Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

स्वामी शान्तीप्रकाश

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – सतगुरु स्वामी शान्ती प्रकाश

प्रेम प्रकाश मंडल - फेमस सिंधी संत - उल्हासनगर  

shantiprakash01प्रेम प्रकाश मंडल जे टियें अध्यक्ष सतगुरु स्वामी शान्ती प्रकाश जन जो नालों ई इन्सान खे दुखन जे अंधकार मां कढ़ी शान्ती अं सुखन जी रोशनीअ डान्हुँ वठी वेन्दड आहे छो जो शान्ती मतलब बिना चिंता वारी हालत अं प्रकाश मतलब रोशनी आहे। स्वामी जन सिंध जे सखर जिले जे चक गोठ में रहन्दड आसुदोमल पोहुजा जी पुट्र जे रूप में १९०७ में थियो हो अं सदन नालो खैराजमल रखियो वियो हो।

खैराजमल जे स्कूली पढ़ायी जे दौरान [हू चौथें दरजे में हो ] चक इलाके में चेचक जी बीमारी फैलजी वयी अं इन बीमारी जो शिकार बणी हू अखियिन जी रोशनी विञांये वेठो। इलाज कन्दड डॉक्टरन जो चवण हो त अखियिन जी रोशनी वापस अचण जो को इलाज कोन आहे। पिता आसुदोमल बालक खैराज खे सिंध जे मशहूर संत साईं हरचुराम साहिब वट शाहपुर थलहो आयो अं संतन खे बालक जी अखियिन जी रोशनी बाबत अर्जु कियायीं अं बालक खे उते रही सतं जी सेवा करण वास्ते चयायीं। टिन सालन खां पोय आसुदोमल वापस संत वट आयो अं हिकु भेरो वरी अर्जु कियायीं हिन भेरे साईं हरचुराम जवाब डीन्दे चयो "बालक जी अखियिन जी रोशनी जी चिंता न कर हीउ वढो थी हज़ारे लखन खे रूहानी राह डेखारिन्दो अं सिंध जे मशहूर संतन में शुमारियो वेन्दो। " अजु साईं हरचुराम जा लफ्ज़ हिक हकीकत आहिन छो जो इहो बालक वढो स्वामी शान्ती प्रकाश बणियो।

स्वामी टेऊँराम सां मुलकात थियण ते खैराजमल गुरु मन्त्र डियण वास्ते वेनती कयी तहिं ते स्वामी जन हिन खे पाण सां तण्डो आदम जे अमरापुर आश्रम में वठी आया। आश्रम में रहन्दे हू न सिर्फ स्वामी जन जी पर साधु संतन महात्माउन अं रुहानी शक्तिन जे मालिक सुफियिंन [जेके वक़्त ब वक़्त आश्रम में पिया अीन्दा हुआ] जी बि सेवा करण लगो। हिन जी सेवा सां खुश थी स्वामी जन हिन खे नवों नालो शान्ती प्रकाश डिनो अं संदस धार्मिंक सिखिया ते खास ध्यान डियण लगा।

अटकल टे साल हरिद्वार में रही शास्त्रन अं उपनिषदन जो अभ्यास ज करण खां पोय शान्तिप्रकाश जन श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जो अभ्यास करण वास्ते अमृतसर आया।  हिते स्वामी जन खे गुरबाणी जी सिखिया डीन्दड ज्ञानी हमीरसिंह बि हिनन जी यादगिरी जो कायिल थी पियो छो जो सिर्फ हिकु भेरो ई बुधण सां स्वामी जन खे गुरबाणी शबद, सिलोक अं उन्हन जो अर्थ याद थी पियो वञें।  धर्म ग्रन्थ्न जी सिखियाउन जो ज्ञान हासिल करे स्वामी जन वापस तण्डो आदम आश्रम आया अं स्वामी टेऊँ राम अं संत उद्धव दास सां गडु संध जे अलग अलग शहरन गोठन में सत्संग वास्ते दौरा करण लगा। 

मुल्क जे विरहांगे खां पोय स्वामी शान्ती प्रकाश उल्हासनगर खे पहिंजी धर्मिक तोड़े सामाजिक मशगुलीन वास्ते चुँडियो अं उते स्वामी टेऊँराम प्रेम प्रकाश आश्रम बरपा कियो। थोरे ई वक़्त में आश्रम देश विदेश जे हजारें श्रद्धालुन वास्ते हिकु तीर्थ स्थान बणजी पियो अं अजु बि तीर्थ स्थान आहे।  विरहांगे सबब सिंधी कौम मुख़्तलिफ़ किसमन जे दुःख दर्द अं तकलीफुन खे मुहँ डयी रही हुयी इन करें स्वामी जन समाज सुधर जे कमन वास्ते जनता जनार्धन परिषद हिकु सामाजिक ट्रस्ट बरपा करण सां गडु बुढा आश्रम, गरीब कुटुंबन खे नियाणीअ जी शादी वक़्त माली मदद, एजुकेशनल स्कॉलरशिप जहिडा केतिरा कम शुरू किया अं उल्हासनगर आश्रम सिर्फ हिक धर्मिक जगह न रही इन्हन सामाजिक कमन जो मरकज़ बि बणजी पियो।

मशहूर सर्जन पदम श्री डॉ एम सी मोदी -जेको आश्रम जे अखियिन जे ऑपरेशन जे बिन कैम्प्स में अची चुको हो - जो चवण हो "मां हिते ऑपरेशन करण न पर स्वामी शान्ती प्रकाश जी आसीस वठण वास्ते अीन्दो आहियां जेको इंसानन जे दिमाग जो ऑपरेशन करे सन्दन ज़िन्दगीअ में रूहानी रोशनी जगाये दिलीन खे इन्सानियित जी सेवा करण जी भावना सां भरे छड़े थो।  स्वामी जन मुखां बि वडा सर्जन आहिन छो जो मां ऑपरेशन वसीले इंसान खे सिर्फ डिसण जी सलाहियत डियण जी कोशिश कियां थो पर स्वामी जन त इन सलाहियत जो हकीकी अं सच्चो उपयोग करण सेखारिन था। " 

हिते मां पहिंजो आजमुदो बि बुधायिण चाहिन्दुम इहो शायद त १९८३-१९८४ जो साल हो जो स्वामी शान्ती प्रकाश जन गांधीनगर कोल्हापुर आयल हुआ। मुहिंजे मन में इच्छा जागी त स्वामी जन असांजे घर अची नरेन् कन हर कहिं जो चवण हो त असांजे कुटुंब में नॉन वेज खाधो वापिरायो वेन्दो आहे सो इहो मुमकिन कोन आहे पर मां रिवयातुन अं श्रद्धा जी इन जंग जो विचार छड़े स्वामी जन जे रहण जे स्थान स्व. काके राधोमल वधवा जे घर वियुम। बियो डीहुं श्रद्धालुन वास्ते अज़ब वारो हो जो स्वामी जन सुबह जो जहिं घर सभ का अगु विया सो असांजो घर हो ऐतिरो ई न पर स्वामी जन असांजे घर सभ खां वधिक वक़्त तायीं रहिया चाहे उन्हन नरेन् कोन कयी पर पलव पाये रन्धणे में छण्डो हणी आया। 

स्वामी जन बियन केतिरन संतन वांगुर सिर्फ आध्यात्मिक गुरु न पर समाज सुधारक पिण हुआ। उल्हासनगर में स्वामी सर्वानंद हॉस्पिटल, नारी शाला अं बाल मंदिर हलायिण वारी संस्था सूंदर सेवक सभा जो अध्यक्ष हुअण सां गडु स्वामी जन श्री राधेश्याम गौ शाला अं स्वर्गधाम शमशान भूमी जा बि अध्यक्ष हुआ।

सिंगापूर वेन्दे १५ अगस्त १९९२ ते हवाई जहाज में अमृत वेले असुर जे ४ बजे स्वामी जन जो स्वर्गवास थियो। आम तौर स्वामी जन श्रद्धालुन सां गालिहाईंदे अं आसीस तौर "सतनाम साखी" अं "जय श्रीकृष्ण " इन्हन लफजन जो वधीक इस्तेमाल कन्दा हुआ।