Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

आशा चांद

advertise here

Advertise Here

आशा चांद :: बायोग्राफी

सिंधी भाषा - सिंधी कविता - फेमस सिंधी - सिंधी साहित्य 

asha_chand1आशा चांद जो जन्म 23 मार्च 1951 ते मुंबई में , सिंधी साहित्य जे अजीमोशान जोड़े, श्री ऐ जे उतम [सिंधी साहित्य जो इनसायकिलोपीडिया ] ऐं सुंदरी उतमचंदाणी [सिंधी साहित्य अकादमी सां नवाज़ियल ] जी धीउ जे रूप में थियो आहे।  आलमी सतह ते आशा चांद न सिर्फ नामवर सिंधी औरतुन में शुमारी पयी वञे पर सिन्धियत जी विरहासत कायम रखण ऐं सिंधी भाषा, सिंधी कविता, खास करे बारन जे बैतन जे खेतर में कौमी नुमाइन्दे जो दरिजो रखे थी।  आशा चांद जे इरादन जी मज़बूती सबब खेस "Iron Sindhi Lady" जे लक़ब सां बि नवाज़ियो वियो आहे।

जीयं त आशा चांद जा माउ पीउ बयी सिंधी साहित्य जूं नामवर शख्सियतूं आहिन सो घर जे माहोल हेठ आशा में सिंधी साहित्य ऐं सिन्धियत जे विरसे लाय हुब ऐं कशिश पैदा थियण का गैर कुदरती गालिह न आहे।  बालपणे जी इन्ही कशिश उमिर सां वधी जुनून जो रूप अख्तियार कियो आहे।  आशा खुशनसीब आहे जो माउ पीउ संदस पढ़ायी बाबत पूरी पूरी खबरदारी वरती ऐं खेस अहिड़ो माहोल डिनो जो हुअ न सिर्फ मुंबई जे जय हिन्द कॉलेज मां सिंधी में एम.ए. करे सघी पर गडोगडु सिंधी संगीत, डांस ऐं ड्रामा जी बुनियादी सिखिया बि हासिल करण में कामियाब थी।  

पढ़ायी पूरी करण खां पोय आशा चांद बैंक ऑफ़ इंडिया सां जुडी बैंकिंग ऐं फाइनेंस जे खेतर में कमु करण शुरू कियो पर थोरे ई अरसे में खेस पहिंजी रूह जी बेआरामी जो अहसास सतायिण लगो। खेस इहो महसूस थियो त संदस ज़िंदगी जो मकसद हीउ खेतर न आहे।  खुशकिसमती सां हुअ सिंधी साहित्य जी मशहूर शख्सियतुन जहिड़ो कि मोहन गेहानी,कला प्रकाश ऐं डॉ मोती प्रकाश [सिंधी कौमी तरानो लेखियो वेन्दड़ "आंधी में जोत जगायिण वारा सिंधी" जो रचनाकार ] सां उन्ही सुञाणप वारे लागापे में हुयी।  बालपणे जे घर जे माहोल, सिखिया , जुनून ऐं हिन साहित्यकारन जे संग आशा चांद खे सिन्धियत जी महफ़ूज़ी ऐं सिंधी भाषा जे वधारे लाय ताहयाती कमु करण जे फैसले ते पहुचण में मदद कयी।

इहो बि हिकु संजोग आहे जो, धंधे जे लाडे वारी सिंधी कौम में हिक नवन विचारन वारी क्रांतीकारी औरत जे रूप में बरपा थियण वारी, आशा चांद ऐं नामवर क्रांतीकारी अमर शहीद हेमू कालानी जो जन्म सागे डीन्ह [23 मार्च ] ते थियल आहे।  1992 में आशा पहिंजी माउ सुंदरी उतमचंदाणी जी अणछपियल रचनाउन खे शाया करण जी मुराद सां जय सिंधी पब्लिकेशन शुरू कयी।  हिन पब्लिकेशन न सिर्फ सिंधी साहित्य जे शैदायिन खे केतिरन ई किताबन - जिनमें सुंदरी उतमचंदाणी जी लिखियल नंढी कहाणिन जो हिकु किताब बी शामिल आहे - जी सूखड़ी डिनी पर आशा माउ खे संदस जन्म डीन्ह ते संदस लिखियल कविताउं हिक ऑडियो सी डी जे रूप में जन्म डीन्ह जे तोफिहे जे रूप में डियण में बि कामियाब थी।  

नवन विचारन जी पुठभरायी करण वारी आशा चांद 2000 में सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जी महफ़ूज़ी वास्ते ऑडियो विजुअल मीडिया कमि आणे "सिंधी साहित्य जी त्रिमूर्ती" उनवान सां हिकु वीडियो पेश कियो।  सागे साल में दुबई जे हमखियाल सिंधियन सां मिलीकरे हुन सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जे वाधारे जे मकसद लाय कमु करण वारो NGO सिंधी संगत बरपा कियो। हुअ इहो बि महसूस करे रही हुयी त भारत जे वड़न शहरन ऐं विदेश में रहण वारन सिंधी कुटुंबन जे घरन मां सिंधी भाषा तमाम तेज़ी सां गुम थी रही आहे सो हुन सिन्धियत सां लागापो रखण वारन विंदर जे प्रोग्रामन ज़रिये सिंधी भाषा बचायिण जी कोशिश शुरू कयी।

सिंधी भाषा बचायिण जी पहिंजी नयीं तज़वीज़ खे हकीकत जो ज़ामो पहिराइन्दे 2001 में हुन मशहूर गायिका आबिदा परवीन जो बिन डीन्हन जो हिकु कार्यक्रम दुबई में रखियो।  इन शो जी उम्मीद खां वधीक कामियाबीअ संदस होसिलो वधायो। हिन वक़त तायीं आशा खे अहिड़न 15 खां बि वधीक कार्यक्रम करण में कामियाबी हासिल थी आहे छो जो हाणे अहिड़ा प्रोग्राम दुबई ऐं यू ऐ ई जे सिंधियन जे सालने कार्यक्रमन जो हिसो बणजी पिया आहिन। हिनन प्रोग्रामन जी कामियाबीअ इहो बि साबित कियो आहे त विंदर जे प्रोग्रामन वसीले नवजवान सिंधी पीढ़ी खे सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जी वाकफियत डियण जो आशा चांद जो फैसिलो गलत न हुओ।  

सिंधी भाषा जे बचाव वास्ते हुन "Let's Learn Sindhi" ऐं "Pahakas & Isthillah" जहिड़ा ऑडियो विजुअल साधन कामियाबी सां पेश किया आहिन। हिन वक़त आशा चांद सिंधी बारन लाय “Nursery Rhyme Singing competition” जहिड़े प्रोग्राम ते वधीक ज़ोर डयी रही आहे। बतोर टेलीविज़न फिल्म प्रोडूसर आशा चांद अटकल 25 नाटक ऐं फिल्म्स पेश करे चुकी आहे जिनमां केतिरा ई भारत में डी डी गुजराती ऐं डी डी इंडिया ते त सिंध में KTN चैनल ते बि डेखारिया विया आहिन ऐं सिंधी संगत जी वेबसाइट ते पिण डिसी सघजन था। भारत में टेलीविज़न ते भारत सरकार सिंधी चैनल शुरू करे इहा घुर करण वारन में अगिरी आशा चांद वेझिडायीअ में सिंधी भाषा वास्ते हिकु मोबाइल अप्प बि पेश कियो आहे।

इहा गालिह सही आहे त आशा चांद सिंधी भाषा वास्ते अरबी लिपी जी पुठभरायी करण जी सख्त हिमथायी आहे ऐं संदस अकीदो आहे त सिंधी भाषा बचायिण जी हलचल में देवनागिरी तोड़े रोमन लिपी को खास योगदान डियन इहो मुमकिन न आहे पर इहो बि सचु आहे त खेस पूरो पूरो अहसास आहे त सिंधी गालाहिण वारन जो तादाद वधायिण सिंधी भाषा बचायिण जो सभ खां बेहतर उपाय आहे। शायद त इहो अहसास ई खेस “Nursery Rhyme Singing competition” जहिड़े प्रोग्राम खे कामियाब बणायिण वास्ते घुरबल सलाहियतूं डयी रहियो आहे।     

खुशनसीब आशा चांद खे चांद पंजाबी जे रूप में अहिड़ो जीवन साथी मिलियो आहे जेको न सिर्फ सिंधी भाषा ऐं सिन्धियत जो शैदायी आहे पर इन गालिह जो बि पूरो पूरो ध्यान रखन्दो आहे त आशा जो होसिलो कायम रहे ऐं खेस सामाजिक कमन वास्ते मुनासिब वक़त मिलन्दो रहे। संदन धीउ मूमल बि माउ जो खियाल रखण सां गडोगडु संदस प्रोग्रामन में बहरो वठी माउ जी मदद कंदी आहे। 

आशा चांद जी कामियाबी में संदस कमु करण ऐं ज़िंदगी जे फलसफे "असां हिक बिये सां गैर रज़ामन्द थियण ते रज़ामन्द आहियूं " जो वडो हथु आहे छो जो इहो फ़लसफ़ो न सिर्फ खेस पहिंजे नमूने ऐं पहिंजन खियालन मूजिब कमु करण जी आज़ादी डिये थो पर गडोगडु सामहूं वारे खे नुकतचीनी जा सख्त अखर वापिरायिण खां बि रोके थो।     

असां द सिंधु वर्ल्ड डॉट कॉम कुटुंब जा भाती परमात्मा खे प्राथर्ना कयूं था, सजे भारत में सिन्धियत जे वाधारे जी पहिंजी कोशिशन वास्ते सहयोग हासिल करण जे मकसद सां घुमण वारी आशा चांद खे वधीक ऐं वधीक सोभारो कनि।