Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

महेश चन्दर

advertise here

Advertise Here

महेश चन्दर : सिंधी कलाम – ग़ज़ल गायक

mahesh_chanderसजी दुनिया में सिंधी कौम कहिं चमत्कार खे बि रोज़मराह जी ज़िंदगी जो हिसो बणायिण जी काबिलियत रखण वारी कौम जे रूप में मशहूर आहे।  सिंधी समाज जी हिन विरासती खासियत खे हकीकत जो रूप डियण जो ताज़ो मिसाल आहे गज़लुन जी दुनिया जो नामवर सिंधी गायक  महेश चन्दर। हालांकि इहा हकीकत आहे त सिंधी संगीत ऐं गायकी जे खेतर जी अजीमोशान शख्सियत मास्टर चन्दर जो पुट्र हुअण सबब संगीत ऐं गायकी महेश चन्दर जी आत्मा जो हिसो आहिन। 03 नवंबर 1942 ते सिंध जे थारूशाह ज़िले में जन्म वठण वारो महेश चन्दर मुल्क जे विरहांगे सबब स्कूल वञण जी उमिर पूरी करण खां अगु ई कुटुंब समेत भारत आयल आहे।  
हिक इंटरव्यू में पहिंजे बालपणे जा डीन्ह याद कन्दे महेश चन्दर चयो आहे " मुखे इहो त याद कोन्हे त संगीत ऐं गायिकी जी सिखिया डियण वास्ते मुहिंजे पिता मास्टर चन्दर कहिडियूं कोशिशूं कयूं ? मुखे बस इहो याद आहे 7 /8 सालन जी उमिर खां वठी हू मुखे पहिंजे हर प्रोग्राम में हिकु गीत गायिण वास्ते चवन्दा हुआ। " मास्टर चन्दर जे विरसे खे कायम रखण का सवली गालिह कोन आहे पर खुशकिस्मती सां पुरसोज आवाज़, सख्त रियाज़ ऐं बालपणे जे आज़मूदन महेश चन्दर खे इहो डुखियो कमु कामियाबी सां पूरो करे हरदिल अज़ीज़ सिंधी गायक जे ओज ते पहुचण में मदद कयी आहे।  अजु महेश चन्दर उहो सिंधी गायकी दुनिया जो उहो फनकार आहे जहिं खे कलाम ऐं ग़ज़ल गायिकी जे फन में महारत हासिल आहे।  हुन खे क्लासिकल म्यूजिक ऐं ग़ज़ल गायिकी जे फन जी सिखिया डियण वारन में पंडित लक्ष्मण प्रसाद ऐं गायक मदन प्रकाश जहिडिन शख़्सियतुन जो शुमार आहे। 
संगीत जी दुनिया जी मशहूर कंपनी HMV खे महेश चन्दर जो गायल  " सिलसिला ज़ुल्फ़ का जब रुख पे बिखर जाता है " रिलीज करण [1965] जो जसु हासिल आहे।  इन वक़त महेश सिर्फ उणवीहन सालन जो हो।  अगते हली महेश चन्दर इन कंपनी सां गायिकी जो 12 साल अरसे वारो कॉन्ट्रैक्ट कियो।  फिल्म "मयखाना" खां शुरू करे महेश चन्दर अटकल 25 फिल्म्स में पहिंजी ग़ज़ल गायिकी जो हुनर डेखारियो।  हकीकत में उषा खन्ना जे संगीत डिनिल "पत्थरों का शहर" महेश चन्दर खे बेशुमार मशहूरी हासिल करे डिनी। इन दौर में महेश चन्दर जो लाडो ग़ज़ल गायिकी ऐं संगीत जी दुनिया में कैरियर ठाहिण डांहुं हो पर पिता मास्टर चन्दर जो लिहाज़ कन्दे हुन सिंधी गीत "सिज उभिर न तूं, शाल रात हुजे " रिकॉर्ड करायो।  हिन गीत न सिर्फ महेश चन्दर खे हरदिल अज़ीज़ सिंधी गायकन  में शामिल करे छडियो पर संदस दिल में पिता जे  सिंधी संगीत ऐं गायिकी जो विरसो अगते वधायिण जी हुब ऐं ज़ज़्बे खे बि जन्म डिनो। 
पिता मास्टर चन्दर जे हयात हूंदे ई महेश चन्दर पहिंजो ग्रुप ठाहे देश विदेश में सिंधी गीत संगीत जा स्टेज प्रोग्राम डियण जी शुरुआत कयी।  केतिरिन संस्थाउन जी नेंड्र ते महेश चन्दर हांगकांग, जापान, मनीला, सिंगापुर, जकार्ता,कोलंबो, लन्दन, स्पेन,दुबई, अफ्रीका, अमेरिका ऐं कैनेडा जा दौरा करे 50 खां वधीक स्टेज प्रोग्राम कामियाबी सां पेश किया।  
कुछ अरसो अगु बॉलीवुड जी हिक बी मशहूर संगीत कंपनी टिप्स महेश चन्दर जो ऑडियो कैसेट "महेश चन्दर गाये मास्टर चन्दर जा कलाम " पेश कियो।  इन कैसेट बेशुमार कामियाबी त हासिल कयी पर गडोगडु नवजवान सिन्धियन में मास्टर चन्दर जे गीत संगीत वास्ते प्यास पैदा कन्दे महेश चन्दर खे पिता जे विरसे खे अगते वधाये सिंधी गीत संगीत ते वधीक ऐं वधीक ध्यान डियण वास्ते मज़बूर करे छडियो। ग़ज़ल ऐं सिंधी कलाम गायिकी खां सिवाय महेश चन्दर खे "हिक गालिह त बुध" ऐं "मिली वयी" जहिडिन कुछ सिंधी फिल्म्स जो संगीत तैयार करण जो जसु बि हासिल आहे।  हुन "शल धीउर न जमन " जहिड़ी कुछ सिंधी फिल्म्स में प्लेबैक सिंगर तोर तोड़े दूरदर्शन जे केतररन प्रोग्रामन वसीले पहिंजी संगीत खेतर जी घण हुनरी शख्सियत जी वाकफियत डिनी आहे।  

महेश चन्दर :: अवार्ड्स

महेश चन्दर जी हयाती में अहिड़ा बेशुमार मोका आया आहिन जो संदस सत्कार कियो वियो हुजे या अवार्ड डयी संदस इज़्ज़त अफजायी कयी वयी हुजे।  अहिड़ा के खास मोका आहिन : 
1976 में सुर सिंगार संसद पारां 
1992 में सहयोग फाउंडेशन पारां 
1993 में टिप्स कंपनी पारां - भगवन्ती नावाणी अवार्ड 
1995 में सिंधी इंटरनेशनल पंचायत पारां अवार्ड 
1998 में सुविधा फाउंडेशन पारां गौरव पुरस्कार 
2000 में अखिल भारत सिंधी बोली ऐं साहित्य सभा जयपुर पारां