Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

प्रभु वफ़ा

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – प्रभु वफ़ा

प्रभु जोतुमल छुगानी - फेमस सिंधी कवी - पंजकडा
सिंधी साहित्य अकादमी अवार्ड सां नवाजियिल 15 सिंधी अदीब 1981

prabhu_wafaबियन भाषाउन वांगर सिंधी भाषा में बि नज़्म ग़ज़ल, गीत, बैत, रुबाई वगैरह जहिडियिंन रिवायती हिसन या किसमन जो मेड आहे। दर असल जहिं खे नज़्म चयजे थो सा शख्स जी भावनाउन जो उफान आ जेको हिक रिथायते नमूने लिखियिल लफ्ज़ आहिन। सिंधी नज़्म में फेमस सिंधी कवी प्रभु वफ़ा भावनाउन जे इन उफान खे ज़ाहिर करण वास्ते लफजन जी हिक नयी रिथा या तरतीब खे आन्दो जहिं खे हुन नालों डिनो "पंजकडा। "

पंजकडा हिक पंजन सिटीन वारी तरतीब आहे प्रभु वफ़ा मुजीब पजकडन में ग़ज़ल जो मिठो नरम अं मलमली अहसास त आहे ई पर गडोगडु रुबाईअ जी उन्हायी बि शामिल आहे। १९८० में छपियिल प्रभु वफ़ा जे किताब "सुर्ख गुलाब अं सुरहा ख्वाब " में पंजकडन जो बाखूबी इस्तेमाल थियिल हो अं इन किताब वास्ते १९८१ में प्रभु वफ़ा खे सहित अकैडमी अवार्ड सां नवाजियो वियो हो।

प्रभु वफ़ा जो जन्म १९ सितम्बर १९१५ ते लाड़काणे में थियो हो उन्हन डीहंन में इहो शहर गायीन्दड पखियिन जे घर तौर मशहूर हो। १९३० में सिंधी अदब जा मशहूर नाला नियाज़, महमूद खादिम अं अली मोहमद कादरी वगैरह हिक मुशायिरे में शरीक थियण वास्ते लाड़काणे में आया हुआ। इहे सभु मोतबर शायर हिक पंदरहन सालन जे छोकरे खे मुशायिरे में ग़ज़ल पेश कन्दो डिसी अज़ब में पयजी विया हू सभई हिन छोकरे जी सलाहयतुन अं काबलियित जा कायिल थी विया। इहो छोकरो बियो केर न पर प्रभु वफ़ा हो। मुंबई यूनिवर्सिटी मां १९३८ में प्रभुअ ग्रेजुएशन पूरो कियो उन खां अगु जी तैलिमि सिखिया हुन लाड़काणे जे सरकारी स्कूल अं कराची जे डी जे सिंध कॉलेज में हासिल कयी हुयी। 

अंग्रेजी जी हिक चवणी मूजिब सुठी शुरुआत  मतलब थींदो आहे अध कमु पूरो थियण। बेमिसाल सिंधी कवी प्रभु वफ़ा जे साहितिक जीवन जी शुरुआत उन इत्तफ़ाक़ या हंद ता थी जिता हू तरकीअ जी राह ते अगते वधण में का बि मुश्किलात महसूस कोन करे।  जे प्रभु जे बालपणे जो ध्यान कजे त प्रभु जे सिंधी नज़्म जे हिन बेमिसाल चाह जो सबब समझ में अचण डुखियो न आहे।  हिन जो पिता दीवान जोतुमल ज्ञानचंद छुगानी पेशे खां वकील हूंदे बि शायरी जो दीवानों हो सिंधी नज़्म लाय त हुन जे प्यार जी हद ई कोन हुयी।  मतलब घर जो माहोल शेरो शायरी अं सिंधी नज़्म लाय मुफीद हो हाणे जे अहिडे माहोल में पलियिल निपायिल प्रभु हिकु अज़ीम कवी बणियो त कहिडे अज़ब जी गालिह आहे।  

छुगानी कुटुंब नियम सां साल में ब भेरा मशहूर सूफी संत, वेदांत जे माहिर अं हरदिल अज़ीज़ कवी "रोहल फ़क़ीर " जी दरगाह ते वेन्दो हो।  इन इत्तफ़ाक़ प्रभु खे सूफिज्म जी हकीकी मायना समझण में मदद कयी।  हुन खे इहो बि समझ में आयो आमु इंसान आयिन्दे बाबत कहिडो विचार करें थो।  इन आजमूदे प्रभु खे पहिंजी कविता में आम माणुहुन जी भावनाउन जा रंग भरे हर दिल अज़ीज़ अं कामियाब कवी थियण में मदद कयी। 

सिंधी अदब जा विद्वान् प्रभु जूं लिखियिल कविता / नज़्म जी साराह करण सां गडु मुशायरन में पढ़हण लगा अं हिन जा लिखियिल गीत रेडियो ते बि बुधिया वञन लगा। प्रभु जो भाउ रतन अं भेण कमला जलसन में प्रभु जा लिखियिल गीत गायीन्दा हुआ।  साल १९४२ में हिन जी शादी सुधा सां थी।

इहा प्रभु जी लेखणी जी तासीर हुयी जो संदस शहर लाडकाणे जा अज़ीम शायर किशनचंद बेवस अं राष्ट्रिय कवी हूंदराज दुःखायिल बि प्रभु जा मुरीद थी पिया।  हरी दरयानी "दिलगीर " जे अखरन में के विरला आहिन जिन जी भेट प्रभु जे सिंधी नज़्म खे डिनिल योगदान सां करण मुमकिन आहे।  प्रभु जी कविता में संदस सिंधी भाषा वास्ते प्यार त  आहे पर हिनजे खियाली तसवुरअ जो को सानी कोन आहे। 

१७ दिसंबर २०१२ ते मुंबई में प्रभु वफ़ा जो स्वर्गवास थियो। 

 

प्रभु वफ़ा – अदबी योगदान [लिखियिल किताब ] अं अवार्ड

सिंधी साहित खे प्रभु वफ़ा जो पजकडन जे रूप में डिनिल योगदान सदियिन तायीं याद रखियो वेंदो। हित असां प्रभु जे लिखियिल कुछ चूंड किताबन जी लिस्ट अं सिंधी साहित अकैडमी अवार्ड खां सिवाय किन थोरन तमाम वधीक अहमयित वारन अवार्ड खे शामिल कयूं था।

प्रभु वफ़ा जा लिखियिल किताब

Sij Lahan Te Aah [1999]
Aaeena Ain Aksa [1994]
Tun Saagar Maan Leher [1993]
Maan Azal Ji Uunj Aahyan [1990]
Surkh Gulab Ain Suraha Khwab [1980]
Parwaaz [1962]
Jhankaar [1958]

प्रभु वफ़ा खे मिलियिल अवार्ड

A. J. Uttam Award (Akhil Bharat Sindhi Boli Ain Sahat Sabah Jaipur) : 2007
Life Time Achievement Award (Sindhi Academy of Delhi) : 2004
Life Time Achievement Award (Priyadarshini Academy) : 1998
Life Time Achievement Award (Maharashtra Sindhi Sahitya Academy) : 1992
Maharashtra Gaurav Puruskar : 1990