Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

नारायण श्याम

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – नारायण श्याम

फेमस सिंधी कवी - नारायण गोकुलदास नागवानी - अकैडमी अवार्ड
सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल 06 सिंधी अदीब 1970

narayan_shyamसिंधी बोली ऐं साहित जे विद्वानन ऐं नकादन [खूबियुं ऐं खामियिन बुधाइन्ड] जो नारायण श्याम बाबत आम रयो हो त शाह साहिब खां पोय हू वाहिद नज़्मकार आहे जहिंजो भाषा तोड़े इज़हार बिन्ही ते पूरो पूरो जाब्तो त आहे ई पर हु न सिर्फ सिंधी पर फ़ारसी जे अखरन जो बि सागर हो।

नारायण श्याम जो जन्म सिंध जे नवाबशाह जिले में रहन्दड दीवान गोकुलदास ऐं जमुनादेवी जे घर २२ जुलाई १९२२ ते थियो हो। हिन बालपणे खां ई आज़ादी वास्ते थियन्दड हलचलुन खे तेज थींदे डिठो।  १९४७ में जहिं वक़्त मुल्क जो विरहांगो थियो तहिं वक़्त नारायण पहिंजे गोठ जे स्कूल में फ़ारसी [पर्शियिन] जे मास्तर तौर नौकिरी करे रहियो हो ।

विरहांगे खां पोय भारत अची नारायण श्याम मुंबई यूनिवर्सिटी मां संदस अधूरी रहियिल बी ए जी पढ़ायी पूरी कयी। जल्द ई हिन खे पोस्ट अं टेलीग्राम खाते में अकाउंट सेक्शन में कलर्क जी नौकरी मिली। नौकरी कन्दे बि हिन नज़्म लिखण शुरू रखियो। जडहिं नारायण श्याम पहिंजे अदबी सफर जी शुरुआत कयी हुयी त हू संकीदकारन [खूबियुं ऐं खामियिन बुधाइन्ड] जो दुलारो हो।  भारत में अचण खां पोय त हुन जी लेखणी जी भाषा ऐड़ी त सवली थी वयी जो हू आमु माणुहुन जो पसंददीदा कवी बणजी पियो। 

नारायण श्याम जो १९५३ में छपियिल पहिरियों किताब "माक फुडा" अकेले सिर पहिंजो लिखियिल न पर हरी दिलगीर सां गडु लिखियिल हो।  १९८८ में छपियिल ब किताब दाति अं हयात भांगो १  अं  २ नारायण श्याम जा लिखियिल आखिरी किताब साबित थिया, छो जो १० जनवरी १९८९ ते दिल्ली में हिन जो स्वर्गवास थियो।  पहिंजे ३५ सालन [१९५३ -१९८८] जे साहितिक सफर में नारायण श्याम फ़क़्त ११ किताब लिखिया पर हिन जो लिखियिल हिकु हिकु लफ्ज़ ऐं नज़्म जी हर हिक सिट बेशकीमती आहे।  मां हिते नारायण श्याम खे जहिं किताब "वारीअ भरियो पलांद " वास्ते १९७० में सिंधी सहित अकैडमी अवार्ड मिलियो हो तहिं "वारीअ भरियो पलांद " मां फ़क़्त चार सिटूं शामिल कियां थो : - 

सारो डींहु कन्दा रहिया
बार नन्दीअ भर रान्द
सांझी महल छड़े उथिया
वारीअ भरियो पलांद।।

१९८० में नारायण श्याम हैड क्लिरक  पोस्ट तां रिटायर करे दिल्ली में रहण लगो हो।  पहिंजी सरकारी नौकरी ऐं साहितिक कम खां सिवाय हू १९७८ खां १९८७  तायीं साहित अकैडमी सां बतौर कन्वीनर जुडियिल रहियो हो।  

नारायण श्याम – अदबी सफरनामो – छपियिल किताब

नारायण श्याम जे छपियिल किताबन जी लिस्ट

१९५३ - माक फुडा [हरी दिलगीर सां गडु ]
१९५५ - पंखडियूं
१९५७ - रंग रति लहर
१९६२ - रोशन छांवरो
१९६४ - माक बिना रबेल
१९६८ - वारीअ भरियो पलांद [अकैडमी अवार्ड ]
१९७२ - आछींदे लज मरां
१९८३ - महकी वेल सुबह जी
१९८७ - न सो रंगु न सा सुरहं
१९८८ - दाति अं हयात भांगो १ अं २