडे सतनाम साखी चवण वास्ते चयो जडीहिं स्वामी जन पंजो भेरो चयो त हुन आहिस्ते सां सतनाम साखी इहो लफ्ज़ उचारियो।

स्वामी सर्वानंद जो नियम हो त हू साल में हिकु भेरो देस विदेश जे हर प्रेम प्रकाश आश्रम / मंदिर जो दौरों ज़रूर कन्दा हुआ। अहिडे ई हिक दौरे ते स्वामी जन मनिला में गंगाराम दादलानीअ कहे चयो त हीउ सदन आखिरी विदेश दौरों आहे अं स्वामी जन श्रद्धालुन ते आसीस करण वास्ते बि स्वामी शान्ती प्रकाश खे मुकर्रिर कियो।

२१ जुलाई १९७७ ते स्वामी सर्वानंद जो स्वर्गवास थियो अं सन्दन इच्छा मुजीब स्वामी जन जे नाशवंत सरीर खे गंगा जे पवित्र हरिद्वार में जल समाधी डिनी वयी।