Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

टूटल आइनो

advertise here

Advertise Here

हिन पेज ते मां तव्हां खे पहिंजन उन्हन खियालन सां रूबरू करायिन्दुम जेके आहिन त कहिं वक़्ती जोश जूनून जो नतीजे पर ऐतिरो ज़रूर आहे त लफ्ज़ कहिं रिथा मुजीब लिखियिल आहिन। हीउ पेज वक़त ब वक़त अपडेट थींदो रहंदो।
एस पी सर

Sep 2016

14 September 
गुमनाम रही लिखिया आशार बेशुमार
दोस्तन हजारन मां मिलिया यार ब चार
हलियो हो तन्हा आज़ाद सचल सफर ते
साणु थिया अची काफ़िलन जा अम्बार।

06 September
नींहं नीर वारे नेणन सां
फेरे मुहं बिये भर हुन
मुखे त अणडिठो करे छडियो।
फैलिया लम्हां खामोश असां विच
थिये ख़ामोशी खे बि ज़ुबां पहिंजी
खणी नालो आज़ाद सचल खे उन पुकारियो।।

04 September
डिठो न शायद तो खोले
किताब जे हर सुफे ते
नालो बि तुहिंजो तसवीर बि तुहिंजी।
न कजयां अदा कडहिं बि तूं अदावत
रखिजायं आज़ाद सचल सां नीहं जो नातो
आहे हीउ जिंदु बि तुहिंजी जान बि तुहिंजी।।

04 September
कियिल तो सां वफ़ा जो, सिलो इहो मुखे मिलियो
बेवफायीअ बि, रुसवा करे मुखे छडियो।
बहारुन ऐं आज़ाद सचल में, निफ़ाक़ छा आयो
खिजां खे बि घर मुहिंजो, गोलिहियो न मिलियो।।

04 September
रुखसार पहिंजे खे
आहे ढकियो ज़ुल्फ़न सां छो ?
पियो मुंझी घर मोटन्दड
वेचारो चंडु आहे
आहे सिजु आसमान में या धरतीअ ते आहे ?
अरज़ु बस ऐतिरो, कर गालिह हिक बयां
परदो आहे आज़ाद सचल खां
या भउ ज़माने जो आहे?

03 September
परेशानी नाहे कायी गुलन खे
खारान जे साथ मां
रहन खामोश सदा, न कनि ज़ाहिर गम
इंसानी हलत सां
ज़ुबां ऐं दर्द समझो आज़ाद सचल जो पहिंजो पाण
वंडियां ऐं विरहायां कहिं कंहिं सां।

03 September
दोस्ती जो नातो मूं सां, हुन छा खूबीअ सां निभायो
वरि वरि करे मुहिंजो पतों ,खिजां खे याद करायो।
नीहं जे नाते छड़ियो विहारे, आज़ाद सचल खे चुप
मुहिंजी वफ़ा खे ,पाराऐ लिबास बेवफायी जो वठी आयो।

02 September
मुहिंजी तौहीन करण जो, न हुन को मोको विंञायो
डियण गवाही , वठी बेवफायीअ खे बि साणु आयो।
थियो इहो सुठो, जो साणु आज़ाद सचल सां हुयी वफ़ा
डिसी जहिं खे, मुहं पहिंजो बेबस बेवफायीअ लिकायो।।

Sep 2016

16 September
[1] असां त हुआसीं घायल तुहिंजी मुर्क जा
आयें किथां खणी नवां हथियार मुस्कराहट जा
मस्त कियो तो बराबर आज़ाद सचल खे
कियो उघाड़ो उन्हन ज़ख्मन खे, पिया जे ढकिया हुआ ।

 

[2] सिक जे सिकायल खे नीहं जी सौगात मिली
बेआराम अखियिन खे घड़ी निंड्र भरी मिली
डीठी जो हिक मुर्क तुहिंजी आज़ाद सचल चपन ते
नयीं ख़ुशी नयीं खोराक ज़िन्दगीअ जी नयीं राह मिली

 

 

 

14 June 2016

इश्क आ जूनून मुहिंजो
इश्क ई
मुहिंजी इबादत आ
छा कन्दुम
मां तुहिंजो खुदा
साणु मूंसां दिलबर
मुहिंजो आ।
रहगुज़र जे
तुहिंजी घिटियिन में थियो
मुहिंजो अय खुदा
साणु जे न हूंदो दिलबर
त पोय कहिडो लुत्फ़
इनमे अदा।।

Aug 2016

10 August
बागान मां गुलाब चूंडे, खणी आयो आहियां
दिल जी ख़ुशीअ खे , आज़ाद सचल जे 
चेहरे जी, मुर्क बणाये आयो आहियां।
करे शल , वाहगुरु महर प्यारी प्यारी
मिलन तव्हां खे, खुशियूं दुनिया जूं सारियूं ।
हुजेव जन्मडींहुं मुबारक, इहो चवण आयो आहियां।

07 August
यादुन में सदा जियारे रखिजो
दिल पहिंजीअ में वसाये रखिजो
न आहियां वियिल वकत जो मोटी न ईंदुम
आज़ाद सचल खे दिल सां लगाये रखिजो