Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

मां ऐं मुहिंजा विचार

advertise here

Advertise Here

आम तौर मां हिते पहिंजियूं लिखियिल ऐं व्हाट्सएप्प ते शेयर कियिल पोस्ट शामिल कन्दुम। महेरबानी करे ध्यान में रखन्दा त मां विज्ञानं जो टीचर रही चुको आहियां पर अजु बि विद्यार्थी आहियां। सिंधी भाषा ते जाब्तो हुअण ते मुहिंजो को बि दावो कोन आहे। विज्ञानं सां लागापो रखण वारो हुअण सबब इहो बिलकुल मुमकिन आहे त तव्हां खे भाषा जे लिहाज़ खां गलतियूं मिलन सो या त उन्हन खे नज़रअंदाज़ कियो या वरी मुनासिब दुरस्ती सूधो मुखे लिखो
एस पी सर
गांधीनगर कोल्हापुर

18 Aug 2016

सिंधी भाषा, लिपी ऐं बियन भाषाउन जा अखर
असां जे व्हाट्सएप्प ग्रुप सिन्धियत जो संसार में मंगलानी सर जे *नि:शुल्क* ऐं *निरोगी* जहिडन अखरन कमि आणिण ते मूं इन्हन वास्ते सिंधी भाषा में वधीक कमि अचण वारा *मोफत या मुफ्त* ऐं *तंदुरुस्त* इहे अखर लिखिया हुआ। जहिं ते भाउ श्रीचंद जन जो चवण आहे त मंगलानी सर जा अखर सिंधी भाषा जी ख़ूबसूरती [सूंह] वधाईन था, हुनन जो इहो बि चवण आहे त *आज़ाद भारत में सिंधी भाषा खे अरबी लिपि ऐ अरबी/फारसी/उर्दू अखरन जी गुलामी खा आज़ादी हासिल करे , वापस पहिंजी देवनागरी लिपि ऐ देवभाषा जो वापर कयूं।* त दोस्तों इन बाबत मुहिंजो जेको आज़मूदो ऐं विचार आहिन से तव्हां जे सामहूं रखां थो। तव्हां जो गैर रज़ामंद थियण जो हकु कायम आहे ऐं कायम रहंदो।
[१] हर हिक सौ किलोमीटरन जे मुफासिले खां पोय आमु तौर हर भाषा जा उच्चार बदिलजी वेन्दा आहिन।
[२] कहिं बि भाषा में जेके अख़र कमि अचन था से सभु उन भाषा जा पहिंजा मतलब निजु अखर न हूंदा आहिन।
[३] हर हिक भाषा में आसपास जी बियिन भाषाउन जा अखर थोरे या घणे अंदाज़ में शामिल थी वेन्दा आहिन।
[४] का बि भाषा जेतिरो सवलायी सां बियिन भाषाउन जा अखर पाण में समाये वठन्दी आहे ओतिरी वधीक वाध पायीन्दी आहे।
[५] जे कहिं ऐराजीअ में हिक खां वधीक भाषाउन जो वापर थिये थो त इन्हन भाषाउन जी लिपी हिक हुअण सां हिक भाषा वारे खे बी भाषा सिखण में सहूलियत थीन्दी आहे। कुछ साल अगु मुखे मराठी बिलकुल न ईन्दी हुयी पर मराठी ऐं हिंदी बिन्हीं जी लिपी सागी देवनागिरी हुअण सबब मुखे मराठी सिखण में तकलीफ न आयी।
[६] हालांकि इहो अकेलो सबब न आहे पर छा को बि इन गालिह खां इन्कार करे सघन्दो त सिंधी भाषा अजु जहिं हालत में आहे उन वास्ते अरेबिक ऐं देवनागिरी लिपिअ जे झगडे जो जवाबदारीअ वारो किरदार न आहे ?
[७]हिन वकत हिकु बियो नओं झगड़ो मथो खणी रहियो आहे। केतिरन जो रायो आहे त देवनागिरी लिपिअ में खास करे मोबाइल या कॉम्प्यूटर ते लिखी वेन्दड सिंधी देवनागिरीअ में सिंधी भाषा जा सभु अखर सही सही नमूने लिखण डुखियो या हिक किसम सां ना मुमकिन आहे तहिं करे जैसी तायीं इन मसले जो हलु न थो मिले तेसी तायीं सिंधी देवनागिरी जो उपयोग [वकती तौर] बंद करे छडिण घुरिजे।
हिन बाबत मुहिंजो रायो आहे त गलतियिन थियण जे इमकान सबब भाषा या लिपी कमि न आणिण जो मतलब आहे त असां गलतियिन वास्ते दरवाजो बंद कन्दे भाषा जे वाधारे जो रस्तो बि बंद था कयूं। जे भाषा जो वापर न थीन्दो त भाषा जो ज़िंदह रहण ना मुमकिन थी पवन्दो। संस्कृति, दुनिया जी पुराणे में पुराणी ऐं सभनी भाषाउन जी माउ लेखी वेन्दड भाषा जो मिसाल असां जे सामहूं आहे।

16 Aug 2016

कुछ न बदलियो आहे
कुछ वक़त खां मन में विचार वियो हले गुजरियल कुछ सालन में सोशल नेटवर्किंग जो रूप माय स्पेस - ऑरकुट ऐं फेसबुक जे दौरन मां गुजिरन्दे अची व्हाट्सएप्प जे दौर में पहुतो आहे पर असां सिंधी उते ई बिठा आहियूं जिते गुजरियल डहाके में मतलब २००५ - २०१५ में हुआसीं। ऑरकुट ऐं फेसबुक ते ग्रुप ठाहीन्दड, व्हाटसअप ते वीहन खां वधीक ग्रुप्स जो मेंबर ऐं बिन ट्रिन ग्रुप्स जो एडमिन हुअण जी हैसियत सां के ग़ालिहियूं मुहिंजे ध्यान में आयूं आहिन।
[१] पहिरियूं बि २-३ सैकड़ो सिंधी पहिंजयूं पोस्ट पाण तैयार कन्दा हुआ ऐं अजु बि सागी हालत आहे।
[२] कहिं बि ग्रुप में ८-१० सैकड़ो खां वधीक मेंबर्स कोन हूंदा हुआ जेके रोज़ कुछ न कुछ ग्रुप में पोस्ट कनि। इहे सभु पोस्ट कॉपी पेस्ट जो नतीजो हूंदयूं हुयूं। मां न थो समझा त अजु बि तव्हां खे इन में का तबदील आयल नज़र ईन्दी हूंदी।
[३] ग्रुप में अटकल १० सैकड़ो बिया अहिड़ा मेंबर्स हूंदा हुआ जेके कडहिं त याद अचण ते का पोस्ट करे छड़ीन्दा हुआ। छा अजु इहो तादाद वधियो आहे ?
मतलब त अगमें बि ८० सैकड़ो जे आसपास ग्रुप मेंबर्स माठि में हूंदा हुआ त अजु बि सिर्फ नाले वास्ते मेंबर्स आहिन। हा इहो ज़रूर आहे त
[१] अग में इहे ही पोस्ट पढ़हन्दा हुआ ऐं अजु बि सागो कमु पिया कनि।
[२] अग में बि इहे ऑरकुट या फेसबुक मां बेज़ार हूंदा हुआ अजु बि व्हाट्सएप्प मां तंग आहिन।
अग में सोशल नेटवर्किंग साइट ते अलग अलग ग्रुप्स जूं ९५ सैकड़ो पोस्टियउँ सागियूं हूँदियूँ हुयूँ ऐं थोरे थोरे वकत खां पोय वरी पयूं पोस्ट थीन्दियूं हूयूं त अजु बि असां सिंधी उन आदत खां पाणु न छडाए सघिया आहियूं।

05 Aug 2016

सिंधीयिन जे वाधारे जूं रुकावटूँ ?

आम तौर सिंधीयिन जी दान्ह आहे त असां जी कौम उहा तरकी न कयी आहे / भारत में असां सिंधीयिन खे उहो मुकाम न मिलियो आहे जहिं जा असां हक़दार आहियूं ? अचो त डिसूं त १९४७ - २०१६ जे विच में मुल्क जी वडी माली ताकत जो रुतिबो हासिल कन्दड सिंधी कौम जे वाधारे जूं मुख्य रुकावटूँ कहिड़ीयूँ रहियूं आहिन।

[१] भाषा : असां सिंधी बोलीअ खे सिर्फ विचारन जी जाण [डे वठु ] जो साधन समझी सिंधी बोलीअ ते ध्यान न डिनो आहे। हकीकत में भाषा समाज जे तहजीबी [Cultural], अदबी [Literary] ऐं सामाजिक वाधारे जो साधन बि आहे जहिं ते ध्यान न डियण सबब सिंधी भाषा ऐं नतीजे तौर सिंधी कौम जे वाधारे में रूकावट पैदा थी आहे।

[२] लिपीअ जो झगड़ो : अरेबिक ऐं देवनागिरी लिपि जे झगडे सबब अदबी वाधारो न थी संघियो आहे। साहित्य समाज जो आइनो लेखियो वेन्दो आहे पर जे आइनो ई न हुजे त समाज जी जेका हालत थिये थी सा असांजे सामहूं आहे।

[३] तमाम घणियूं संस्थाऊँ : सिंधी कौम जे वाधारे में इन्हन बि रूकावट जो कमु कियो आहे छो जो इन्हन में सिर्फ पाण खे रहबर डेखारिण जी चटा भेटी हले पयी।

[४] होसिला अफ़ज़ाई जी घटितायी : - जेके बि शख्स या संस्थाऊँ सिंधी कौम जे वाधारे वास्ते कमु करण शुरू कन था उन्हन मां जेके बि कमु बंद कन था जे उन जो सबब डिसजे त आम तौर हिकु आहे समाज पारां मुनासिब सहयोग त परे पर ठीक ठाक नमूने जी होसिला अफ़ज़ाई बि हासिल कोन थिये।

[५] सिर्फ पाण खे सही या बेहतर समझण :- सिंधी कौम खे भारत में नयें सिर पाणु वासायिणो हो मतलब मुख़्तलिफ़ खेतरन में सुधार जी ज़रूरत हुयी ऐं अजु बि आहे। असां जे समाज वट अलग अलग खेतरन में कमु कन्दड शख्स ऐं संस्थाऊँ आहिन ऐं काफी सुठो कमु बि थिये पियो पर मुसीबत इहा आहे जो इन्हन मां हर को पहिंजे कम खे वधीक अहमियत वारो समझी बिये खे न सिर्फ घटि थो लेखे पर उन जे कम खे घटि अहमियत वारो या मागे बिना ज़रूरत वारो कमु डेखारिण जी कोशिश कन था। नतीजे तौर आम सिंधीअ जे विशवास में घटितायी अचे थी ऐं हू इन्हन सुधारन खां पाणु परे करण जी कोशिश करे थो।

ही मुहिंजा शख्सी विचार आहिन ऐं मां इहो दावो न थो कियां त मां को समाज सुधारक या सिंधी कौम जो अगुवान आहियां।

07 July 2016

हिन गालिह ते विचार कियो

स्मार्ट फ़ोन वापिरायिण वारा अामु तोर जेका हिक शिकायत कन्दा आहिन सा आहे फोन जो slow थी वञण। पर को बि इन गेलिह ते ध्यान न डीन्दो आहे त इहो छो थियो ?
दरअसल हर हिक फोन में कुछ महदूद मेमोरी हूंदी आहे जेका फुल्ल थियण सबब फोन स्लो थी वेन्दो आहे।

आमु तौर फोन जी कुल मेमोरी तो अटकल 30 -40 % त ऑपेरटिंग सिस्टम ई खाई वेन्दो आहे जे तव्हां जी बिल्ड इन मेमोरी 16GB आहे त तव्हां जे फोन जे ऑपेरटिंग सिस्टम लाय अटकल 5GB या उन खां बि कुछ वधीक मेमोरी कम आन्दल हूंदी मतलब तव्हां जे वापर वास्ते अटकल 10 GB मेमोरी अवेलेबल हूंदी।
हर हिकु बारन, मिट्रन मायट्रन ऐं दोस्तन जा फोटो विडिओ, पहिंजी पसंद जा फिल्मी गाना, भजन, विडिओ वगैरह फोन में भरे रखे तो। समार्ट फोन जो उपयोग कन्दे फोटो ऐं विडिओ कढ़े थो - इहे सभु बि फोन जी मेमोरी खत्म कन था। नतीजे तौर 16GB वारी फोन में मुशकिल सां 2 या 3 GB मेमोरी बचे थी।

अजोके समे में हर हिकु 10 व्हाट्सप्प ग्रूप्स जो मेंबर त आहे ई ऐं इहे फोन खे स्लो करण में काफी वडो रोल अदा कन था छो जो असां जी फॉरवर्ड करण जी आदत सबब हर हिक ग्रूप में हिक डींह में 50 -60 मेसेज हिक तमाम आम गालिह आहे। इहे मेसेज आम तौर इमेज फोटो ऐं विडिओ जे रूप में थियन था ऐं बचियिल 15-20% मेमोरी जो वडो हिसो कम आणे छडिन था।

हीउ त नई फोन बाबत आहे 3-4 साल पुराणन फोन्स में त कुल इन बिल्ड ऐं एक्सटर्नल मेमोरी मिलाये बि मेमोरी मुशकिल सां 10 GB मस थिये थी।

हाणे जहिं वक़त बि तव्हां को फोटो इमेज या विडिओ कहिं ग्रूप में पोस्ट कयो था या कहिं खे फॉरवर्ड कियो था त छा तव्हां ध्यान डियो था छा

[1] इहो बियन जी फोन खे स्लो करे सघे थो।
[2] जिन जी फोन पुराणी आहे से तव्हां खां परे रहण पसंद कन्दा मतलब तव्हां जे पोस्ट कियिल मेसेज खे डिसण खां सिवाय ई डिलीट करे छडिन था।

08 June 2016

वेल न वयी आहे ?
कुछ डीहं अगु असांजे व्हाट्सप्प ग्रुप "सिंधियत जो संसार" में मां आगरा जे रामचंद छाबरिया अं जयपुर जे गिरधारीलाल मुल्तानी जन जे पोस्ट कियल विचारन ते पहिंजो रायो लिखन्दे सवाल पुच्छियो हो त जे असां जी होणोकी पीढ़ी सिंधी बोलीअ खां परे आहे सिंधी पढ़ी लिखी नथी सघे त डोहारी केर आहे ? असां जा वड्डा, असां या इहा पीढ़ी ?
कहिं बि मेंबर मुहिंजी सवाल जो जवाब कोन डिनो अं मां बि इन सवाल जो को बि जवाब कोन डीन्दुम छो जो तोहमत या इलज़ाम लगायिण सां सिंधी बोलीअ जे घटिजन्दड वापर जो मसैलो हल थियणो कोन आहे। न ही इन गालिह ते विचार करण सां त सिंधी स्कूल छो बंद थिया या जेके सिंधी स्कूल हलन पिया उन्हन खे सरकार वटां वधीक माली मदद कीअं मिली सघे थी को सिंधी बोलीअ जो वापर वधन्दो। ज़रूरत आहे अजु जेके हालतूं आहिन उन्हन मां ई रस्तो गोलिहे कढण जी।
सिंधी बोलीअ जे वापर जे घटिजण जो हिकु वडो अं सभ खां वधीक अहमियत वारो सबब आहे सिंधी बोलीअ जो असांजे घरन अं रोज़ानो ज़िन्दगीअ मां गुम थी वञण।
हाणे सरकारी सिंधी स्कूल वरी चालू करण या सिंधी बोली अं सिंधियिन खे सरकार वटां को खास दर्जा या रिजर्वेशन मिले इन वास्ते को आंदोलन करण त असां धंधे में पूरी तरह सां रुधियिल सिंधियिन लाय मुमकिन न आहे पर के गालिहयुं असां करे सघुं था
[१] बार भले कहिडे बि मीडियम जे स्कूल में पढ़ायी कन्दा हुजन उन्हन खे घर में सिंधी गालिहायिण वास्ते हिमथायिण अं पाण बि सिर्फ सिंधीअ में गालिहायिण।
[२] धंधे में बि जडिहिं कहिं बिये सिंधीअ सां गालिहायुं त सिर्फ अं सिर्फ सिंधीअ जो वापर कयूं।
[३] हर शहर में घटि में घटि हिकु अहिडो व्हाट्सप्प ग्रुप ठाहिण जहिं में सिर्फ सिंधी भाषा जो वापर थिये।
[४] बारन में सिंधी भाषा वास्ते चाह वधायिण वास्ते उन्हन खे सिंधी संतन महपुरुषन अं लेखक कविन जे जीवन बाबत बुधायिण।
[५] बारन खे सिंधी डिणन ते नयीं मोबाइल / मोटर साइकिल / कपडा/ रान्दीका वठी डियण।
बिया केतिरा उपाय बि थी सघन था जेके कम आणे सिंधीअ जो वापर वधाये सघजे थो। ज़रूरत आहे बस इहो समझण जी त इहो मुमकिन आहे अं वेल न वयी आहे जे असां चाहियुं त अजु बि सिंधी बोलीअ जो वापर वधण मुमकिन आहे अं सिंधी भाषा खे जियरो रखण डुखियो कोन आहे।

06 June 2016

जवाबदार केर ?

असांजे ग्रुप "सिंधियत जो संसार " में आगरा जे श्री रामचंद छाबरिया ग्रुप जे नियमन जे खिलाफ हिंदीअ जी हिक इमेज पोस्ट कयी जहिं में ईसाईन , मुसलमान अं सिखन जे पहिंजी बोली अचण सबब पहिंजा धर्म ग्रन्थ पढ़ी सघण अं हिंदुन जे संस्कृत न अचण सबब वेद न पढ़ी सघण बाबत विचार हो। इन पोस्ट जे जवाब में जयपुर जे श्री गिरधारीलाल मुल्तानी जन लिखियो
What abt sindhis ? Chha sindhi pahinje ghar me pahinje family members sa sindhiya me galaenda aahin ? First think of ourselves then for others.
इनजो जवाब डीन्दे रामचंद जन लिखियो
सिंधी बि देवनागरी न था पढ़ी सघनि ईहा बि वडी_ खेद जी गा_ल्हि आहे।

हिन मुहिंजे दिमाग में कुछ सवाल पैदा किया छो जो मुहिंजो सोचियिल समझियील पको विचार आहे त का बि भाषा तेसी तायीं जियरी रहन्दी आहे जेस तायीं उनजो वापर थींदो रहन्दो आहे अं भाषा जे वापर वास्ते उन भाषा लाय मुफीद माहोल हुअण ज़रूरी आहे।
[१] जे असां जा नंढा सिंधीअ जो वापर न था कन त डोहारी केर असां या असां जा नंढा ?
[२] सिंधी गल्हियायिण कहिं बंद कयी आ असां या असांजे नंढन ?
मुखे याद अचे थो अटकल हिकु साल अगु उतर भारत जे हिक शहर मां हिक सजण जो फ़ोन आयो हो। हू मूं सां सिंधियिन अं सिंधी बोली बचायिण बाबत गालिहायिन पिया। ओचते मूं बुधो "तुमसे कितनी बार कहा है बेटा जब मेरी इम्पोर्टेन्ट फ़ोन चल रही हो तो मुझे डिस्ट्रब मत किया करो " हू सजण शायद त पहिंजे पोट्रे खे पिया चवन।
[३] हाणे सवाल आहे त जे सिंधीअ वास्ते मुफीद माहोल कोन आहे त उन वास्ते केर जवाबदार आहे ? असां , असां जा वढा या असां जा नंढा ?

03 May 2016

सिंधी एकता छो न आहे ?
१] असां हर हंद थोरायिअ में आहियूं।
२] तमाम थोरा सिंधी सियासत या सामाजिक कमन में बहरो वठन था।
३] जन्मजात रुख या लाडे [Attitude] सबब हर सिंधी सभ खां वधीक कामयाब थियण चाहे थो नतीजे तौर असां जो मुकाबिलों [ जिते बि को बियो सामुहुँ हुजे उते सिंधी खटे थो ] कहिं बिये सां न पर हिक सिंधीअ सां थिये थो।
४] असां सिंधी कल या सुभाणे जे बदरां अजु खे तमाम घणी अहमियत डियूँ था।
५] धंधे में बेमिसाल कामयाबी हासिल करण खां पोय बि असां सिंधियन में नतीजे वास्ते सबुर करण जो मादो घटि आहे।