Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

जी पी सिप्पी

advertise here

Advertise Here

बायोग्राफी – गोपालदास परमानन्द [G.P.] सिप्पी

फेमस सिंधी फिल्म प्रोडूसर - डायरेक्टर

gp_sippyहिंदी फ़िल्मुन खे सिर्फ एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री तौर डिसण पूरी तरह सां सही कोन आहे छो जो हकीकत में बॉलीवुड उहो आईनो आहे जहिं में भारतीय समाज में आयिल सामाजिक तबदील जी साफ अं चिट्री तस्वीर डिसी सघजे थी। बॉलीवुड जी कामियाबी बाबत हिकु भेरो महान अदाकार अमिताभ बच्च्न चयो हो त फिल्मुं डायरेक्टर जो माध्यम आहिन अं जदिहिं बि डायरेक्टरन जो ज़िक्र थींदो त बेशुमार कामियाब फिल्मुं प्रोडूस अं डायरेक्ट कन्दड , कामियाबी जो नवों इतिहास लिखन्दड बेहद हुनरमंद जी पी सिप्पी जो नालो उन में ज़रूर शामिल हूंदो।

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में विमल रॉय खे फिल्म फेयर अवार्ड में बेस्ट डायरेक्टर अवार्ड हासिल करण जूं ब हैट्रिक [ १९५४-१९५५-१९५६ अं १९५९-१९६०-१९६१] ठाहिण वास्ते त राज कपूर खे हिंदी फ़िल्मुन खे दुनिया जी हर कुंड में पहुचायिण वास्ते याद कियो वेन्दो आहे त जी पी सिप्पी उहो शख्स आहे जहिं खे इहो जसु हासिल आहे त हिन अहिडी फिल्म [फिल्म शोले १९७५] ठाही जेका  न सिर्फ हिंदी फ़िल्मुन जे इतिहास में सभ खां वधीक कमायी कन्दड साबित थी पर रिलीज़ थियण जे ३० सालन खां बि वधीक अरसे खां पोय बि माणुहू जहिं खे वरी डिसण पसंद कन था। मज़े जी गालिह इहा बि आहे त फ़िल्मुन में अचण खां अगु गोपालदास परमानन्द सिप्पी जगहियुं ठाहिण अं होटल हलाइण जा धंधा करे चुको हो। 

१९५५ में रिलीज़ थिएल पहिरियीं फिल्म "मरीन ड्राइव " खां वठी १४ सितम्बर १९१४ ते जन्म वरतल गोपालदास परमानन्द सिपहमलानी - जी पी सिप्पी जी सभनी फ़िल्मुन में ब आम गालिहियुं नज़र अचन थियुं। पहिरियीं त हर फिल्म में कमु कन्दड फिल्म इंडस्ट्री जा नामवर स्टार्स अं हर दिल अज़ीज़ कलाकार अं बी हिन जो फिल्म जी कहाणी अं शूटिंग दौरान फिल्म जे सभनी चरित्रन खे सही नमूने पेश करण वास्ते मेहनत करण। फ़िल्मुन में बेहद मशगूल हूंदे बि हिन फ़िल्मी दुनिया जी संस्था "फिल्म एंड टीवी प्रोडूसर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया " वास्ते वक़्त कढियो अं चार भेरा संस्था जे चेयरमैन तौर कमु कियो।

१९६८ में फिल्म "ब्रह्मचारी" जी शूटिंग जे दौरान फिल्म जे डायरेक्टर भप्पी सोनी सां सिप्पी जो निफ़ाक़ थी वियो जहिं करे न सिर्फ इन फिल्म जे पूरे थियण में देर थी पर हिन जी बी फिल्म "बंधन" [राजेश खन्ना अं मुमताज़] जी शूटिंग बि वक़्त ते शुरू कोन थी सघी। हालतुन जे ख़राब हुअण जो अंदाज़ लगायिण वास्ते इहो काफी आहे त हिकु भेरो त हिन जे मन में फ़िल्मुन में कमु बंद करण जो विचार पिण आयो पर खुशकिस्मतीअ सां हालतुन में सुधार आयो। गोपालदास लंदन जे स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में पढ़ायी कन्दड पुट्र खे पहिंजी मदद वास्ते वापस घुरायो अं बिनहिं मिली फिल्म "सीता और गीता " जहिं में धर्मेंद्र, संजीवकुमार अं हेमा मालिनी जहिडा स्टार्स हुआ ठाही जेका १९७२ जी हिट फ़िल्मुन में शुमार थिये थी।

१९७५ जो साल सिप्पी फिल्म्स अं सिप्पी कुटुंब वास्ते बेशुमार कामियाबी वारो साल साबित थियो।  सलीम जावेद जी लिखियिल स्क्रिप्ट ते अमिताभ बच्च्न, धर्मेंद्र, संजीवकुमार, जया भादुड़ी, हेमा मालिनी जहिडियिन नामवर अदाकारन अं नयें चेहरे अमज़द खान जी सिप्पी फिल्म्स जी फिल्म शोले रिलीज़ थी अं फ़िल्मी दुनिया में कामियाबी जो हिकु नवों इतिहास लिखजियो।  मुंबई जे मिनर्वा थिएटर में फिल्म लागीता २८६ हफ्ता हली अं बॉलीवुड में कमायी जो रिकॉर्ड ठाहे हिंदी फ़िल्मुन जे इतिहास में सभ खां वधीक कामियाब साबित थी।  फिल्म जी कामियाबी जो आलम इहो आहे जो अजु ३० सालन खां बि वधीक अरसो गुजिरण खां पोय बि माणुहुन खे गब्बर जा डायलॉग "जो डर गया समझो मर गया " या "कितने आदमी थे ?" याद आहिन। 

१९९५ में रिलीज़ थियिल ज़माना दीवाना खां पोय जी पी सिप्पी फ़िल्मुन में कमु बंद करण जो फैसलों कियो हालांकि हिन जी प्रोडूस कियिल आखिरी फिल्म "हमेशा " १९९७ में रिलीज़ थी।  जी पी सिप्पी जी फिल्म्स खे ब भेरा बेस्ट फिल्म जो फिल्म फेयर अवार्ड मिली चुको आहे।  २००७ जो क्रिसमस [२५ दिसंबर ] जो डीहुं गोपालदास परमानन्द सिपहमलानी जी हयाती जो आखिरी डीहुं साबित थियो इन डीहं ते लीवर जी खराबी सबब हिन जो स्वर्गवास थियो। 

जी पी सिप्पी – फिल्मोग्राफी

जी पी सिप्पी जी फ़िल्मुन जी रिलीज़ थियण जे साल मुजीब लिस्ट - डायरेक्टर तौर अं प्रोडूसर तौर - हेठ डिजे थी।

डायरेक्टर तौर

Marine Drive :1955
Adl-E-Jahangir : 1955
Chandrakant : 1956
Shrimati 420 : 1956
Light House : 1958
Bhai Bahen : 1959
Mr. India : 1961

प्रोडूसर तौर

Andaz : 1971
Seeta Aur Geeta : 1972
Sholay : 1975
Trishna : 1978
Ahsas : 1979
Shan : 1980
Sagar : 1985
Bhrashtachar : 1989
Raju Ban Gaya Gentemen : 1992
Aatish : 1994
Zamaana Deewana : 1995
Hamesha : 1997