Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

साईं वसण शाह

advertise here

Advertise Here

जीवनी :: वसण घोट – रोहरीअ रहबर – साईं वसण शाह

vasan_ghotसाईं वसण शाह जन जो जन्म सिंध जे मशहूर संत, रोहरीअ++ जे रहंदड़ भाई कुंदराम जे परिवार में सम्बत १९०४ मांघ महीने जी चौडस [१४] तिथ (१९ फरवरी १८४८ ) ते थियो हो। साईं वसण शाह जो पिता भाई ज्ञानचन्द ** ज़िंदह पीर जो हिकु मशहूर भगत हो।  लाला तुलसीदास [नानो ] जे घर माता हसीबाई वसण शाह खे जन्म डिनो हो।  

सिन्ध जे मशहूर जोतिषी पंडित मंशाराम जहिं बालक वेढहोमल या वर्षो  जी जन्म कुंडली ठाही अगकथी कयी त जीयं त बालक मांघ महीने में जाओ आहे तहींकरे उहो मिठो गलिहाईंदड , घणन दोस्तान वारो , हिमथी ऐं बियन जो भलो करण लाय कमु कंदंड थींदो।  शुक्ल पक्ष में जमण सबब हु विद्वान ऐं ज्ञानवान बणिबो।  जियँ त बालक जो जन्म रोहिणी नक्षत्र में थियो आहे तहिंकरे हू शायद अवतार पिण आहे छाकाण जो रोहिणी नक्षत्र में जन्म वठन्दड हमेशा सच जी गोलीहा में रहन था ऐं उहे सियाणप जो मिसाल साबित थियन था।  चंड जहिड़े चेहरे ऐं मथियिन सभिनी गालिहियन खे ध्यान में रखी पंडित मंशाराम बालक लाय वर्षो नाले जी तजवीज़ कयी।  वक़्त गुजरिण बैद साईं पारु शाह साहिबन बालक जो नालो बदिलाये वसण रखियो। 

चाचे कुन्दाराम हिन् बालक जी पढ़ाही जो खियाल रखण जो बारु पाण सम्भालियो नतीजे तौर जल्द ही बालक श्री गुरुनानकदेव साहिब जन जूं लिखियल बाणी गायिण  लगो न रुगो ऐतेरो पर नंढी उमर में ही साईं वसन शाह बिना कहिंजे चये पहिंजी मर्जीअ सां लंगर जी सेवा करिण भी शुरू कयी।  वक़्त सार वर्षे  जी शादी तुमहि जे रहंदड भाई रेलूराम जी भेणु सां थी।  भाई रेलूराम साईं पारु शाह जो मुरीद हो।  साईं पारु शाह जी शख्सियत जो वसण शाह ते काफी असर पियो ऐं हु पिण उन्हन जो मुरीद थी पियो।  साईं पारु शाह साहिब अवधूत पंथ जी पुठभरायी कन्दड संत हुआ , इन पंथ जा साधक रवाजी इन्सानी ज़िन्दगीअ  खां पासो करे हलन्दा आहिन हू न सिर्फ सरीर जी सफायी खां बेपरवाह हून्दा आहिन पर कुछ भी ऐं कैसां भी गडु खायिण खां भी परहेज न कन्दा आहिन इनकरे आमु माणहु जी नज़र खां दीवाना या दिमागी तौर ठीक न लेखिया वेंदा आहिन छो जो अवधूत पंथ जा इहे दीवाना सदायीं पहिंजी मस्ती में गर्क रहन्दा आहिन। साईं पारु शाह वर्षे जी सेवा ते खुश थी संदस नालो बदिलाये वसण मतलब वसंदो ई रहन्दे रखियो।  इहा गुरुअ जी आसीस आहे जो इंसानी सरीर छाडिण खां पोइ बि अजु भी साईं वसण शाह जन न सिर्फ श्रद्धालुन जी दिलियन में जियरा आहिन पर जिते भी साईं जो मंदिर आहे उते पहिंजी मौजदगीअ जो अहसास करायिन था।  

थोरे ई अरसे में साईं वसण शाह गुरु नानकदेव साहिब जी बाणी ऐं सूफी कलाम गायिण लाय मशहूर थी वियो।  साईं जे मन्दिर में २४ क्लॉक लंगर शुरू रहंदो हो अं साईं पाण लंगर जी सेवा कंदा हुआ।  साईं वसण शाह जी रूहानी ताकत बाबत केतिरिया ई किस्सा मशहूर आहिन जहिड़ो कि सभागो जो नदिअ जे पाणीअ में वही वियो ऐं साईं जी महर सां चैन डींहंन बैद सही सलामत वापस मोटी आयो।  सम्बत १९८४ में साईं वसण शाह साहिब हिअ  फानी दुनिया छदी।    

++रोहरी

रोहरी दुनिया जे पुरातन शहरन मां हिकु आहे। इतिहास मुजिब त्रेता युग में राजा रघु - जहिं जे कुल में मर्यादा पुरषोतम श्रीराम जन्म वरतो - जे नाले ते रोहरीअ खे रघुपुर कोठिबो हो। शहर जी उत्तर सिमित में वहन्दड सिंधु नदी , ओभर ऐं ओल्ह सिमित जे घाटन सावन वणन ऐं डखण सिमित जी पहाडियीन सबब शहर अियं लगन्दो हो जण धरतीअ ते सुरग आहे।

** ज़िंदह पीर

चेटीचंड जे मेले लाय मशहूर नदिअ जे मरकजी हिस्से में मौजूद ज़मीन जहिं बाबत चयो वेंदो आहे त कहिं वक़्त उत पहाड़ी हुई। पाणीअ रस्ते मुसाफिरी करे वापार कन्दड खुशहालमल संबत् १००० ऐं ११०० जे विच में इन्हन पहडियीन जे विच मां रौशनी निकरंदे डिठी ऐं सागिये वक़्त सपनो पिण डिठो त कोई हुन खे चये थो त हिन् भेरे हुन खे वापार मां बेशुमार कमायी थिंदी इनकरे खुशहालदास खे उन हंद ते हिकु घरु ठाहिरायीण घुरिजे जिते हुन खे रौशनी नज़र आयी हुई। दोस्तान खुशहालदास खे सलाह डिनी त सपने में हुन जहिं खे डिठो सो पक वरुण देवता आहे। वापार तां वापस अचण बैद खुशहालदास उन हंद ते हिकु घरु ठाहिराये उते जोत बरपा कयी। वक़्त पुजाणे इहो हंद ज़िंदह पीर तौर मशहूर थियो। गुरुनानक देव साहिब पिण हिते आया हुआ जहिं हंद ते हू रहिया हुआ सो अजु गुरुनानक जी कुबि तौर मशहूर आहे।