Everlasting Blessings of Mata Dadanbai & Dr. Premchand Manghirmalani

बायोग्राफी

जीवन सफरनामे जी दुनिया – जीवनीयुं

bio_homeद सिंधु वर्ल्ड सिंधी समाज जे नामवर अं मशहूर शख़्सियतुन जी बायोग्राफी जो वड़े में वडो ऑनलाइन वसीलो पेश करे थो। सिंधी संतन खां शुरू करे, फिल्म अं टेलीविजन जे संसार जूं हस्तियूं , सिंधी एक्टर , सिंधी एक्ट्रेस , सिंधी प्रोडूसर डायरेक्टर्स - सिंधी अदब जा सूरमा मशहूर सिंधी लेखक , नामवर सिंधी कवी - सिंधी सियासतदान - सिंधी स्पोर्ट्स पर्सन्स अं इहो बायोग्राफी जो सिलसिलों सामाजिक कम कन्दडन अं धंधे में कामयाब सिंधियन तायीं फैलियल आहे। असां जो तमाम पुख्तो रायो आहे त बायोग्राफी या जीवनी कहिं बि शख़्सियत जो फ़क़त जीवन सफ़रनामो न आहे पर हक़ीक़त में बायोग्राफी डिनिल वक़्त जे अरसे में उन समाज / कम्युनिटी जे आर्थिक - सामाजिक हालतुन अं सांस्कृतिक जीवन जो आइनों आहे।  घणा ई भरा कहिं लासानी शख्सियत जी जीवनी नवजवान पीढ़ीअ  लाय तमाम सुठे नमूने राह देखारिईन्ड अं होसिलो वधाईन्ड साबित थिये थी। 

हिते असाँजी कोशिश भारत में रहन्दड सिंधियन ते वधीक ध्यान डियण जी आहे।  इहा हिक वडी कामयाबी आहे त सिंधी क़ौम जहिं खे मज़बूरीअ में सिंध छढे, विस्थापित थी अची अहिड़ी ज़मीं ते थायिंको थियणो पियो जा सिंधी सभ्यता अं संस्कृति जी मौजूदगीअ जे लिहाज़ खां कमज़ोर हुयी। तहिं खां सिवाय विस्थापित सिंधियन खे कहिं हिक हंद वसाये सिंधी विरसे खे मुफीद हालतूं मसयर करे डियण  बदरना सिंधियन खे भारत जे अलग अलग शहरन में जगह डिनी वयी।  इहा सिंधी कौम जी ज़िंदह रहण जी ख्वाइश अं जफ़ाकशी करण जी सलाहियत जी लासानी कामयाबी आहे जो थोरे ई वक़्त में खाली हथें बेसिरोसामन विस्थापित थियल सिंधी अजु भारत में बॉलीवुड [हिंदी फिल्म्स ] जा वढा फायनेंसर्स, शेयर बाजार जा नामवर नाला, लगभग हर शहर जा कामयाब वापारी आहिन। स्पोर्ट्स, सियासत जहिड़ियन खेत्रन में के थोरा ई सिंधी अगते आया आहिन पर आम तौर सभु कामयाबीअ जी बुलन्दीअ ते आहिन।  

सिंधी शान

जदहिं असां सिंधी कौम जी लासानी कामयाबीअ जी गालिह क्यूँ था त दर हक़ीक़त में असां गुजरियल ७० सालन जे अरसे में सिंधी कौम जी जफ़ाकशी, तक़्लीफ़ून अं डुख सही बि कामयाबीअ जी राह ते अगते वधण जी सलाहियत जी गालिह क्यूँ था।  खाली हथें आयल सिंधियन जो मुल्क जी वढी माली ताक़त बणजण जो सफर सवलो न हो।  इन सफर में केतरन ई निस्वार्थ भाव सां कौम जी बहबूदी अं वाधारे लाय बिना कहिं खानगी फायदे जे लासानी कोशिशयूं कयूँ।  ऐतरो ई न इन्हिन मां घणन खे का रिकगिनेशन [सुणाप] भी कान मिली। जाहिं महल असां सुणाप अखर कम आणियूँ था त उनजो मतलब आहे शुकुरगुज़ार थियण जी भावना जा समाज इन्हिन शख्सन बाबत ज़ाहिर करे थो।  दर हक़ीक़त में डिसजे त सुणाप कम कन्दड जी होसिलाफ़ज़ाई खां वधीक बियन खे समाजिक कमन में अगरो रहण लाय प्रेरणा डिये थी।  

टीम द सिंधु वर्ल्ड न सिर्फ इन्हिन अणजातल सुणप खां महरूम लासानी सिंधियन जी कोशिशन खे सलाम करे थी पर गडोगडु इन्हिन समाज सेवकन खे "सिंधी शान " जे लक़ब सां नवाजे हर हिक शहर जे पेज ते इन्हिन जी जाण डियण जी पूरी पूरी कोशिश कंदी। असां जी कोशिश रहन्दी त भारत में जावल सिंधियन ते वधीक ध्यान डियुं। इहो पिण मुमकिन आहे त इन्हिन मां के अहिडीयुं शख्सियतुं निकरन जिन लाय "सिंधी शान " लक़ब नाकाफ़ी लगे अहिडियन शख्सियतुन वास्ते असां बायोग्राफी सेक्शन में हिक कैटेगरी "सिंधु रत्त्न " शामिल कयी आहे।

सतनाम वाहेगुरु
एस. पी. सर
०१-०६-२०१६