Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

वकतसिर

advertise here

Advertise Here

Before you start reading my poems in Sindhi language one thing I wish to make very clear that I was student of Science and worked as teacher of same subject. I am not making a claim that there are no grammatical short comings in my poetry in Sindhi language.  Experts of language of requested either to avoid or write me where the correction is required.

S.P.Sir Kolhapur
01 June 2016 

जन्माष्टमी – 22 Aug

जन्माष्टमी जो डिहूं पियारो दही मखण वारो आहे
मारिण कंस मामा खे वठी अवतार कृष्ण आयो आहे
वठी जन्म देवकी घर यशोदानंदन आ नावं रखायो
गोपिन सां रास लीला जग खे सिक जो संदेशो आहे।
जन्माष्टमी जो डिहूं पियारो दही मखण वारो आहे।।

पूतना खे हिन मारियो हो कियो हो कालिया मर्दन
गोकुल जी हर घिटी घर मां चोराये खाधो मखण
खणी गोवरधन आँगुर ते थियो इंद्र जे मुकाबिल
बंसी वारो मोर मुकुटधारी नालो हिन जो आहे।
जन्माष्टमी जो डिहूं पियारो दही मखण वारो आहे।।

मथुरा में मारे कंस खे बोझु धरतीअ जो घटायो
बलराम जो आहे भाउ इहो मोहिणी मूरत वारो
जो वसे आज़ाद सचल जी दिल में सांवरी सूरत वारो आहे।
जन्माष्टमी जो डिहूं पियारो दही मखण वारो आहे।।

वर ड़े मुखे

घुरां थो मां ड़े वर तूं मुखे
गोपिन संग तो रचायी रास लीला
मुहिंजो हर दोस्त सजण सदा खुश रहे
खाधो घणो तो दही मखण
घर मुहिंजे अचण वारे खे खाधो सदा मिले।
घुरां थो मां ड़े वर तूं मुखे।।

खणी गोवरधन आंगुर ते तो ग्वालन खे बचायो
छट्रू पीउ जो सदा मुहिंजे मथां रहे
माणियो तो लाडु सिक देवकी यशोदा जी
हथु माउ जो सदा मुहिंजे मथे ते रहे।
घुरां थो मां ड़े वर तूं मुखे।।

चुराये कपडा गोपिन जा तो मर्यादा समझायी
मुहिंजे कुटुंब जो हर भाती हद अंदर रहे
मारे कंस खे कटिया पाप तो
मुहिंजे घर सदा धर्म कर्म जो वासु रहे।
घुरां थो मां ड़े वर तूं मुखे।।

रखी निहुँ राधा सां तो प्रेम जी अहमियत समझायी
रहे कायम सिक तो सां न नितनेम मुहिंजो टूटे
छड़े मथुरा वसाये द्वराका तो शांती सन्देश डिनो
नावं जपीन्दे तुहिंजो आज़ाद सचल सुख सां जिये मरे।
घुरां थो मां ड़े वर तूं मुखे।।

टीजड़ी – 20 Aug

न समझ में आयो इहो छो चयबो आहे
डींहु टीजड़ी जो सुहागिणिन जो आहे
बराबर डींहं इन जी अहमियत खास आहे
पर सुहागीण जो त हर डिंह सुहाग तां घोरियल आहे।
डींहु टीजड़ी जो सुहागिणिन जो आहे।।

डिये सज़ी हयाती सुहाग जे घर बाऱ खे
रखे सदा ख़ुशीअ जो माहोल परिवार में
पंहिजन दुखन दर्दन जो न रहंदो अहसास आहे
न थिये नाखुश को कुटुंब में बस इहो खियाल आहे।
डींहु टीजड़ी जो सुहागिणिन जो आहे।।

उथी प्रभात जो अजु हुन खे असुर करणो आहे
रचाये मेहँदी हथन में सुख सुहाग जो घुरिणो आहे
आसमान अजु आज़ाद सचल जी ख़ुशीअ जी हद आहे
विरुत हुन खे सुहाग सलामतीअ वास्ते रखणो आहे।
डींहु टीजड़ी जो सुहागिणिन जो आहे।।

थधिडी / थदड़ी – 22 Aug

थधिड़ीअ जो डिणु आहे पियारो
सभनी डिणन में आहे नियारो
सावण में इहो ईन्दो आहे
खणी मीठी कोकी लोलो चहिरो लूण वारो।
थधिड़ीअ जो डिणु आहे पियारो।।

चुलिह न इन डिहूं बरन्दी आहे
खाधो थधो खायिबो आहे
थिये माता जी पूजा इन डिहूं
ठार माता ठार जो लगे नारो।
थधिड़ीअ जो डिणु आहे पियारो।।

विरुत जो रखन्दो हिन डिहूं आहे
माता सीतला खे पूजीन्दो आहे
आज़ाद सचल वांगुर थीन्दो उहो खुशहाल आहे
बाहि न क्रोध जी सताये खिल ख़ुशीअ जो मिले सहारो।
थधिड़ीअ जो डिणु आहे पियारो।।

आज़ादीअ जो परचम – 15 Aug

आज़ादीअ जो परचम अजु शान सां लहिरायो
आहे भारत सिरमौर दुनिया जो सभनी खे बुधायो
हुओ माज़ी असां जो, मुस्तकबिल बि असां जो आहे
करे सिर मथे फ़खुर सां पाण खे भारतीय सड़िरायो।
आज़ादीअ जो परचम अजु शान सां लहिरायो।।

सदियिन खां भारत डिनो आ ग्यानु दुनिया खे
डिनी बुडी आर्यभट्ट त थियो तकनीकी वाधारो
कंप्यूटर जी हर गालिह में आ, राजीव मोटवानी जो हथु सघारो
करे आवाज़ बुलन्द अजु सभनी खां वन्दे मातरम चविरयो।
आज़ादीअ जो परचम अजु शान सां लहिरायो।।

चवे आज़ाद सचल थो न विसारियो गाँधीअ जी अहिंसा खे
वधाये वणटिण गुल फुल कियो कुदरत खे बि सघारो
थिये तरकी हर खेतर में, हुजे नाज़ सदा वतन ते
रही साफ़ पाण, बियन खे बि सफायी सेखारियो।
आज़ादीअ जो परचम अजु शान सां लहिरायो

मुहिंजो अदो

साल में हिकु डिहूं अहिड़ो बि ईन्दो आहे
याद पेकन जी मुखे बेहद ईन्दी आहे
न करे सघन सबुर मुहिंजियूं अखियूं
गोड़हन जो मींह पवन्दो आहे।
साल में हिकु डिहूं अहिड़ो बि ईन्दो आहे।।

वकत जे किताब जा सोना वरक मां पलिटाये डिठो
थिया नाराज़ बाबा मूं सां अमां बि डिना गालहव
हुओ इहो मुहिंजो मिठडो अदल
जो खणी आथत जो जल आयो आहे।
साल में हिकु डिहूं अहिड़ो बि ईन्दो आहे।।

थी शादी आयम साहुरे पेके जा सभु अंगल विसारे
खणी खबर सुख दुख जी हर डिण ते अदो ईन्दो आहे
खबर न आहे छो अजु राखीअ डींहं बि न पहुतो आहे
चवे आज़ाद सचल जीवन जो इहो अफसानो आहे।
साल में हिकु डिहूं अहिड़ो बि ईन्दो आहे।।

दिल जी हार्ड डिस्क – 05 Aug

दिल जी हार्ड डिस्क ते
तुहिंजो मेसेज सेव कियो आ।

लिखियो तो रैम ते
मोकिलियो व्हाट्सएप्प ते
मूं रखण वास्ते उन खे संभाले
विझी पेन ड्राइव में रखियो आ।
दिल जी हार्ड डिस्क ते
तुहिंजो मेसेज सेव कियो आ।।

चयो हो तो, रखां फोन जी मेमरीअ में
पर व्हायरस जे चोराईण जो भउ आ
डेखारी जो कहिं कॉपी पेस्ट जी करामात
मेसेज वायरल थियणो आ।
दिल जी हार्ड डिस्क ते
तुहिंजो मेसेज सेव कियो आ।।

न विसारजायां कडहिं पासवर्ड
इहो न वरी मिलन्दो आ
थी वेन्दी आ लाचार सजी तकनीक
अकॉउंट बंद करणो पवन्दो आ।
दिल जी हार्ड डिस्क ते
तुहिंजो मेसेज सेव कियो आ।।

फोन पहिंजे खे न फॉरमेट कजायं
पहिंजी डिलीट करण जी आदत खां
मुखे सदा बचाये रखिजायं 
डिलीट थी आज़ाद सचल न रिकवर थियणो आ।
दिल जी हार्ड डिस्क ते
तुहिंजो मेसेज सेव कियो आ।।

तुहिंजो अचण – 05 Aug

तुहिंजे अचण सां सजी दुनिया महकी पयी
घुरी हुयी ख़ुशीअ जी झलक, झोली भरजी वयी
कयो नेणन हो इन्तिजार केतिरिन सालन खां
तुहिंजे अचण सां मुहिंजी किसमत बदिलजी वयी।
तुहिंजे अचण सां सजी दुनिया महकी पयी।।

आयें जो तूं, खुशियूं काहे पुठियां आयूं
न तन्हा रही का कुंड, मिलन पयूं हर हन्दा वाधायूं
अबोध मूर्क तुहिंजी, मोहियो मनु सभनी जो
मुये पोय जियण जी, मुखे खातरी मिली वयी।
तुहिंजे अचण सां सजी दुनिया महकी पयी।।

हलु पकडे आँगुर मां हलण तोखे सेखारियां
दुनिया जी चंगायिन मंदायिन सां वाकफियत करायां
डिसंदो जमानो तोमें हिक डींहुं अक्स मुहिंजो
चवंदो आज़ाद सचल जे ख्वाबन खे तसवीर मिली वयी।
तुहिंजे अचण सां सजी दुनिया महकी पयी।।

मींह मारियो – 11 Jul

मींह मारियो मुखे , मींह मारियो आ
डयी सडु असां मौत खे पाण घुरायो आ
न रही सावक वण टिण सभु कटजी विया
सीमेंट कांक्रीट जो जंगल असां अड़ायो आ।

आमदरफत् खपे तकड़ी , रोड हुजन वेकिरा
रहण जी हुजे आज़ादी , घर हुजन वडा वडा
करे नासु सभु जंगल
असां नओं शहर वसायो आ।

शहर में रहण जे मोह में फाथो हरको पियो आ
करें खेत सभु वीरान कारखानन पुठियां पियो आ
बिना जाब्ते  कटे वण
आज़ाद सचल पेर कुहाडे हन्यो आ।
मींह मारियो मुखे , मींह मारियो आ।।

होली जो मज़ाक – 21 Jul

होलीअ डींहुं हुन मूं सां मज़ाक कयी हुयी
करे वायदो बि हुअ फिरी वयी हुयी
इन्तिज़ार में सजी रात गुजरी वयी
लगी जो अखि प्रभात वेले, हुअ अची मोटी वयी।
होलीअ डींहुं हुन मूं सां मज़ाक कयी हुयी।।

रंग गुलाल अबीर सभु रखियिल रहजी विया
दिल जे अरमानन में न रंग भरजी सघिया
आज़ाद सचल त दिल खे समझाये कियो सबुर
पर मुहोबत मुफ्त में बदनाम थी वयी।
होलीअ डींहुं हुन मूं सां मज़ाक कयी हुयी।।

रही ज़िन्दगी त होलीयूं बिये बि ईंदियूं
मुरझायिल कलियुं अरमानन जूं वरी टिडन्दियूं
न आ कबूल मुखे इलजाम गफलत जो
छा इहा गालिह कहिं अग में न कयी हुयी।
होलीअ डींहुं हुन मूं सां मज़ाक कयी हुयी।।

व्हाट्सएप्प – 5 jun 2016

व्हाट्स एप्प अजु हर दिल अज़ीज़ आ
हर हथ में मोबाइल ऐं नज़र झुकियिल आ
छ थियो जे घरवारी आ बीमार, वेन्दी पाण डॉक्टर वट
मुडस त व्हाट्स एप्प ते बिजी आ।
व्हाट्स एप्प अजु हर दिल अज़ीज़ आ।।

न था वञन माउ पीउ , स्कूल बार जे
रिजल्ट अचे थो हाणे, एस एम एस ते
सुरग में ठहियिल जोड़ा, बि मिलन इंटरनेट ते
वक़्त आन्दी ,इहा वडी तबदील आ।
व्हाट्स एप्प अजु हर दिल अज़ीज़ आ।।

सुबह जो चाँहि ऐं अख़बार
जियो पिया कहिडे ज़माने में
छा सोचिणो छा समझिणो ,
बस आज़ाद सचल खे फॉरवर्ड करणो आ 
वक़्त जी मारामारी जे दौर में ,
अजु खाली केर आ।
व्हाट्स एप्प अजु हर दिल अज़ीज़ आ।।

सर पगडियिन जी बि खबर, हाणे इंटरनेट थो डिये
नियापन फोनुन जो , न रहियो दौर आ
आन्दो आ द सिंधु वर्ल्ड बि, सुख दुःख एप्प
भारत जे सिंधियिन खे , जोड़िण ते ज़ोर आ।
व्हाट्स एप्प अजु हर दिल अज़ीज़ आ।।

घर आयी – 19 Jul

नओं जन्म मिलियो मुखे नियाणी घर आयी आ
सम्भालीन्दी घर हिक डीहुं भावरन जी दुलारी जायी आ
थींदी जा हमराह हमदर्द मुहिंजी
सा सखी साहिडी आयी आ।
नओं जन्म मिलियो मुखे नियाणी घर आयी आ।।

चण्ड कलाउन जियाँ वधन्दी
रंधणे में मूं सां गालिहियूं कन्दी
बुधाईंदम जहिं खे सभु सुख दुःख पहिंजा
सा मुहिंजी साथी आयी आ।
नओं जन्म मिलियो मुखे नियाणी घर आयी आ।।

वेन्दी घोट घर हिक डीहुं
नओं संसार वसायीन्दी
अीन्दी छट छहमाहीअ जा पोय
खणी पाण सां लहर ख़ुशीअ जी , आज़ाद सचल जे घर जायी आ।
नओं जन्म मिलियो मुखे नियाणी घर आयी आ।।